पेगासस जैसे खुलासे से पीएम घबराने वाले नहीं, ‘क्लीन चिट’ का काफी पुराना अनुभव है!- पत्रकार

344 0

इजराइली स्पाइवेयर पेगासस के जरिए भारत के पत्रकारों, नेताओं और अधिकारियों के फोन टैप करवाए जाने का मामला चर्चा का विषय बना हुआ है।इस पर पत्रकार विष्णु नागर ने मोदी सरकार पर तंज कसा, उन्होंने लिखा-  मजबूर हो कर सरकार को जांच करवाना भी पड़ा तो इतनी ‘शानदार जांच’ करवाएंगे कि उसमें उन्हें ‘क्लीन चिट’ मिलकर रहेगी। उन्होने  लिखा- जांच का एक सीनेरियो यह भी हो सकता है कि मोदी जी जांच करने वाले की नियुक्ति में छह महीने लगा देंगे।

उन्होंने कहा- सरकार को हर बार ‘क्लीन चिट’ किसी आयोग से चाहिए भी नहीं। गोदी मीडिया की क्लीन चिट ही काफी है। भागवत जी दे दें तो वह ‘मोर देन इनफ’ है। पत्रकार ने तंज कसते हुए कहा- पोल खोलने वालों समझ लो, ये पोलप्रूफ मोदी जी हैं। ऐसे-वैसे प्रधानमंत्री नहीं हैं कि आरोप लगे तो भी वे अपने को बचा न पाएं।

और मान लो, उन्हें मजबूर होना पड़ा कि जांच करवाना है तो वह इतनी ‘शानदार जांच’ करवाएंगे कि उसमें उन्हें ‘क्लीन चिट’ मिलकर रहेगी, जिसे लेकर वे 2024 में शहर-शहर घूमेंगे।लो जी हो गई जांच। उन्हें जांच करवाकर ‘क्लीन चिट’ लेने का काफी पुराना अनुभव है। वह जानते हैं कि किन तिलों से तेल किस विधि निकलता है। उन्हें इससे कोई लेनादेना नहीं है कि पेगासस की फ्रांस या इजरायली जांच का नतीजा क्या निकलता है। जो निकलता है, निकलता रहे। वह जानते हैं कि जो भी निकलेगा, वह ‘क्लीन चिट’ के खिलाफ ही होगा। उसकी परवाह क्यों करें? अरे हम स्वदेशी हैं, आत्मनिर्भर हैं। हम जांच के उनके विदेशी चोंचलों से प्रभावित क्यों हों? हम नकलची होते तो क्या कभी जगद्गुरु बन पाते?

भड़के मुकेश सहनी, कहा- एनडीए में मुझे और मांझी को नहीं मिलती इज्जत, अब सोचने की जरूरत

पेगासस जांच का एक सीनेरियो यह भी हो सकता है कि अंततः उन्होंने जांच की मांग मान ली। विपक्ष इससे खुश हो गया। उसने अपनी विजय की दुंदुभि बजा दी। उधर मोदी जी जांच करने वाले की नियुक्ति में छह महीने लगा देंगे। जांच करने वाले को नियुक्त कर दिया तो जांचकर्ता को दफ्तर नहीं मिलेगा। दफ्तर मिल गया तो क्लर्क, कागज, कंप्यूटर, पेंसिल, कंप्यूटर ऑपरेटर नहीं मिलेगा। इसमें एक साल गुजर जाएगा। तब काम शुरू होगा। चूंकि जांच का काम सावधानी का है, बहुस्तरीय है, ‘निष्पक्षता’ की मांग करता है, इसलिए आयोग को विदेश जाना पड़ेगा। इस तरह 2024 आ जाएगा- ‘क्लीन चिट’ मिलने का वर्ष।

Divyansh Singh

मिट्टी का तन, मस्ती का मन; छड़ भर जीवन, मेरा परिचय।

Related Post

आपराधिक मानहानि मामले में अपना बयान दर्ज कराने गुजरात पहुंचे राहुल गांधी

Posted by - June 24, 2021 0
अवमानना मामले में कांग्रेस नेता राहुल गांधी आज गुजरात में मजिस्ट्रेट की अदालत के समक्ष पेश होने के लिए सूरत…

सुप्रीम कोर्ट का सुप्रीम आदेश – ‘दो सप्ताह के भीतर मिले बिल्किस बानो को नौकरी, आवास, मुआवज़ा’

Posted by - September 30, 2019 0
नई दिल्ली। 2002 में गुजरात दंगे के दौरान अहमदाबाद के निकट हिंसक भीड़ के हमले में गर्भवती बिल्किस बानों से…

अकाउंट लॉक कर सकते हो मगर मेरी आवाज बंद नहीं कर सकते-राहुल का सरकार पर हमला जारी

Posted by - August 13, 2021 0
कांग्रेस नेता राहुल गांधी का ट्वीटर अकाउंट ब्लॉक कर दिए जाने के बाद भी केंद्र सरकार और उनकी नीतियों पर…

UP ब्लॉक प्रमुख चुनाव: हिंसा का नाम बदल रख दिया गया ‘मास्टरस्ट्रोक’- राहुल का योगी पर वार

Posted by - July 10, 2021 0
यूपी में ब्लॉक प्रमुख चुनाव के नामांकन के दौरान गुरुवार को भारी अराजकता हुई थी। इस दौरान कई जगह हिंसा,…