गोसाईंगंज के बरुआ गांव के कुएं में गिरा कर किशोर की मौत

गोसाईंगंज के बरुआ गांव के कुएं में गिरा कर किशोर की मौत

120 0

गोसाईंगंज में घर के बाहर खेल रहा किशोर अनियंत्रित होकर कुएं में गिर गया। उसके साथियों ने इसकी सूचना घरवालों को दी। ग्रामीणों ने काफी कोशिश की लेकिन उसे बाहर नहीं निकाल सकी। इस पर पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस ने आनन-फानन फायर पुलिस को जानकारी दी। इसके बाद रेस्क्यू करके किशोर को बाहर निकाला गया। फिर, उसे अस्पताल ले जाया गया, लेकिन डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। गोसाईंगंज के बरुआ गांव निवासी किसान नरेंद्र वर्मा का बड़ा बेटा विवेक मानसिक रुप से बीमार रहता था। शुक्रवार को वह कुछ बच्चों के साथ घर के बाहर खेल रहा था। घर से कुछ दूर कुएं के पास दौडऩा-पकडऩा खेल रहे थे। बताया जा रहा है कि खेलते खेलते विवेक कुएं के पास पहुंच गया। वह अनियंत्रित होकर कुएं में गिर गया। उसकी चीख-पुकार सुनकर साथियों ने उसके घर पर सूचना दी।

मिशन शक्ति के तहत पुलिस ने छात्राओं को दिए सुरक्षा के संदेश

 

फायर पुलिस ने उपकरणों की मदद से बाहर निकाला

ग्रामीणों ने कुएं से विवेक को बाहर निकालने का काफी प्रयास किया लेकिन वह सफल नहीं हो सके। इस पर लोगों ने डॉयल-112 पर सूचना दी। इस पर पुलिस मौके पर पहुंची लेकिन वह भी विवेक को बाहर निकालने में असमर्थ दिखाई दी। इस पर फायर पुलिस को सूचना दी गई। फायर पुलिस उपकरणों की मदद से कुएं में उतरी और जख्मी विवेक को बाहर निकाला। पुलिस ने आनन-फानन उसे अस्पताल में भर्ती कराया, लेकिन डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। विवेक की मौत से घर में कोहराम मच गया।

प्रधान की लापरवाही से हुआ हादसा

विवेक की मौत से गांव वालों में काफी रोष है। उनका आरोप है कि ग्राम प्रधान से कई बार खुले हुए कुएं के पास दीवार निर्माण कराने को कहा गया। लेकिन उसने कोई तव्वजों नहीं दी। यहीं नहीं उसने कुएं पर पत्थर भी रखवाना उचित नहीं समझा। लोगों ने बताया कि इससे पहले भी खुले हुए कुएं में गिरकर एक युवक की मौत हो चुकी है। उनका कहना है कि अगर ग्राम प्रधान लापरवाही न दिखाते तो विवेक शायद जिंदा होता। किसान नरेंद्र के परिवार में बेटी तोसी और छोटा बेटा यश है।

Loading...
loading...

Related Post