परिवार से की बगावत कर मेरठ की बेटी बन गई पीसीएस अफसर

607 0

लखनऊ। मेरठ की एक लड़की परिवार से बगावत की। यह बात सुनकर सभी लोग लड़की को कोसने लगेगें, लेकिन अगर यह बगावत कर जब कोई इंसान मंजिल फतेह कर लेता है तो सब चुप हो जाते हैं।

इस तरह की कहानी हाल ही यूपी पीसीएस 2018 की परीक्षा में कमर्शियल टैक्स अफसर के पद पर चयनित होने वालीं संजू रानी वर्मा की है। शास्त्रीनगर के सिद्धार्थनगर में किराए पर रहने वाली संजू रानी वर्मा ने 10वीं से बीए तक की पढ़ाई आरजी कॉलेज (यूपी बोर्ड) से की। अब वह एमए सोशोलॉजी प्राइवेट कर रही हैं।

सोने की कीमत में मामूली गिरावट, जबकि चांदी उछली

सात भाई-बहनों में पांचवें नंबर की है। साल 2013 में पिता उमेश चंद्र शास्त्री का एक्सीडेंट हो गया, इसके बाद वे कोमा में चले गए। साल 2013 में मां का निधन होने के बाद भाइयों ने विवाद करना शुरू कर दिया। इसके बाद संजू ने प्राइवेट स्कूल में पढ़ाना शुरू किया। बड़ी बहन और छोटी बहन जो बोल नहीं सकती है, उनको लेकर किराए पर रहने लगीं। सिविल एकेडमी इंस्टीट्यूट में कोचिंग में पढ़ाते हुए खुद भी पढ़ाई की।

जल्द ही शादी कर देना चाहते थे परिवारवाले

बता दें कि संजू ने साल 2004 में उन्होंने ग्रेजुएशन किया। घरवाले उनकी शादी करना चाहते थे, लेकिन वह आगे पढ़ना चाहती थीं। उन्होंने अपनी इच्छा जाहिर की। पर परिवारवाले शादी के लिए लगातार दबाव बनाते रहे। फिर एक दिन उसने अपना घर ही छोड़ने का फैसला कर लिया।

सिविल सर्विस की तैयारी शुरू

फिर उन्होंने सिविल सर्विसेज की तैयारी शुरु की। सात वर्षों बाद उनकी मेहनत रंग लाई। उन्होंने पीसीएस परीक्षा पास कर ली। यहां तक कि इस तैयारी के दौर में उन्होंने ट्यूशन भी पढ़ाया। खर्चा चलाने के लिए प्राइवेट नौकरी भी की। पर पढ़ाई जारी रखी। पढ़ने के लिए वह समय जरूर निकालतीं।

संजू अब आईएएस की कर रही हैं तैयारी 

फिलहाल संजू अब आईएएस की तैयारी कर रही हैं। उनकी ये ख्वाहिश है कि एक दिन वह मेरठ की ही कलेक्टर बनें।वह आईएएस बनकर देश में फैली कुरीतियों को दूर करना चाहती हैं।

Loading...
loading...

Related Post

वायरोलॉजिस्ट रीतिका ठाकुर

कोरोना वारियर्स : वायरोलॉजिस्ट रीतिका ठाकुर धनबाद मेडिकल कॉलेज में फ्री में दे रहीं हैं सेवा

Posted by - July 26, 2020 0
नई दिल्ली। कोरोना काल में जहां अपने भी पराए हो गए हैं। तो वहीं वायरोलॉजिस्ट रीतिका ठाकुर ने मानवता की…