यूपी : 5 महीने बीतने के बाद भी पंचायत चुनाव में जान गवाने वाले लोगों के परिजनों को नहीं मिली मदद

138 0

उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव के दौरान करीब 1600 कर्मचारियों की मौत हुई थी, इसके पीछे कोरोना के बीच चुनाव को बड़ी वजह बताया गया। पहले तो सरकार ने इतनी मौतों को माना नहीं लेकिन हल्ला मचा और दबाव बढ़ा तो मान लिया लेकिन पांच महीने बीतने के बाद भी आर्थिक मदद नहीं की। 37 वर्षीय संतोष कुमार मलीहाबाद में अध्यापक थे, बीमार होने के बाद भी ड्यूटी लगाई गई और ड्यूटी से लौटने पर ऑक्सीजन की कमी से मर गए।

संतोष की पत्नी बताती हैं कि सरकार ने मदद की बात कही लेकिन आज तक नहीं की, संतोष के पिता हर दिन सरकारी दफ्तरों के चक्कर लगा रहे हैं। ऐसा ही मामला राज किशोर के परिजनों के साथ है, परिवार के सिर पर 12 लाख का लोन है लेकिन आमदनी खत्म हो चुकी है, सरकार मदद को आगे नहीं आ रही है।

‘पत्नी के साथ जबरदस्ती शारीरिक संबंध बनाना दुष्कर्म नहीं’ छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट पर भड़कीं तापसी और सोना

उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बीच पंचायत चुनाव को लेकर शुरू से ही सवाल उठ रहे थे। लेकिन अब चुनाव ड्यूटी में लगे सैकड़ों शिक्षकों की कथित तौर पर कोरोना संक्रमण से हुई मौत के मामले ने एक अलग ही बहस को जन्म दे दिया है। और अब शिक्षकों के परिजनो को अपना हक़ मांगने के लिए दर दर की ठोकरे खाने को मजबूर किया जा रहा है। 

Divyansh Singh

मिट्टी का तन, मस्ती का मन; छड़ भर जीवन, मेरा परिचय।

Related Post

उत्तर प्रदेश मे RSS नेता के बेटे की खुदकुशी मामले में 5 पुलिसकर्मी निलंबित

Posted by - July 29, 2021 0
बागपत में आरएसएस नेता के बेटे की खुदकुशी मामला तूल पकड़ता जा रहा है, मामले में पांच पुलिसकर्मियों को निलंबित…

बोले राजभर, यूपी में हमारी सरकार बनी तो 5 साल में बनाएंगे 5 सीएम, हर साल 4 नए डिप्टी सीएम

Posted by - June 25, 2021 0
यूपी में विधानसभा चुनाव का शंखनाद हो चुका है, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के प्रमुख ओम प्रकाश राजभर ने 5…
आयशा ब्रिटेन की उच्चायुक्त

गोरखपुर की बेटी आयशा ने देश का गर्व से सिर ऊंचा किया बनीं ब्रिटेन की उच्चायुक्त

Posted by - December 4, 2019 0
नई दिल्ली। देश के छोटे शहरों और कस्बों में रहने वाली बेटियां भी बड़े मुकाम हासिल कर सकती हैं। बस…