शाहीन बाग

शाहीन बाग: नवजात की मौत पर सुप्रीम कोर्ट ने स्वत संज्ञान लेते हुए की सुनवाई

607 0

नई दिल्ली। पिछले करीब दो महीने से दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में लगातार धरना-प्रदर्शन हो रहा हैं। इसी धरना-प्रदर्शन के दौरान चार माह के नवजात बच्चे की मौत भी हो गयी थी। जिसपर आज सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने स्वत संज्ञान लेते हुए सुनवाई की।

प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति बी आर गवई और न्यायमूर्ति सूर्यकांत की पीठ ने चार महीने के बच्चे की मृत्यु के मामले का स्वत: संज्ञान लिए जाने पर कुछ वकीलों द्वारा आपत्ति किए जाने पर कड़ा रुख अपनाया। कोर्ट ने तल्ख टिप्पणी करके हुए याचिकाकर्ता के वकील से पूछा कि बच्चे की मौत के लिए सरकार जिम्मेदार कैसे है।

इस मामले में कोर्ट ने वकील को फटकार भी लगाई। पीठ ने इस मामले में पेश महिला अधिवक्ताओं से सवाल किया, ‘क्या चार माह का बच्चा इस तरह के विरोध प्रदर्शनों में हिस्सा ले सकता है?’ सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि चार महीने के बच्चे जैसे अवयस्कों को विरोध प्रदर्शन स्थल पर ले जाना उचित नहीं था।

शीर्ष अदालत ने राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार विजेता जेन गुणरत्न सदावर्ते द्वारा लिखे गए पत्र के आधार इस घटना का स्वत: संज्ञान लिया। सदावर्ते ने इस पत्र में कहा था कि किसी भी प्रकार के विरोध प्रदर्शन और आन्दोलनों में अवयस्कों के हिस्सा लेने को प्रतिबंधित किया जाए। शीर्ष अदालत ने इस मामले में केन्द्र और दिल्ली सरकार को नोटिस जारी कर उनसे जवाब मांगा है।

किम जोंग ने अपनी बहन को दहेज में इतनी कीमती चीज देने का किया ऐलान, रखी शर्त

पीठ ने इस विरोध प्रदर्शन में शामिल होने वाले बच्चों को उनके स्कूलों में ‘पाकिस्तानी’ और ‘राष्ट्र विरोधी’ बताए जाने के बारे में दो महिला अधिवक्ताओं के बयान पर भी दु:ख व्यक्त किया।

पत्र में कहा, ‘हम नहीं चाहते कि लोग समस्याओं को और बढ़ाने के लिए इस मंच का इस्तेमाल करें।’ पीठ ने इस बात पर अप्रसन्नता व्यक्त की कि वकील उसके द्वारा स्वत: संज्ञान लिए गए मुद्दे से भटक रहे हैं।

पत्र में कहा, ‘हम सीएए या एनआरसी पर विचार नहीं कर रहे हैं। हम स्कूलों में पाकिस्तानी जैसी गालियों पर भी विचार नहीं कर रहे हैं।’ पीठ ने स्पष्ट किया कि वह किसी की भी आवाज नहीं दबा रही है।

पत्र में कहा, ‘हम किसी की आवाज नहीं दबा रहे हैं। यह शीर्ष अदालत द्वारा सही तरीके से की जा रही स्वत: संज्ञान की कार्यवाही है।’ दो महिला अधिवक्ताओं ने कहा कि वे पत्रकार और कार्यकर्ता जॉन दयाल तथा दो बच्चों की मां की ओर से इस मामले में हस्तक्षेप करना चाहती हैं।

Related Post

स्वराज सेनानी सम्मेलन

स्वराज सेनानी सम्मेलन में दिखा एकल अभियान के सेवाव्रतियों का अद्भुत संगम

Posted by - February 18, 2020 0
लखनऊ। राजधानी लखनऊ में आयोजित तीन दिवसीय स्वराज सेनानी सम्मेलन सम्पन्न हो गया। सम्मेलन में 20 हजार गांवों से सभी…
CM Vishnu Dev Sai

छत्तीसगढ़ में 7 सीटों सहित चुनाव संपन्न, मुख्यमंत्री ने जताया मतदाताओं का आभार

Posted by - May 7, 2024 0
रायपुर। लोकसभा चुनाव के अंतर्गत आज तृतीय चरण में छत्तीसगढ़ की 7 सीटों दुर्ग, रायपुर, बिलासपुर, कोरबा, रायगढ़, सरगुजा, जांजगीर-चांपा…
CM Mamta

ममता बनर्जी के नंदीग्राम में मतदान के दौरान लगाए गए आरोप ‘तथ्यात्मक रूप से गलत’ – EC

Posted by - April 4, 2021 0
नई दिल्ली। बंगाल विधानसभा चुनाव में पिछले हफ्ते नंदीग्राम में एक पोलिंग बूथ पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) का…

प्रियंका ने मैगजीन के लिए करवाया ऐसा फोटोशूट, हुई वायरल

Posted by - June 6, 2019 0
इंटरटेनमेंट डेस्क। प्रियंका चोपड़ा अपनी वेडिंग लाइफ खूब एंज्वॉय कर रही हैं।अक्सर उन्हें पति निक जोनस के साथ घूमते-फिरते देखा…
PM Modi

कितनी ही धमकी दे दो, भ्रष्टाचारियों को जेल जाना ही होगा: मोदी

Posted by - April 11, 2024 0
करौली : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Modi) ने कांग्रेस पर तुष्टिकरण की राजनीति करने एवं उसके परिवारवाद एवं भ्रष्टाचार में डूबने…