budget

शहरी गरीबों को सरकार ने दी बड़ी राहत, मात्र पांच सौ देना होगा स्टांप शुल्क

265 0

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi) ने शहरी क्षेत्रों में रहने वाले गरीबों को बड़ी राहत दी है। शहरों में निजी डेवलपरों की ईडब्ल्यूएस इकाइयों के पंजीयन में अब मात्र पांच सौ रुपए स्टांप शुल्क (stamp duty) देना होगा। इससे भवनों के पंजीयन में आवेदकों की काफी अधिक धनराशि की बचत होगी। इसके अलावा सरकार ने दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस कॉरिडोर, कानपुर, आगरा, वाराणसी, गोरखपुर और अन्य शहरों में मेट्रो परियोजनाओं के लिए 2750 करोड़ रुपए दिए हैं।

सीएम योगी (CM Yogi)  ने आवास एवं शहरी नियोजन विभाग को बजट में तीन हजार करोड़ रुपए से अधिक धनराशि प्रस्तावित की है। शहरों के सुव्यवस्थित विकास के साथ ट्रांसपोर्टेशन पर भी जोर दिया गया है।

दुर्बल, अल्प, लघु और मध्यम आय वर्ग को अफोर्डेबल हाऊसिंग उपलब्ध कराने के लिए अफोर्डेबल हाऊसिंग उपविधि- 2021 जारी की गई है। इससे दुर्बल, अल्प, लघु और मध्यम आय वर्ग के व्यक्तियों को उनकी आर्थिक क्षमता के अनुरूप भवन उपलब्ध होंगे।

इसके अलावा लॉजिस्टिक्स पार्क और वेयर हाउसिंग के विकास पर जोर दिया है। आने वाले दिनों में प्रदेश लॉजिस्टिक्स पार्क और वेयर हाउसिंग का हब बनेगा। सरकार ने निजी लॉजिस्टिक्स पार्क और लॉजिस्टिक्स इकाइयों को भू उपयोग परिवर्तन शुल्क में 50 प्रतिशत छूट और विकास प्राधिकरणों की महायोजना क्षेत्र में लागू विकास शुल्क का 25 प्रतिशत भुगतान की छूट दी है। इससे प्रदेश में लॉजिस्टिक्स पार्क और वेयर हाउसिंग में निवेश को बढ़ावा मिलेगा।

धार्मिक आस्थाओं को भी दिया सम्मान

सरकार ने वर्तमान वित्त वर्ष में धार्मिक आस्थाओं को भी सम्मान दिया है। अयोध्या स्थित सूर्य कुण्ड के विकास सहित अयोध्या नगरी के सर्वांगीण विकास के लिए 140 करोड़ रुपए प्रस्तावित किया है। इसके अलावा लखनऊ विकास क्षेत्र सहित प्रदेश के सभी विकास प्राधिकरणों के विकास और नगर क्षेत्र में अवस्थापना सुविधाओं के विकास के लिए 132 करोड़ रुपए की व्यवस्था का प्रस्ताव है।

स्मार्ट शहरों वाला यूपी बनाने के लिए योगी सरकार ने खोला खजाना

आरआरटीएस के लिए सर्वाधिक 1306 करोड़ रुपए प्रस्तावित

सरकार ने बजट में प्रदेश में निर्माणाधीन मेट्रो परियोजनाओं के अलावा नई परियोजनाओं के लिए भी 2750 करोड़ रुपए की धनराशि आवंटित किया है। सर्वाधिक दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस कॉरिडोर के लिए 1306 करोड़ रुपए प्रस्तावित किया गया है।

ऐसे ही कानपुर मेट्रो रेल परियोजना की लागत 11,076 करोड़ रुपए है और इस वित्त वर्ष में 747 करोड़ रुपए प्रस्तावित किए हैं। आगरा मेट्रो रेल परियोजना की लागत 8380 करोड़ रुपए है और 597 करोड़ रुपए का बजट प्रस्तावित किया गया है। इसके अलावा वाराणसी, गोरखपुर सहित अन्य शहरों में मेट्रो रेल परियोजना के लिए सौ करोड़ रुपए प्रस्तावित किए गए हैं।

Related Post

plastic

अंतरराष्ट्रीय प्लास्टिक कैरी बैग मुक्त दिवस पर ‘यूपी प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन कान्क्लेव’ का आज आयोजन

Posted by - July 3, 2022 0
लखनऊ: प्रदेश के पर्यावरण को प्रदूषण मुक्त करने तथा प्लास्टिक व पॉलीथिन के दुष्प्रभाव से जनजीवन को बचाने के लिए…
CM Yogi

महर्षि वाल्मीकि आश्रम, राजा सीताराम महल व रसिक बिहारी मंदिर का संरक्षण करेगी योगी सरकार

Posted by - October 25, 2023 0
लखनऊ। उत्तर प्रदेश की औद्योगिक, व्यापारिक व आर्थिक क्षमताओं के विकास के लिए प्रतिबद्ध योगी सरकार (Yogi Government)  प्रदेश की…