विवादों के कटघरे में गुजरात के शिक्षा मंत्री, ‘घूसखोर’ इंजीनियर की किताब का किया विमोचन

575 0

गुजरात के शिक्षा मंत्री विवादों के कटघरे में खड़े दिखाई दे रहे हैं, एक घूसखोर की किताब विमोचन को लेकर चर्चा में आ गए हैं। अहमदाबाद में अधिकारी को रिश्वतखोरी के आरोप में गिरफ्तार किया गया है, जिसकी किताब का विमोचन शिक्षा मंत्री भूपेंद्र सिंह चूडास्मा ने किया था।इंजीनियर निपुण चौकसी ‘स्मित और स्पंदन’ व ‘परेशान कैसे करें’ किताब का लेखक हैं। अप्रैल में उसकी किताब का विमोचन शिक्षा मंत्री ने किया था। चौकसी पर एंटी करप्शन ब्यूरो ने घूसखोरी का आरोप लगाया है, उसके दो लॉकरों से 74.50 लाख और 1.52 करोड़  बरामद हुए हैं।हैरान करने वाली बात ये है कि लॉकर से जो नोट बरामद हुए हैं, उनमें 500 और 1000 के वह नोट भी शामिल हैं जो 2016 से ही बंद हैं।

गुजरात के शिक्षा मंत्री ने किया घूसखोर इंजीनियर कि किताब का विमोचन: गुजरात के अहमदाबाद में उस अधिकारी को रिश्वतखोरी के आरोप में गिरफ्तार किया गया है, जिसकी किताब का विमोचन कुछ दिनों पहले खुद गुजरात के शिक्षा मंत्री भूपेंद्र सिंह चूडास्मा ने किया था। गुजरात के एंटी करप्शन ब्यूरो ने घूसखोरी के आरोप में इंजीनियर निपुण चौकसी को गिरफ्तार किया है। आरोपी के दो लॉकरों से लाखों रुपये नकद बरामद मिलने से पूरे महकमे में हड़कंप मच गया है। गुजरात एसीबी की टीम ने अब तक इतनी बड़ी मात्रा में नकदी बरामद नहीं थी।

अगर किसान गुंडे हैं तो किसानों द्वारा उगाया अनाज खाना बंद करें लेखी- किसान नेता कक्का

हैरान करने वाली बात ये है कि लॉकर से जो नोट बरामद हुए हैं, उनमें 500 और 1000 के वह नोट भी शामिल हैं जो 2016 से ही बंद हैं।
इंजीनियर निपुण, साहित्य के क्षेत्र में भी खासी रुचि रखता है। वह ‘स्मित और स्पंदन’ व ‘परेशान कैसे करें’ किताब का लेखक भी हैं। अप्रैल में उसकी किताब का विमोचन राज्य के शिक्षा मंत्री भूपेंद्र सिंह चूडास्मा के द्वारा कराया गया था। इंजीनियर निपुण को एसीबी ने ठेकेदार से रिश्वत लेते हुए पकड़ा था। जब उसके दो लॉकरों की जांच की गई तो उसमें से 74.50 लाख और 1.52 करोड़ रुपये और सोने के जेवर भी बरामद हुए हैं।

Related Post

Shiv Sena

शिवसेना के मंत्रियों की MVA सरकार हिली, संजय राउत का देखें आरोप!

Posted by - June 21, 2022 0
महाराष्ट्र: महा विकास अघाड़ी सरकार को मंगलवार को अपने सबसे खराब राजनीतिक संकट का सामना करना पड़ा क्योंकि शिवसेना (Shiv…