Rajasthan

राजस्थान में हिंसा के बीच अच्छी खबर

188 0

राजस्थान(Rajasthan) के सीकर जिले में  सांप्रदायिक सौहार्द की नायाब नजीर

सीकर. राजस्थान(Rajasthan) के सीकर जिले का थोरासी गांव सांप्रदायिक सौहार्द की नायाब नजीर है। जहां एक भी मुस्लिम परिवार नहीं है। फिर भी यहां एक पीर बाबा की मजार है। जिसकी सेवा- पूजा-बंदगी सब हिंदु परिवारों द्वारा की जाती है। यही नहीं पीर बाबा के नाम पर यहां हर साल एक विशाल उर्स का आयोजन भी ग्रामीणों द्वारा किया जाता है। जो जिले का सबसे बड़ा उर्स होता है। जिले के अलावा बाहरी राज्यों के भी लाखों लोग इस उर्स में शिरकत करते हैं।

‘BSF’ और पाकिस्तानी रेंजर्स ने ईद पर किया मिठाइयों का आदान-प्रदान

मजार से जुड़ा खेल, कई खिलाडिय़ों को मिली सरकारी नौकरी

पीर बाबा की मजार के चढ़ावे से ही ग्रामीण गांव का विकास कर रहे हैं। इसके लिए एक कमेटी बना रखी है। जो ग्रामीण विकास के साथ मेले की जिम्मेदारी संभालती है। खास बात ये भी है कि यहां जन सहयोग से ही पीर बाबा के नाम से फुटबॉल व अन्य खेलों के मैदान तैयार कर लिए गए हैं। जहां राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं का आयोजन भी होता है। गांव में खेल का इतना विकास हो चुका है कि यहां हर घर में खिलाड़ी है। खेल कोटे से सैंकड़ों युवा सरकारी नौकरी भी हासिल कर चुके हैं।

लाउडस्पीकर पॉलिटिक्स में कूदे दिग्विजय सिंह

500 साल पुरानी है मजार

गांव के पूर्व सरपंच जयप्रकाश ने बताया कि गांव करीब 500 साल पुराना है। तभी से ये मजार यहां स्थित है। शुरू में तो लोग यहां केवल साफ सफाई करते थे। लेकिन धीरे धीरे ये आस्था व ग्रामीणों की एकजुटता का प्रतीक बन गया। करीब 27 साल पहले इसका जीर्णोद्धार कर यहां  व्यायामशाला बनाई गई। जिसके बाद स्टेडियम व खेलों के विकास पर बल दिया गया।

 

हर साल लगता है उर्स, अनिवार्य है उपस्थिति

पीर बाबा की मजार पर हर साल उर्स भी लगता है। जिसमें सभी धर्मों के लोग शामिल होते हैं। उर्स के दौरान फुटबॉल, कबड्डी व कुश्ती सहित अन्य प्रतियोगिता का आयोजन होता है। खास बात ये है कि गांव के प्रवासी लोग भी होली- दिवाली भले ही गांव में ना आए लेकिन इस उर्स में शामिल होने अनिवार्य रूप से पहुंचते हैं। मजार पर ग्रामीणों ने सीसीटीवी कैमरे व एयर कंडिशनर की व्यवस्था भी कर रखी है।

Related Post

रामचरित मानस की पांडुलिपियां

इस मंदिर में 425 वर्षों से सुरक्षित है रामचरित मानस की पांडुलिपियां

Posted by - December 22, 2019 0
चित्रकूट। कामदगिरि परिक्रमा मार्ग स्थित संत गोस्वामी तुलसीदास के गुरु नरहरि दास महाराज के ‘महलन मंदिर’ में रामचरित मानस के…
चंदन तस्कर वीरप्पन की बेटी ने थामा बीजेपी का दामन

चंदन तस्कर वीरप्पन की बेटी ने थामा बीजेपी का दामन, बोली- गरीबों के लिए करूंगी काम

