सुप्रीम कोर्ट: हॉकी को राष्ट्रीय खेल घोषित किए जाने की याचिका खारिज

160 0

सुप्रीम कोर्ट ने हॉकी को आधिकारिक रूप से राष्ट्रीय खेल घोषित करने वाली याचिका सुनने से इंकार किया। कोर्ट ने याची से कहा कि आपका उद्देश्य अच्छा हो सकता है, लेकिन हम कुछ नहीं कर सकते। आप चाहें तो सरकार को ज्ञापन दे सकते हैं। दरअसल, टोक्यो ओलंपिक में हॉकी टीमों के बेहतरीन प्रदर्शन के बाद हॉकी को राष्ट्रीय खेल घोषित करने की मांग है। इसलिए याचिका दायर की गई।

दरअसल, टोक्यो ओलंपिक में महिला और पुरुष हॉकी टीम के बेहतरीन प्रदर्शन के बाद हॉकी को अधिकारिक रूप से राष्ट्रीय खेल घोषित किए जाने की मांग उठने लगी है। इसको लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका भी दाखिल की गई थी। याचिक दाखिल करने वाले वकील विशाल तिवारी ने मांग की थी कि एथेलेटिक्स जैसे खेलों में सुविधाएं बढ़ाई जाएं और हॉकी को राष्ट्रीय खेल घोषित किया जाए।

कोरोना बंदी: यूपी में अब रात 11 बजे तक खुल सकेंगी दुकानें व बाजार

याचिका में कहा गया था कि हॉकी को राष्ट्रीय खेल के रूप में जाना तो जाता ही है, लेकिन उसे अभी तक आधिकारिक रूप से राष्ट्रीय खेल घोषित नहीं किया गया है। हॉकी भारत का गौरव है,जो अपनी पहचान खोता जा रहा है। 1928 से 1956 तक का समय भारतीय हॉकी के लिए स्वर्णकाल कहा जाता है। वैसे तो यह खेल लगभग सभी देशों में खेला जाता है, लेकिन 1928 में भारत हॉकी का विश्व विजेता बना था। वहीं इसके बाद हुए ओलंपिक में भारत ने हॉकी में कई स्वर्ण पदक भी अपने नाम किए। इसी के बाद से हॉकी की लोकप्रियता ऐसी बढ़ी कि इसे भारत का राष्ट्रीय खेल कहा जाने लगा।

Related Post

टि्वंकल खन्ना

‘कोविड-19’ पर अक्षय की पहल पर टि्वंकल खन्ना बोलीं- गर्व महसूस करती हूं

Posted by - March 29, 2020 0
मुंबई । बॉलीवुड अभिनेत्री टिंवकल टि्वंकल खन्ना अपने पति अक्षय कुमार के कोरोना वायरस ‘कोविड-19’ से निपटने के लिए बनाये…