ज्योतिरादित्य सिंधिया ने शिवराज सिंह चौहान की तुलना कंस मामा और शकुनि मामा से की

759 0

इंदौर/मंदसौर। मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव प्रचार में कांग्रेस और भाजपा ने कमर कस ली है,आरोपों और प्रत्यारोपों का दौर भी चल रहा है.ऐसे में पूर्व केंद्रीय मंत्री और मध्यप्रदेश कांग्रेस प्रचार अभियान समिति के अध्यक्ष ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बुधवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के खिलाफ आपत्तिजनक बयान दिया।उन्होंने कहा- “भाजपा हिंदू संस्कृति की बात करती है। मैं बताना चाहता हूं कि हिंदू संस्कृति में मामाओं का बहुत ही खराब इतिहास रहा है।साथ ही उन्होंने आगे कहा, “मामाओं की बात आती है, तो सबसे पहले कंस मामा याद आते हैं, ये वही कंस मामा थे, जिन्हाेंने अपने भांजे-भांजियों की हत्या की। इसके बाद शकुनि मामा, जिनके कारण पूरा कौरव साम्राज्य नष्ट हो गया। अब हैं शिवराज मामा, जो प्रदेश के भांजे-भांजियों से खिलवाड़ कर रहे हैं।” मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह चौहान मामा के नाम से भी जाने जाते हैं।साथ ही सिंधिया ने एक और विवादस्पद बयांन दे दिया उन्होंने कहा कि आज समय आ गया है भाजपा को निर्वत्र कर के भेजना होगा।” जिसके लिए भाजपा ने भी अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा की राहुल की पूरी टीम को अपने शब्दों पर कोई पकड़ नहीं है

सिंधिया यहीं नहीं रुके बल्कि उन्होंने आगे कहा कि,”हमारे मुख्यमंत्री खुद को किसान पुत्र बताते हैं, लेकिन उनके राज में किसानों को अपनी फसल बेचने के लिए सात-सात दिन मंडियों में गुजारने पड़ते हैं। सात दिन बाद वे अपनी उपज बेच पाते हैं और फिर उसका भुगतान होने में छह महीने लग जाते हैं।
“सरकार भावांतर योजना की बात करती है। उनकी भावांतर योजना छूमंतर हो गई। राज्य में अगर कांग्रेस की सरकार आई तो 10 दिन में किसानों का कर्ज माफ होगा। किसानों को बस एक बटन दबाना है और उनका दो लाख रुपए तक का कर्ज माफ हो जाएगा।”

लोगो को लुभावने वादे तो सभी कर देते हैं लेकिन सच्चाई तो चुनावी नतीजे आने के बाद और सरकार बनने के बाद ही पता चलता है.

Related Post

कुलदीप सेंगर दोषी करार

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता के पिता की हत्या मामले में कुलदीप सेंगर समेत सात दोषी करार

Posted by - March 4, 2020 0
नई दिल्ली। दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने 09 अप्रैल, 2018 को हुई उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता के पिता की हत्या…
best Bus service

मुंबई : बेस्ट उपक्रम कर्मचारियों को सिक्कों में दी जा रही है तनख्वाह

Posted by - April 3, 2021 0
मुंबई। बृहन्मुंबई बिजली आपूर्ति और परिवहन (BEST) के साथ बैंकिंग से जुड़े कुछ मुद्दों के कारण इसके करीब 40,000 कर्मचारियों…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *