ब्रिटेन: अंडे, शुक्राणु और भ्रूण अब 55 साल तक सुरक्षित रखे जाएंगे !

421 0

सरकार ने बताया कि इस साल जनता से ली गई सलाह के आधार पर वह अंडाणु, शुक्राणु और एम्ब्रियो (भ्रूण की शुरुआती अवस्था) को मौजूदा दस साल सुरक्षित रखने की मियाद को सभी के लिए 10 साल की नवीनीकरण अवधि के आधार पर सुरक्षित रखने का प्रस्ताव संसद में पेश करेगी। नए प्रस्ताव में इस अवधि को अधिकतम 55 साल तक बढ़ाने का प्रावधान होगा।

ब्रिटेन में अंडे, शुक्राणु और भ्रूण भंडारण की समय-सीमा बढ़ेगी। सार्वजनिक परामर्श के बाद अब सरकार संसद में प्रस्ताव लाएगी। नई व्यवस्था के अंतर्गत संभावित माता-पिताओं को हर दस साल के अंतराल में अंडे, शुक्राणु और भ्रूण को भंडारित रखने या नष्ट करने का विकल्प दिया जाएगा। इस प्रकार स्टोरेज का हर दस साल में नवीनीकरण होगा।

ब्रिटिश स्वास्थ्य मंत्री साजिद जाविद ने बताया, सरकार के इस फैसले से नागरिकों को परिवार नियोजन की तैयारियों के लिए ज्यादा समय मिल सकेगा। साथ ही उन्हें प्रजनन और समानता के लिए ज्यादा आजादी मिलेगी क्योंकि चिकित्सकीय जरूरतों के हिसाब से ही स्टोरेज सीमा निर्धारित नहीं होगी। उनका कहना है, बीते कुछ वर्षों में एग फ्रीजिंग में तकनीकी सफलताओं ने समीकरण बदल दिए हैं, जिनसे संभावित माता-पिता ज्यादा सशक्त हुए हैं।

स्वास्थ्य व सामाजिक देखभाल विभाग के मुताबिक, मॉडर्न फ्रीजिंग तकनीक के जरिए अंडे, स्पर्म और भ्रूणों को बिना दुष्प्रभाव के अनिश्चितकाल तक सुरक्षित रखा जा सकता है। ब्रिटिश फर्टिलिटी सोसायटी के डॉ राज माथुर ने सरकार के प्रस्ताव का स्वागत किया है।

केरल हाई कोर्ट: विवाह पंजीकरण अब दुल्हा-दुल्हन के उपस्थित हुए बिना संभव!

उनका कहना है, स्टोरेज समयसीमा का विस्तार सामान्य जोड़ों के साथ-साथ गंभीर बीमारियों के शिकार मरीजों के लिए भी फायदेमंद होगा। साथ ही इस फैसले से थर्ड पार्टी डोनर्स के पास भी विकल्प होंगे। ह्यूमन फर्टिलाइजेशन एंड एम्ब्रियोलॉजी अथॉरिटी की अध्यक्ष जूलिया चेन का कहना है, जितनी जल्दी एक महिला अपने अंडे फ्रीज करती है बाद में सफल आईवीएफ गर्भधारण की संभावना भी उतनी ही बेहतर होती है।

Divyansh Singh

मिट्टी का तन, मस्ती का मन; छड़ भर जीवन, मेरा परिचय।

Related Post

Corona virus

कोरोना वायरस के कारण हाथों की सफाई को लेकर बढ़ी जागरूकता : डाॅ. कीर्ति विक्रम

Posted by - October 14, 2020 0
लखनऊ। इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) क्षेत्रीय केन्द्र, लखनऊ द्वारा मानसरोवर योजना, दुबग्गा, लखनऊ स्थित मलिन बस्ती में ‘ग्लोबल…