संसद में बिना बहस कानून पास होने पर नाराज हुए चीफ जस्टिस, कहा- भुगतना कोर्ट को पड़ रहा

52 0

देश आज 75वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है, इस मौके पर सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस एनवी रमना ने संसद की आलोचना की। उन्होंने लोगों का ध्यान सदन के भीतर कानूनों पर बहस के समय में कटौती पर दिलाया, कहा- पहले सदन के दोनो सदनों में समुचित बहस होती थी पर अब नहीं। उन्होंने कहा- बहस न होने के कारण ही कानूनों में खामियां और अस्पष्टता साफ नजर आती है, जनता के लिए भी असुविधा पैदा हो जाती है।

सीजेआई ने कहा- उचित बहस न होने के कारण जो कानून पास हुए वह कोर्ट के लिए सिरदर्दी बढ़ाने वाले हैं क्योंकि सारे मामले कोर्ट में ही आएंगे। गौरतलब है कि बॉम्बे हाईकोर्ट ने पिछले दिनों नए आईटी नियमों में खामिया बताते हुए इसके कुछ हिस्सों पर रोक लगा दिया, कहा- इसकी जरूरत ही नहीं।

सीजेआई ने कहा कि यदि आप उन दिनों सदनों में होने वाली बहसों को देखें, तो वे बहुत बुद्धिमानी भरा और रचनात्मक हुआ करते थे, साथ ही वे जो भी कानून बनाते थे उस पर बहस करते थे। लेकिन अब वह स्थिति नहीं रही। इसकी वजह से हम कानूनों में कई खामियां और अस्पष्टता देखते हैं।उन्होंने कहा कि कानूनों में कोई स्पष्टता नहीं है।

बुंदेलखंड के लोगों की लड़ाई लड़ते रहे हैं, लड़ते रहेंगे – बृजभूषण राजपूत

हम नहीं जानते कि कानून किस उद्देश्य से बनाए गए हैं। यह सरकार के लिए बहुत सारे मुकदमेबाजी, असुविधा और नुकसान के साथ-साथ जनता को असुविधा पैदा कर रहा है। अगर सदनों में बुद्धिजीवी और वकील जैसे पेशेवर न हों तो ऐसा ही होता है।

Divyansh Singh

मिट्टी का तन, मस्ती का मन; छड़ भर जीवन, मेरा परिचय।

Related Post

डीएम को सौंपी ये खास चीज

सीएम योगी से प्रेरित नन्हे बालक ने कोरोना से जंग के लिए डीएम को सौंपी ये खास चीज

Posted by - March 29, 2020 0
बस्ती। कोरोना की जंग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री आदित्यनाथ की अपील के बाद देश के कोने-कोने से लोग…
आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान

आर्थिक मोर्चे पर बुरी खबर: एडीबी ने विकास दर का अनुमान घटाकर 5.1 प्रतिशत किया

Posted by - December 11, 2019 0
नई दिल्ली। केंद्र की मोदी सरकार के लिए आर्थिक मोर्चे को लेकर बुरी खबर आई है। एशियाई विकास बैंक (एडीबी)…