यस बैंक

यस बैंक: भगवान जगन्नाथ के पैसे के लिए ओडिशा सरकार ने केंद्र सरकार से मांगी मदद

229 0

बिजनेस डेस्क। नकदी संकट से जूझ रहे यस बैंक में भगवान जगन्नाथ का भी 545 करोड़ रुपया जमा है। जिसको लेकर ओडिशा सरकार ने बीते कल रविवार को केंद्र सरकार से मदद मांगी। ओडिशा सरकार ने केंद्र सरकार से श्रद्धालुओं के हित में यस बैंक के खाते से भगवान जगन्नाथ का यह 545 करोड़ रुपया रिलीज कराने के लिए हस्तक्षेप करने का आग्रह किया है।

इसके लिए ओडिशा वित्त मंत्री निरंजन पुरी ने केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को पत्र भी लिखा है। पत्र में उन्होंने केंद्रीय वित्त मंत्री से आग्रह किया है कि वह इस पैसे को रिलीज करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) को उचित निर्देश जारी करे।

कोरोना वायरस: पीएम मोदी का बांग्लादेश दौरा रद्द, इटली सरकार ने भी उठाया बड़ा कदम

निरंजन पुरी ने पत्र में लिखा है कि पुरी में श्री जगन्नाथ मंदिर से जुड़े विभिन्न फंड का प्रबंधन श्री जगन्नाथ मंदिर प्रशासन (एसजेटीए) की समिति करती है। इस फंड में से 545 करोड़ रुपये टीडीआर के तौर पर यस बैंक में जमा कराए गए थे, जो इसी महीने पूरे होने वाले थे।

ओडिशा के वित्त मंत्री ने केंद्र को बताया कि आरबीआई की तरफ से 50 हजार से ज्यादा की निकासी पर रोक लगाए जाने से यह पैसा फंस गया है। भगवान जगन्नाथ के भक्तों के लिए इस पैसे के धार्मिक महत्व को ध्यान में रखते हुए इसे रिलीज कराने के लिए आरबीआई को उचित निर्देश दिए जाएं। हालांकि केंद्र सरकार ने रविवार रात तक इस पत्र का कोई जवाब नहीं दिया था।

Loading...
loading...

Related Post

अनुराधा पौडवाल

केरल की करमाला ने अनुराधा पौडवाल को बताया बायोलॉजिक मां, मांगा 50 करोड़ का हर्जाना

Posted by - January 3, 2020 0
नई दिल्ली। बॉलीवुड की 67 साल की दिग्गज गायिका अनुराधा पौडवाल को लेकर चौंकाने वाली खबर सामने आई है। खबर…
AR Rahman

संगीतकार एआर रहमान इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने कसा शिकंजा, बढ़ी ​मुश्किलें

Posted by - September 11, 2020 0
नई दिल्ली। ऑस्कर पुरस्कार विजेता संगीतकार एआर रहमान मुश्किल में फंसते नजर आ रहे हैं। उन पर इनकम टैक्स विभाग…
Sensex

शेयर बाजार का हाल : सेंसेक्स 600 अंक उछलकर सात महीने के शिखर पर

Posted by - October 6, 2020 0
मुंबई। विदेशों से मिले सकारात्मक संकेतों के बीच बैंकिंग, वित्तीय, रियलिटी और ऑटो क्षेत्र में लिवाली से घरेलू शेयर बाजारों…