वीर सावरकर के नाम से होगा दिल्ली के नए कॉलेज का नाम? जल्द हो सकता है नाम का ऐलान

130 0

दिल्ली विश्वविद्यालय ने फतेहपुर बेरी स्थित कॉलेज का नाम किसी महापुरुष के नाम पर करने की सोच रही है, इसके लिए कई नाम प्रस्तावित हैं। बताया जा रहा कि वीर सावरकर के नाम से इस कॉलेज का नाम किया जा सकता है, सुषमा स्वराज के नाम की भी चर्चा है। यूनिवर्सिटी के एक अधिकारी ने बताया कि न सिर्फ सावरकर बल्कि विवेकानंद जी के नाम की भी चर्चा है, एकेडमिक काउंसिल आखिरी फैसला लेगा।

डीयू के जरिस्ट्रार विकास गुप्ता ने बताया कि अभी तक ये तय नहीं हुआ कि कॉलेज को-एड होगा या फिर सिर्फ महिला कॉलेज। बता दें कि पिछले दिनों केेंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ४० बीघा भूमि पर आवंटित इस कॉलेज का शिलान्यास करने वाले थे पर कार्यक्रम कैंसिल हो गया।

अधिकारी ने बताया कि इस वक्त सुषमा स्वराज के साथ कुछ अन्य नामों का भी प्रस्ताव किया गया है। विश्वविद्यालय, स्वामी विवेकानंद और वीर सावरकर के नामों पर भी विचार कर रहा है। वहीं डीयू के रजिस्ट्रार विकास गुप्ता के मुताबिक फतेहपुर बेरी के भट्टी कलां गांव में एक सुविधा केंद्र और प्रस्तावित कॉलेज का नाम अभी तय नहीं हुआ है। अभी यह भी तय नहीं है कि आने वाला कॉलेज को-एड होगा या महिला कॉलेज।

भाजपा की चुप्पी पर छलका चिराग का दर्द, कहा- चाचा-भाई ने धोखा दिया तो दूसरों से क्या उम्मीद करें

केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान रविवार को जिला प्रशासन द्वारा विश्वविद्यालय को आवंटित 40 बीघा जमीन पर सुविधा केंद्र का शिलान्यास करेंगे। जानकारी के मुताबिक इस मौके पर बीजेपी सांसद रमेश बिधूड़ी भी मौजूद रहेंगे। अधिकारियों की माने तो विश्वविद्यालय कुछ अन्य स्थानों पर भी ऐसे केंद्र स्थापित करने की योजना बना रहा है।

Divyansh Singh

मिट्टी का तन, मस्ती का मन; छड़ भर जीवन, मेरा परिचय।

Related Post

पूर्व मंत्री मनोज पाण्डेय जल्द करेगी विजिलेंस

Posted by - February 28, 2021 0
आय से अधिक सम्पत्ति की जांच के लिए उत्तर प्रदेश सतर्कता अधिष्ठान (विजिलेंस) शीघ्र ही समाजवादी पार्टी के विधायक एवं पूर्व मंत्री मनोज कुमार पांडेय को बयान दर्ज कराने के लिए शीघ्र ही नोटिस भेजा जाएगा। शासन के आदेश पर विजिलेंस ने उनके विरुद्ध आय से अधिक संपत्ति की शिकायतों की खुली जांच शुरू कर दी है। गोपनीय जांच में शिकायतें प्रथमदृष्ट्या सही पाए जाने के बाद खुली जांच के आदेश दिए गए हैं।   फतेहपुर : स्वर्गीय इंदिरा गांधी के नजदीकी रहे प्रेमदत्त तिवारी का निधन बिजलेंस के एक अधिकारी ने बताया कि पूर्व मंत्री मनोज पाण्डेय से आय से अधिक सम्पत्ति मामले में पूछताछ की जाएगी। इसके लिए उनको नोटिस भेजा जाएगा। मनोज पांडेय पर अपने क्षेत्र के दलित परिवार की जमीन अवैध ढंग से हथियाने का भी आरोप है। शिकायतें मिलने पर सरकार ने विजिलेंस के माध्यम से पहले गोपनीय जांच कराई। जांच में आरोप प्रथमदृष्ट्या सही पाए गए। जांच रिपोर्ट का परीक्षण करने के बाद शासन ने विजिलेंस को मनोज पांडेय के विरुद्ध खुली जांच करने का आदेश दे दिया। विजिलेंस अब शिकायतों से संबंधित साक्ष्य जुटाने के साथ ही मनोज पांडेय से पूछताछ भी करेगी। खुली जांच में दोषी पाए जाने पर उनके विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जा सकती है। रायबरेली जिले की ऊंचाहार सीट से विधायक मनोज पांडेय सपा सरकार में कैबिनेट मंत्री थे। जांच के शिकंजे में फंसने वाले वह तीसरे पूर्व मंत्री हैं। सपा सरकार में मंत्री रहे मो. आजम खां के विरुद्ध एसआईटी व गायत्री प्रसाद प्रजापति के विरुद्ध विजिलेंस जांच की जांच चल रही है। एसआईटी जल निगम भर्ती घोटाले में मो. आजम खां को दोषी ठहरा चुकी है। गायत्री प्रजापति के विरुद्ध तो आय से अधिक संपत्ति की जांच चल रही है
आर्थिक गणना

यूपी देश की आर्थिक महाशक्ति बनने की क्षमता रखता है : योगी आदित्यनाथ

Posted by - December 26, 2019 0
लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को यूपी में 7वीं आर्थिक गणना का शुभारम्भ किया। राज्य सरकार के सहयोग से…

पूर्व सीएम के बेटे ने बालासाहेब ठाकरे पर लगाए गंभीर आरोप

Posted by - January 16, 2019 0
मुंबई। कांग्रेस के एमपी रह चुके और पूर्व मुख्‍यमंत्री नारायण राणे के बेटे नीलेश ने शिवसेना के संस्‍थापक बालासाहेब ठाकरे…