तुलसी के पत्तों का इस्तेमाल

सूर्य ग्रहण : जानें क्यूं ग्रहण के समय तुलसी के पत्तों का होता है इस्तेमाल?

231 0

नई दिल्ली। इस साल का पहला सूर्य ग्रहण 21 जून को लगेगा। पूर्ण सूर्य ग्रहण तब होता है जब सूर्य, चंद्रमा और पृथ्वी तीनों एक सीधी रेखा में होते हैं और सूर्य को पूरी तरह से ढंक लेता है। पूर्ण सूर्य ग्रहण होने की वजह से दिन में अंधेरा हो जाएगा। धार्मिक दृष्टि से यह सूर्य ग्रहण काफी महत्वपूर्ण हैं।

जानें ग्रहण और सूतक काल का समय

सूतक काल ग्रहण से 12 घंटे पहले लग जाएगा। सूतक काल 20 जून की रात 10 बजे से शुरू हो जाएगा। सूर्य ग्रहण का मध्‍य 12 बजकर 24 मिनट दोपहर पर होगा। ग्रहण का मोक्ष दोपहर 2 बजकर 7 मिनट पर होगा। भारतीय मानक समयानुसार, सूर्य ग्रहण 21 जून को सुबह 9 बजकर 15 मिनट पर लगेगा और शाम 3 बजकर 4 मिनट तक रहेगा. पूर्ण ग्रहण को दोपहर 12 बजकर 10 मिनट पर देखा जा सकेगा।

जानें क्यूं होता है तुलसी का इस्तेमाल

नकारात्मक ऊर्जा करती है दूर

धार्मिक मान्‍यताओं के अनुसार तुलसी को प्रतिदिन दर्शन करने से सभी पाप खत्म हो जाते हैं। ऐसा माना जाता है कि इसकी पूजा करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। ग्रहण को अशुभकाल माना जाता है। कहते हैं कि सूर्य ग्रहण के दौरान धरती पर बुरी शक्तियों का प्रभाव बढ़ जाता है इसलिए ग्रहणकाल के समय तुलसी का प्रयोग घर की शुद्धि करने में मदद की जाती है। वहीं, मान्यता है कि तुलसी होने से ग्रहण के बाद आई सभी तरह की नकारात्मक ऊर्जा दूर हो जाती है। इसलिए नेगेटिव ऊर्जा खत्म करने के लिए इसका इस्‍तेमाल किया जाता है।

सूर्य ग्रहण : आज रात 10 बजे बंद हो जाएंगे चारों धामों के कपाट, ग्रहण के बाद फिर खुलेंगे

नहाने की बाल्टी में रखें तुलसी का पत्ता

तुलसी के पत्तों को घर के नहाने के पानी वाली टंकी में या बाल्टी में डाल दें। ग्रहण खत्म होने के बाद परिवार के सभी लोग इस पानी से ही नहाएं। कहते हैं कि ऐसा करने से ग्रहण का अशुभ प्रभाव समाप्त हो जाता है और साथ ही लक्ष्मी का वास सदैव बना रहता है।

तुलसी में होता है पारा

ज्योतिष शास्‍त्र के अनुसार तुलसी में पारा होता है और तुलसी में अन्य कई औषधीय गुण भी होते हैं। तुलसी सेहत के लिए भी वरदान मानी गई है। तुलसी में कई बीमारियों से लड़ने के गुण बताए गए हैं। दरअसल पारा के ऊपर किसी भी तरह की किरणों का कोई असर नहीं होता है। ग्रहण के समय पैराबैंगनी किरणें निकलती है जो सेहत के लिए हानिकारक होती हैं। पारे के गुण के कारण खाने में तुलसी के पत्ते रखने से वह निष्क्रिय हो जाती हैं।

खाने-पीने की चीजों में रखें तुलसी

ग्रहण के दौरान खाने-पीने की चीजों में तुलसी का पत्ता रख देने से उस पर ग्रहण का प्रभाव नहीं पड़ता। ग्रहण के सूतक शुरू होने से पहले लोगों को खाने-पीने की चीजों में खासकर अचार, मुरब्बा, दूध, दही और अन्य खाद्य पदार्थों में तुलसी का पत्ता रख देना चाहिए। मान्यता है कि ऐसा करने से खाने की चीजों पर ग्रहण का प्रभाव नहीं पड़ता है। ग्रहण के बाद घर में तुलसी के पत्ते से पूजा, व्रत, यज्ञ, जप और हवन करने के समान पुण्य प्राप्त होता है।

ग्रहण के समय वातावरण में घातक कीटाणु

सूर्य ग्रहण के बाद तुलसी रखे पानी से घर के सभी लोगों को नहाना चाहिए। इससे घर में लक्ष्मी का निवास होता है। परिवार में सुख-संपत्ति और शांति का वास होता है। पौराणिक शास्त्रों में ग्रहणकाल में भोजन करने से भी मना किया गया है क्योंकि ऐसी मान्यता है कि ग्रहण के समय वातावरण में घातक कीटाणु तेजी से फैलते हैं और ये कीटाणु खाने-पीने की वस्तुओं और पानी में इकट्ठा होकर उसे दूषित कर देते हैं, ऐसे में भोजन और जल के पात्रों में क़ुश अथवा तुलसी डालने से कीटाणु समाप्त हो जाते हैं।

ग्रहण के समय पेट की पाचन शक्ति कमजोर हो जाती है

ग्रहण के समय तुलसी के प्रयोग करने के पीछे न सिर्फ धार्मिक बल्कि वैज्ञानिक तर्क भी बताए गए हैं। मान्यता है कि ग्रहण के समय मनुष्य के पेट की पाचन शक्ति कमजोर हो जाती है और फिर इस दौरान ग्रहण किया गया भोजन अपच, बदहजमी जैसी कई शारीरिक या मानसिक हानि पहुंचा सकता है। पौराणिक ग्रंथों के अनुसार, ग्रहण के समय भोजन में मनुष्य जितनी संख्या में अन्न के दाने खाता है, उतने ही सालों तक नरक में यातनाएं झेलनी पड़ती हैं। इसलिए भोजन में तुलसी डालने से उसमें से सब तरह की अशुद्धियां दूर हो जाती है और बाद में वह भोजन खराब नहीं होता है।

Loading...
loading...

Related Post

प्रेमी-प्रेमिका को कनपट्टी में गोली मारकर उतारा मौत के घाट, पार्क में मिला शव

Posted by - October 30, 2019 0
झारखण्ड। आज देश के बहुत से हिस्सों में प्यार करना बहुत बड़ी गलती सी मानी जाती है। कभी-कभी प्रेमी-प्रेमिका के…
मनोज तिवारी

दिल्ली विधानसभा चुनाव: बीजेपी के 57 उम्मीदवारों की सूची जारी, जानें किसे कहां से मिला टिकट?

Posted by - January 17, 2020 0
नई दिल्ली। दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 के लिए शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी ने अपने 57 उम्मीदवारों की लिस्ट जारी…
केदारनाथ मंदिर

हर-हर महादेव के जयकारे के बीच खुले केदारनाथ के कपाट, मंदिर के बाहर लगी भक्तों की कतार

Posted by - May 9, 2019 0
रुद्रप्रयाग। बर्फ से ढके रहने के बाद केदारनाथ मंदिर के कपाट खुल गए हैं। केदारनाथ के कपाट गुरुवार यानी आज…