Neeta Mehta

हाउसवाइफ बनी फूड कंपनियों की मालकिन, जानें नीता मेहता की सक्सेज स्टोरी

254 0

नई दिल्ली। भारतीय समाज में हाउसवाइफ को घर के कामों तक ही सीमित कर दिया गया है। उनसे बिजनेस या जॉब की उम्मीदें बहुत कम ही होती है। हालांकि, इन धारणाओं को समय के साथ महिलाएं गलत ठहराती आईं हैं, फिर चाहे वो कोई भी क्षेत्र हो। ग्रहणी महिलाएं घर से लेकर बाहरी दुनिया दोनों को ही बखूबी से चल सकती हैं। कभी हाउस वाइफ रहने वाली शेफ नीता मेहता (Neeta Mehta) भी उन महिलाओं में से एक है। नीता (Neeta Mehta) की इंस्पायरिंग स्टोरी बताएंगे, जो हर ग्रहणी को इंस्पायर करेगी। तो आइए जानते हैं नीता मेहता के बारे में-

कौन हैं नीता मेहता (Neeta Mehta)-

कुकिंग की दुनिया में नीता मेहता (Neeta Mehta) एक नामी चेहरा हैं। वो एक शेफ होने के साथ-साथ कॉलमिस्ट, लेखिका, रेस्टोरेंटियर, राइटर हैं। बता दें कि उन्होंने कुकिंग से जुड़े कई शोज को भी होस्ट किया है और कई फेमस कुकरी बुक्स भी लिख चुकी हैं। कभी हाउसवाइफ रहने वाली नीता, आज नामी बिजनेस फर्म्स की मालकिन हैं।

पति का हाथ बटाने से हुई थी काम की शुरुआत-

एक सफल ग्रहणी से लेकर बड़े-बड़े बिजनेस की मालकिन तक का सफर नीता (Neeta Mehta) के लिए इतना आसान नहीं था। बात साल 1982 की नीता के पति का दवाइयों का बिजनेस था, मगर उससे घर में कोई भी कमाई नहीं हो पा रही थी। ऐसे में नीता ने अपने पति का हाथ बटाने का फैसला किया। जिसके लिए उन्होंने कुकिंग क्लास की शुरुआत की। एक समय ऐसा था, जब नीता ने मात्र 100 रुपये की फीस में स्टूडेंट्स को खाना बनाना सिखाया।

story of chef neeta meta

पहले से कुकिंग का शौक-

नीता (Neeta Mehta) का मानना है कि कुकिंग का सारा श्रेय उनकी मां को जाता है, क्यों कि वो भी बहुत स्वादिष्ट खाना बनाती थीं। नीता अपनी कोचिंग में आइसक्रीम बनाना सिखाती थीं। उस समय मार्केट में निरूला की 21 फ्लेवर वाली आइसक्रीम काफी डिमांड में थी, ऐसे में नीता जानती थी, कि लोग घर में भी आइसक्रीम बनाना सीखना चाहते हैं। आइसक्रीम में एक्सपर्ट होने के बाद नीता ने क्वीजीन रेसिपी सिखाना शुरू कर दिया।

अपनी बेटी के सपनों को साकार करने के लिए मां ने चलाया पराठे का स्टॉल

फेमस सेलेब्रिटी बन गईं शेफ नीता मेहता (Neeta Mehta)-

समय के साथ शेफ नीता की क्लासेज और भी ज्यादा फेमस होने लगी। इससे उत्साहित होकर नीता के दोस्तों ने उन्हें अपनी किताब छपवाने के लिए प्रोत्साहित किया। तब जाकर में साल 1992 में नीता ने अपनी पहली किताब ‘वेजिटेरियन वंडर्स’ लिखी, किताब को पब्लिश कराने के लिए नीता के पति ने अपनी एफडी तुड़वा दी। नीता की इस किताब ने कमाल कर दिया, उस साल नीता की करीब 3,000 कॉपियां बिकी, जिस कारण वो और भी फेमस होती गईं। बुक की सक्सेज के बाद नीता ने और अन्य किताबों को छपवाने के बारे में सोचा, बता दें कि अब तक उनकी 400 किताबें छप चुकी हैं, उनकी एक किताब ‘फ्लेवर्स ऑफ इंडियन कुंकिंग’ को पेरिस विश्व कुक बुक फेयर अवार्ड से सम्मानित किया गया।

मेहनत के बाद बनीं मल्टी बिजनेस वूमन (Neeta Mehta)-

जब शेफ नीता की किताबें फेमस होने लगीं, तब उन्होंने अपना खुद का प्रकाशन खोल लिया। जिसके साथ ही वो 1994 में स्नैब पब्लिशर्स की मालकिन हो गईं, उन्होंने बच्चों से जुड़ी कई बुक्स का भी पब्लिकेशन किया। स्नैब प्रकाशन की शुरुआत 4 लाख से हुई थी, मगर आज यह फर्म करोड़ों रुपये कमाती हैं।

पब्लिकेशन के बाद उन्होंने मसालों के बिजनेस में अपना हाथ आजमाया, जहां पर उन्हें काफी कामयाबी मिली। नीता कभी भी अपने खाने में बाहर के मसाले नहीं डालती थीं, उसकी जगह नीता घर पर पीस कर मसाला तैयार करती थी। बता दें की तारीख में नीता के इस ब्रैंड वैल्यू काफी ज्यादा बढ़ गई है। इन सबसे के अलावा नीता आज भी स्टूडेंट्स को कुकिंग क्लासेज देती हैं। यूट्यूब पर आपको नीता मेहता का चैलन मिल जाएगा, जिसे आप देखकर कई रेसिपीज ट्राई कर सकते हैं।

ए आर रहमान की बेटी खतीजा का हुआ निकाह, सामने आई तस्वीरें

Related Post

पहली बार ये महिलाएं एक साथ मिलकर अंतरिक्ष में करेंगी चहलकदमी

Posted by - October 6, 2019 0
वर्ल्ड डेस्क। इतिहास में ऐसा पहली बार होगा जब दो महिला एस्ट्रोनॉट्स एकसाथ अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन (ISS) के बाहर स्पेसवॉक…

जमीयत सह-शिक्षा के खिलाफ, कहा- गैर-मुस्लिम बेटियों को लड़कों के साथ न पढ़ाएं, अनैतिकता से बचाएं

Posted by - August 31, 2021 0
जमीयत उलेमा-ए-हिंद के प्रमुख मौलाना अरशद मदनी ने  कहा कि गैर-मुस्लिम लोगों को बेटियों को सह-शिक्षा देने से सोचना चाहिए…