imran-khan

पाकिस्तान : कंगाली और महंगाई की मार से जूझ रही जनता को देखकर इमरान ने हारकर भारत संग व्यापार को दी मंजूरी

98 0
इस्लामाबाद । पाकिस्तान कोराना वायरस, कंगाली और महंगाई की मार जूझ रहा है। पाकिस्तान में चीनी की बढ़ती कीमतों और संकटों से जूझ रहे कपड़ा उद्योग को बचाने के लिए पाकिस्तान की इमरान खान सरकार ने हारकर बुधवार को भारत के साथ संबंध सुधारने की दिशा में पहला कदम रखा है।
इमरान सरकार ने भारत और पाकिस्तान के बीच दो साल से ठप्प व्यापार (Trade Ties With India) एक बार फिर शुरू करने को हरी झंडी दी है। पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट से यह जानकारी मिली।

पाकिस्तान की आर्थिक मामलों से जुड़ी कैबिनेट की बैठक में इमरान खान सरकार ने भारत के साथ व्यापार (Trade Ties With India) शुरू करने पर फैसला लिया है। इससे पहले, अगस्त 2019 में जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने के बाद पाकिस्तान ने भारत से नाता तोड़ लिया था। पाकिस्तान सरकार चीनी और कपास का आयात ऐसे समय पर करने जा रही है, जब इन दोनों के लिए पाकिस्तान को काफी मशक्कत करनी पड़ रही है।

इमरान ने मोदी की चिट्टी के जवाब में लिखी पाती 

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने अपने भारतीय समकक्ष नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिख कर कहा कि जम्मू कश्मीर मुद्दा सहित दोनों देशों के बीच लंबित सभी मुद्दों का समाधान करने को लेकर सार्थक और नतीजे देने वाली वार्ता के लिए अनुकूल माहौल बनाना जरूरी है। खान ने यह पत्र पाकिस्तान दिवस के मौके पर पिछले सप्ताह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा उन्हें भेजी गई बधाइयों के जवाब में लिखा है।

मोदी ने रखी थी इमरान के सामने ये शर्त 

मोदी ने अपने पत्र में कहा था कि पाकिस्तान के साथ भारत सौहार्द्रपूर्ण संबंधों की आकांक्षा करता है, लेकिन विश्वास का वातावरण, आतंक और बैर रहित माहौल इसके लिए अनिवार्य है।

प्रधानमंत्री मोदी के पत्र के जवाब में खान ने उनका शुक्रिया अदा किया। साथ ही कहा कि पाकिस्तान के लोग भारत सहित सभी पड़ोसी देशों के साथ शांतिपूर्ण सहयोगी संबंध की आकांक्षा करते हैं। आतंक मुक्त माहौल पर खान ने कहा कि शांति तभी संभव है, यदि कश्मीर जैसे सभी लंबित मुद्दों का समाधान हो जाए।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने 29 मार्च को लिखे पत्र में कहा, ”हम इस बात से सहमत हैं कि खासतौर पर जम्मू कश्मीर विवाद जैसे भारत और पाकिस्तान के बीच लंबित सभी मुद्दों के समाधान पर दक्षिण एशिया में टिकाऊ शांति एवं स्थिरता निर्भर करती है।”

खान ने कहा कि सार्थक एवं नतीजे देने वाली वार्ता के लिए अनुकूल माहौल बनाना जरूरी है। उन्होंने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में भारत के लोगों को शुभकमानाएं भी दीं।

बता दें कि हाल ही में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री और सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने भारत की तरफ शांति का हाथ बढ़ाते हुए कहा था कि वक्त आ गया है कि दोनों पड़ोसी देश अतीत को भुला दें और आगे बढ़ें।

Related Post

एफएटीएफ की बैठक में पाकिस्तान को लग सकता है बड़ा झटका, जानें कैसे

Posted by - October 10, 2019 0
वर्ल्ड डेस्क। एफएटीएफ की बैठक में पाकिस्तान को ब्लैकलिस्ट किया जा सकता है।एक सप्ताह बाद पाक को बड़ा झटका लगेगा…
सैम पित्रोदा

सैम पित्रोदा फिर बोले- बालाकोट एयर स्ट्राइक पर दिया मेरा बयान था सच

Posted by - April 20, 2019 0
नई दिल्ली। कांग्रेस के रणनीतिकार और ओवरसीज कांग्रेस चीफ सैम पित्रोदा ने एक बार फिर बालाकोट एयरस्ट्राइक पर बड़ा बयान…