सिप्रमी

सिप्ला ने ‘कोविड-19’  के उपचार के लिए बाजार में उतारी ‘ सिप्रमी’

131 0

मुम्बई। भारतीय दवा निर्माता कंपनी सिप्ला ने ‘कोविड-19’ के संक्रमितों के उपचार के लिए सिप्रमी के ब्रांड नाम से जेनेरिक दवा बाजार में उतारी है।

एंटी-वायरल दवा रेमडेसिविर के जेनेरिक संस्करण को भारत में सिप्रेमी नाम से लॉन्च करने की घोषणा

सिप्ला लिमिटेड ने रविवार को प्रायोगिक एंटी-वायरल दवा रेमडेसिविर के जेनेरिक संस्करण को भारत में सिप्रेमी नाम से लॉन्च करने की घोषणा की है। रेमडेसिविर कोविड-19 संक्रमण के मरीजों के लिए अमेरिकी नियामक एफडीए से स्वीकृत एकमात्र आपातकालीन प्रयोग योग्य दवा है।

RIL 150 अरब डॉलर की बाजार हैसियत वाली पहली भारतीय कंपनी बनी, रचा इतिहास

कोविड-19 से संक्रमित मरीजों के उपचार के लिए हाल ही में गिलीड साइंसेज को रेमिडिसिविर के इस्तेमाल की अनुमति दी थी

कंपनी ने बताया कि यूस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (यूस एफडीए) ने इमरजेंसी यूज ऑथोराइजेशन (ईयूए) जारी करते हुए अस्पताल में भर्ती कोविड-19 से संक्रमित मरीजों के उपचार के लिए हाल ही में गिलीड साइंसेज को रेमिडिसिविर के इस्तेमाल की अनुमति दी थी। सिप्ला द्वारा लांच की गयी दवा सिप्रमी इसी रेमिडिसिविर दवा का जेनेरिक संस्करण है। गिलीड साइंसेज ने ही सिप्ला को जेनेरिक संस्करण के उत्पादन और विपणन का लाइसेंस प्रदान किया है।

भारतीय औषधि महा नियंत्रक (डीसीजीआई) ने सिप्रमी के इस्तेमाल को मंजूरी दे दी

भारतीय औषधि महा नियंत्रक (डीसीजीआई) ने सिप्रमी के इस्तेमाल को मंजूरी दे दी है। सिप्ला ने बताया कि वह आपदा प्रबंधन योजना के तहत सिप्रमी दवा के इस्तेमाल के लिए प्रशिक्षण देगी। जिन मरीजों पर यह दवा इस्तेमाल होगी, उन्हें सहमति के लिए एक फॉर्म भरना होगा। इस दवा की आपूर्ति सरकारी माध्यम से होगी और इसे दवा की दुकानों में भी खरीदा जा सकेगा। बता दें कि इससे पहले दवा कंपनी हेटेराे ने भी रेमिडिसिवर का जेनेरिक संस्करण कोविफोर के ब्रांड नाम से लाँच किया है।

सिप्ला के प्रबंध निदेशक और वैश्विक सीईओ, उमंग वोहरा ने कहा, हमने कोविड-19 महामारी से प्रभावित लाखों जिंदगियों को बचाने के सभी संभावित उपायों को तलाशने में निवेश किया है, और यह लॉन्च इस दिशा में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है। जोखिम प्रबंधन योजना के हिस्से के रूप में सिप्ला इस दवा के इस्तेमाल पर मरीज के सहमति दस्तावेज लेगी, पोस्ट मार्केटिंग सर्विलांस कराएगी और साथ ही भारतीय मरीजों पर एक चौथे चरण का क्लीनिकल ट्रायल भी कराएगी।

Loading...
loading...

Related Post

Ayodhya Verdict 2019: सुप्रीम कोर्ट ने फैसले के दौरान क्यूं ली अनुच्छेद 142 की मदद? पढ़ें पूरा

Posted by - November 11, 2019 0
अयोध्या। दशकों से चल रहे मंदिर-मस्जिद विवाद के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला बीते शनिवार को सुना दिया…
माइक पॉम्पियो

लाखों मुसलमानों का उत्पीड़न करता है चीन,यूएन में आतंकियों को बचाता है – अमेरिका

Posted by - March 28, 2019 0
संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र में खूंखार आतंकी मसूद अजहर पर बैन के मुद्दे को लेकर अमेरिका और चीन में जल्द…