Naimisharanya

काशी के तर्ज पर अब सीतापुर का नैमिषारण्य धाम भी संवरेगा

216 0

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ऐतिहासिक धामों को सवारने का काम तेजी से कर रही है। काशी, अयोध्या और मथुरा के तर्ज पर अब सीतापुर जिले में स्थित नैमिषारण्य धाम (Naimisharanya Dham) भी संवरेगा। सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर नैमिषारण्य तीर्थ क्षेत्र के विकास के लिए चार चरणों में कार्य योजना बनाई । पहले फेज में चक्र तीर्थ, मां ललिता देवी मंदिर, दधिचि कुंड और सीता कुंड का विकास किया जाएगा। दूसरे फेज में दधिचि कुंड, देवदेश्वर मंदिर, रुद्रावर्त महादेव और काशी कुंड का विकास होगा। इसके अलावा शहरी और क्षेत्रीय विकास के लिए अलग से कार्य योजना तैयार की गई है।

नैमिषारण्य पहुंचने के लिए जल्द लखनऊ से सीतापुर तक इलेक्ट्रिक बस और हेलिकॉप्टर सेवा भी शुरू की जाएगी। नैमिषारण्य को वैदिक शहर, आध्यात्मिक और धार्मिक पर्यटन के लिए वैश्विक केंद्र के रूप में विकसित किया जाएगा। सभी कुंडों में स्वच्छ जल की उपलब्धता, चक्रतीर्थ के जीर्णोद्धार, दधीचि कुंड और मां ललिता देवी मंदिर के सुंदरीकरण कराने के निर्देश दिए हैं।

नैमिषधाम के 05, 14 और 84 कोसी परिक्रमा पथ का विकास भी किया जाएगा। मिश्रिख नगर पालिका के सीमा विस्तार भी किया जाएगा। सीएम ने पर्यटन विकास और सुंदरीकरण के कार्यों के लिए आवश्यकतानुसार भूमि अधिग्रहण करने और सुविधाजनक यात्री निवास, प्रकाश व्यवस्था, पार्किंग सुविधा और सुरक्षा के पर्याप्त इंतज़ाम रखने के निर्देश दिए हैं।

लगातार दूसरे दिन बाजार खुलते ही Stock Market में आई गिरावट

सीएम के निर्देश पर नैमिषधाम में पर्यटन विकास के लिए पर्यटन, नगर विकास, पीडब्ल्यूडी और सिंचाई विभाग मिलकर ठोस कार्य योजना तैयार करेंगे। पर्यटन विभाग द्वारा नैमिषधाम के लिए सुविधाजनक पर्यटन पैकेज तैयार किया जाएगा।

RSS कार्यालय पर बम से हमला, इमारत के टूटे खिड़की के शीशे

Related Post

CM Yogi

उत्तर प्रदेश को निवेश के सबसे बेहतरीन गंतव्य के रूप में मिली है पहचानः

Posted by - January 26, 2023 0
लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi) ने 74वें गणतंत्र दिवस (Republic Day) के अवसर पर अपने सरकारी आवास पांच कालिदास…
AK Sharma

पारदर्शिता और कर्तव्यनिष्ठा से कार्य करें विद्युतकर्मी: एके शर्मा

Posted by - September 23, 2023 0
लखनऊ। ऊर्जा मंत्री (AK Sharma)  की चेतावनी लगता है कुछ विद्युतकर्मियों ने सुनी नहीं थी, तो खामियाजा तो भुगतना ही…