Posted by - February 23, 2020 0
कृष्णागिरी। कुख्यात चंदन तस्कर वीरप्पन की बेटी विद्या रानी ने शनिवार को भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की सदस्यता ग्रहण की…
High court

यूपी सरकार के जवाब से असंतुष्ट हाईकोर्ट, मुख्य सचिव से कोरोना पर मांगा हलफनामा

Posted by - March 17, 2020 0
लखनऊ। कोरोनावायरस से निपटने की तैयारी मामले में हाईकोर्ट ने यूपी सरकार के जवाब से अंतोष जाहिर किया है। बता…
जमीनी विवाद में किसान और उसका परिवार हुआ घायल

जमीनी विवाद में किसान और उसका परिवार हुआ घायल

Posted by - March 6, 2021 0
सरोजनीनगर में शुक्रवार को पुस्तैनी जमीन पर कब्जा करने का विरोध करने पर चाकू, फावड़ा, लोहे की रॉड, असलहे और  धारदार हथियारों से लैस दबंगों ने अपने करीब 5 दर्जन साथियों के साथ मिलकर एक किसान व उसके परिवार पर जमकर हमला कर दिया। दबंगों के इस हमले से किसान परिवार के करीब आधा दर्जन लोग बुरी तरह घायल हो गए। इसमें किसी का सिर फटा तो किसी के हाथ व पैरों में गंभीर चोटें आई हैं। बाद में पुलिस को घटना की सूचना देने के साथ ही लहूलुहान हालत में सभी घायलों को आनन-फानन सरोजनीनगर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचा कर उनका इलाज कराया गया। फिलहाल पुलिस ने पीड़ित की ओर से आरोपी दबंगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच पड़ताल शुरू कर दी है। सरोजनीनगर के चिल्लावां निवासी वीरेंद्र यादव के मुताबिक शुक्रवार को उसकी दादी की तेरहवीं होने के कारण घर के सभी लोग कार्यक्रम में व्यस्त थे। काकोरी निवासी मिहिर श्रीवास्तव ने यूपी स्टेट शूटिंग चैंपियनशिप में गोल्ड मैडल जीता आरोप है कि इसी बीच कार्यक्रम का फायदा उठा कर यहीं के तहस्बुल खान, उसका बेटा तौफीक, तसब्बुल, आमिर और सुहैल अपने करीब 50 – 60 अन्य अज्ञात लोगों के साथ उसकी तपोवन नगर स्थित पुश्तैनी जमीन पर पहुंच गए और कब्जा करने लगे। दबंगों द्वारा किए जा रहे कब्जे की जानकारी पाकर जब पीड़ित और उसके घर के लोग वहां पहुंचकर विरोध करने लगे तो चाकू, फावड़ा, लोहे की रॉड और असलहे से लैस दबंगों ने एकजुट होकर उनके ऊपर हमला कर दिया। इतना ही नहीं आरोप है कि दबंगों ने सभी को दौड़ा दौड़ा कर मारा। इस घटना में पीड़ित वीरेन्द्र के साथ ही उसके पिता राजेश कुमार यादव, अवध लाल, सुरेंद्र, रवीन्द्र और हृदय नारायण बुरी तरह घायल हो गए। इसमें से किसी का सर फट गया तो किसी के हाथ व पैरों में गंभीर चोटें आई हैं। बाद में घटना की सूचना पुलिस को दी गई। सूचना के बाद जब तक पुलिस मौके पर पहुंचती, तब तक आरोपी दबंग वहां से फरार हो गए। फिलहाल पुलिस ने वीरेंद्र की तहरीर पर रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच पड़ताल कर रही है। उधर इस घटना में घायल सभी पीड़ितों का सरोजनीनगर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में इलाज कराया गया है।

उत्तराखंड में बारिश ने मचाई तबाही, अब तक 47 लोगों की मौत, सीएम ने की मुआवजे की घोषणा

Posted by - October 20, 2021 0
देहरादून। उत्तराखंड में बारिश, भूस्खलन और अचानक आई बाढ़ के चलते प्रदेश के कई इलाकों में तबाही का मंजर देखने को…