जाने पोषण से भरपूर कद्दू के बीज खाने के अनोखे स्वास्थ्य लाभ

303 0

हेल्थ डेस्क.   सुनने में ये बात शायद आपको अजीब लग सकती है लेकिन जिन कद्दू के बीजों को आप बेकार मानकर फेंक देती है असल में वो किसी औषधी से कम नही होते है. कद्दू के बीजों में पोषक तत्व जैसे मैग्नीशियम, प्रोटीन, फाइबर, जिंक आदि पाया जाता है. जो हमारी सेहत को बेहतर बनाने के लिए कई मायनों में असरकारक होते हैं. इसके सेवन से आप अपने शरीर व् स्वास्थ्य से जुडी कई बीमारियों से भी निजात पा सकते है. आइए जानते हैं कद्दू के बीजों से होने वाले अनोखे स्वास्थ्य लाभों के बारे में…

घर पर बनाएं स्वादिष्ट आटे और गुड़ का हलवा, देखे रेसिपी

कद्दू के बीज के फायदे:-

ब्लड शुगर लेवल को कम करे

कद्दू एक बेहतरीन स्वीटनर है जो ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रित करने के लिए संघर्ष कर रहे लोगों के लिए यह काफी फायदेमंद है। चाइना एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी के कॉलेज ऑफ फूड साइंस एंड न्यूट्रिशन इंजीनियरिंग ने एक अध्ययन में पाया गया है कि अपने आहार में कद्दू का रस या बीजों के पाउडर को शामिल करने से टाइप-2 मधुमेह से पीड़ित लोगों में ब्लड शुगर के स्तर कम हो जाता है।

डायबिटीज के रोगियों के लिए

कद्दू के बीज डायबिटीज के मरीजों के लिए एक असरदार औषधी है। इसके सेवन से ब्लड शुगर लेवल में सुधार होता है। चूहों पर किए शोध से पता चला है कि इसके बीज के सेवन से डायबिटीज रोग में लाभ मिल सकता है। इसमें एंटीऑक्सिडेंट्स, जिंक, मैग्नीशियम और फैटी एसिड पाए जाते हैं जो डायबिटीज में दवा की तरह काम करते हैं।

रासायनिक दवाओं का दुष्प्रभाव

कद्दू के बीजों से प्राप्त प्रोटीन कई खतरनाक दवाओं के साइड इफेक्ट को कम करने में मददगार होता है। देखा गया है कि एसिटामिनोफेन जैसी दवाओं के सेवन का बुरा असर सीधे यकृत पर होता है, इस दवा के सेवन किए जाने के बाद कद्दू के बीजों या तेल की कुछ मात्रा के सेवन से दवा के बुरे असर को काफी हद तक कम किया जा सकता है। इसके अलावा कार्बन टेट्राक्लोरायड की वजह से यकृत में होनी वाली हानि को कम करने के लिए भी ये अत्यंत कारगर है।

पाचन में सहायक

कद्दू के बीज पाचनतंत्र के लिए भी लाभकारी माने गए हैं। कद्दू के बीज में फाइबर पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है जो कब्ज से छुटकारा दिला सकता है। इतना ही नहीं, इसके सेवन से एसिडिटी व अन्य पाचन संबंधी परेशानियों से निजात मिलती है।

अनिद्रा, चिंता और तनाव में

कद्दू के एक ग्राम बीजों में करीब 22 मिलीग्राम ट्रिप्टोफान प्रोटीन पाया जाता है जिसे नींद का कारक भी माना जाता है। कनाडिअन जर्नल ऑफ फिजिओलोजी में सन 2007 में प्रकाशित एक शोध के परिणामों पर गौर करा जाए तो जानकारी मिलती है कि ग्लूकोज़ के साथ कद्दू के बीजों का सेवन करने वाले अनिंद्रा से ग्रस्त रोगियों को आमतौर पर साधारण दिनों की तुलना में बेहतर नींद आती है। ग्रामीण इलाकों में जी मचलना, थकान होना या चिंतित व्यक्ति को कद्दू के बीजों को शक्कर के साथ मिलाकर खिलाया जाता है।

Loading...
loading...

Related Post

सत्या नडेला

CAA पर सत्या नडेला का बयान : बोले-भारत में जो भी हो रहा है, वह बहुत दुखद

Posted by - January 14, 2020 0
नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर देशभर में विरोध प्रदर्शन जारी है। इसी बीच माइक्रोसॉफ्ट के भारतीय मूल…
प्लास्टिक का बोतल

प्रेगनेंसी के दौरान न पिये प्लास्टिक के बोतल में पानी, हो सकती हैं बड़ी समस्या

Posted by - November 25, 2019 0
लाइफस्टाइल डेस्क। वैसे तो पानी पीने के लिए अधिकतर लोग प्लास्टिक के बोतल बेहिचक का इस्तेमाल करते हैं। मगर शायद…