peanuts

सर्दियों में मूंगफली खाने के फायदों के साथ जानें सेवन से जुड़ीं सावधानियां

667 0

नई दिल्ली। अक्सर कहा जाता है कि अगर किसी का बजट ड्राई फ्रूटस खरीदने का नहीं है, तो मूंगफली (peanuts)  को सबसे सस्ते ड्राई फ्रूट के रूप में इस्तेमाल कर सकता है। मूंगफली (peanuts)  के पोषण और गुणों की बात करें, तो ये  बादाम से कम नहीं है। मूंगफली प्रोटीन के साथ इसमें आयरन और कैल्शियम की भी प्रचुर मात्रा होती है। ऐसे में सर्दियों में मूंगफली (peanuts)  खाना आपको न सिर्फ हेल्दी रखता है बल्कि कई बीमारियों से बचाता भी है। आइए, जानें इसके फायदे।

हड्डियों को बनाता है मजबूत

मूंगफली में पाया जाने वाला आयरन लाल रक्त कोशिकाएं बढ़ाता है। हड्डियों को मजबूत बनाता है।। साथ ही बढ़ती उम्र में ऑस्टियोपोरोसिस होने की आशंका कम करता है।

डायबिटीज की आशंका घटाए

एक शोध में पाया गया है कि प्रतिदिन संतुलित मात्रा में मूंगफली खाने से डायबिटीज होने की आशंका 21 फीसदी तक कम हो सकती है। रोस्ट की हुई मूंगफली बहुत गुणकारी मानी जाती है।

समा​जिक संदेश देने वाली फिल्मों को देती हूं वरीयता : भूमि पेडनेकर

डिप्रेशन से बचाव

डिप्रेशन से बचाव और इसके उपचार में मूंगफली का सेवन अच्छा होता है। मूंगफली में ट्रिपटोफान नामक एमिनो एसिड होता है, जो मिजाज को ठीक रखने वाले हॉर्मोन सेरोटोनिन का स्राव बढ़ाता है। इससे मिजाज अच्छा होता है और मन शांत रहता है।

बढ़ती उम्र के असर को करे कम

मूंगफली में ओमेगा-6 फैटी एसिड भरपूर मात्रा में मिलता है, जो स्वस्थ कोशिकाओं और अच्छी त्वचा के लिए जिम्मेदार है। इसमें पाया जाने वाला विटामिन ई त्वचा में चमक लाता है। यह त्वचा का लचीलापन बनाये रखता है, जिससे त्वचा पर बढ़ती उम्र का असर नजर नहीं आता।

पाचन की समस्या से निजात दिलाए

मूंगफली में तेल का अंश होने से यह पेट की बीमारियों को खत्म करती है। इसके नियमित सेवन से कब्ज, गैस व एसिडिटी से राहत मिलती है।

दिल का रखे ख्याल

मूंगफली कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में अहम भूमिका निभाती है। यह खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करके शरीर के लिए जरूरी कोलेस्ट्रॉल के उत्पादन को बढ़ाती है। इसमें मोनो-अनसेचुरेटेड फैटी एसिड होता है, जिससे दिल संबंधी बीमारियों से छुटकारा मिलता है। हफ्ते में पांच दिन मूंगफली के कुछ दाने खाने से दिल की बीमारियों का खतरा घट सकता है।

दिमाग तेज करने में मददगार

मूंगफली में विटामिन बी3 पाया जाता है, जो मस्तिष्क के लिए बहुत ही जरूरी होता है। इसमें मौजूद नियासिन नामक तत्व दिमाग के काम करने की क्षमता को बढ़ाता है, जिससे भूलने की बीमारी दूर होती है।

ये सावधानियां रखनी भी जरूरी

-थाइरॉइड के रोगियों को मूंगफली का सेवन नहीं करना चाहिए। इसमें पाया जाने वाला गोईटरोजन नामक तत्व थाइरॉएड ग्रंथि की प्रक्रिया को असंतुलित कर सकता है।
-मूंगफली उच्च कैलोरी युक्त बीज है। इसके अधिक सेवन से मोटापा भी हो सकता है। संतुलित मात्रा में ही इसका सेवन करें।
-किडनी या गॉल ब्लैडर के रोगी भी मूंगफली का सेवन न करें।
-मूंगफली का अधिक सेवन एलर्जी का कारण भी साबित हो सकता है। यदि चेहरे या गले में किसी प्रकार का सूजन या मुंह में खुजली का आभास होता हो, तो इसका सेवन करना बंद कर दें।

Loading...
loading...

Related Post