Bihar

बिहार में शिक्षण संस्थान बंद, सड़क पर छात्र, सासाराम में तोड़फोड़, आगजनी और बवाल

229 0
रोहतास। रोहतास में छात्रों ने जमकर बवाल (Ruckus of students in sasaram rohtas) काटा है। छात्र कोचिंग सेंन्टर्स के बंद होने से नाराज बताए जा रहे हैं। मौके पर भारी पुलिस बल की तैनाती की गई है।

सासाराम में छात्रों का  जोरदार हंगामा देखने को मिला है। यहां छात्रों का गुस्सा कोचिंग संस्थान बंद होने को लेकर फूटा है। आक्रोशित छात्रों ने जमकर बवाल काटा है। इस दौरान छात्रों ने कलेक्ट्रेट और पोस्ट ऑफिस चौराहे पर जमकर तोड़फोड़ किया है। छात्रों के हंगामें को देखते हुए भारी संख्या में मौके पर पुलिस पहुंची हुई है। बता दें कि पिछले कई दिनों से कोरोना संक्रमण  को लेकर सासाराम में कोचिंग सेंटरर्स बंद हैं जिसके कारण छात्रों को पढ़ाई करने में दिक्क्त हो रही है.

कोचिंग बंद कराने गई टीम पर टूट पड़े छात्र

जानकारी के अनुसार, रोहतास जिले में आज कोविड-19 के तहत सरकार के द्वारा जारी गाइडलाइंस के निर्देश का पालन कराने को लेकर अधिकारियों की टीम गौरक्षणी में कोचिंग बंद कराने पहुंची थी लेकिन पुलिस टीम के वहां पहुंचते ही छात्रों का गुस्सा फूट पड़ा। कोचिंग के छात्र इस दौरान सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए विरोध प्रदर्शन पर उतर गए और आगजनी पथराव करना शुरू कर दिया जिसमें पुलिस के कई वाहनों के शीशे टूटे भी हैं। वहीं पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई की है।

बनी रही अफरातफरी की स्थिति

छात्रों के हंगामे के दौरान पोस्ट ऑफिस  से लेकर समाहरणालय तक अफरातफरी का माहौल रहा. छात्रों की टोलियां इन जगहों पर नारेबाजी करती हुई दिखाई दीं। इस दौरान खबर आई कि छात्रों में कलेक्ट्रेट में भी तोड़फोड़ किया है। छात्रों के हंगामे के कारण इलाके में अफरातफरी की स्थिति बनी हुई है।

भारी पुलिस बल की हुई है तैनाती

बताते चलें कि मौके पर भारी संख्या में पुलिस फोर्स को लगाया गया है। वहीं दूसरी ओर छात्रों का गुस्सा शांत होने का नाम नहीं ले रहा है। छात्रों का कहना है कि बिहार राज्य में कोई शैक्षणिक संस्थान नहीं बंद होंगे, कोरोना केवल स्कूल कॉलेज में ही आ रहे हैं, जहां चुनाव हो रहे हैं, वहां पर कोरोना दस्तक क्यों नहीं दे रहा है।

दर्जनों छोत्रों को पुलिस ने लिया हिरासत में

इस मामले के बारे में बताते हुए रोहतास के एसपी आशीष भारती जानकारी दी है कि छात्रों के द्वारा किए गए उपद्रव में पुलिस ने कार्रवाई कर दर्जनभर से अधिक छात्रों को हिरासत में लिया है। उन्होंने बताया कि छात्रों को हंगामे के लिए जानबूझकर उकसाया गया है।

आशीष भारती, रोहतास एसपी के अनुसार-

ऐसे असामाजिक तत्वों के खिलाफ पुलिस प्राथमिकी दर्ज करके कार्रवाई कर रही है। किसी भी कीमत पर उपद्रवियों को बख्शा नहीं जाएगा। वीडियो फुटेज के आधार पर उपद्रवियों को चिन्हित किया जा रहा है। साथ ही यह भी पता लगा जा रहा है कि किन परिस्थितियों में गाइडलाइन का उल्लंघन करते हुए कोचिंग संस्थानों में छात्रों को बुलाया गया था’।

बताते चलें कि छात्रों के द्वारा किए गए इस हंगामें के कारण कई घंटों तक सासाराम का मुख्य चौराहा रण क्षेत्र बना रहा। पुलिस और छात्र आमने सामने रहे। इस दौरान जमकर बवाल छात्रों की ओर से काटा गया। वही छात्रों के पथराव में पुलिस कर्मियों के अलावा कई पत्रकारों को भी चोटें आई हैं।

Related Post

Chardham yatra

चारधाम यात्रा के रजिस्ट्रेशन में होगा बदलाव, फोटोमैट्रिक पंजीकरण की व्यवस्था

Posted by - March 16, 2021 0
देहरादून। चारधाम यात्रा (Chardham Yatra) पर आने वाले यात्रियों के लिए पर्यटन विभाग फोटोमैट्रिक पंजीकरण की व्यवस्था करने जा रहा…
निर्भया कांड

हिमाचल के रवि कुमार निर्भया कांड के दोषियों को फांसी देने के लिए, जल्लाद बनने को तैयार

Posted by - December 4, 2019 0
नई दिल्ली। हिमाचल प्रदेश में शिमला के रहने वाले रवि कुमार ने बुधवार को राष्ट्रपति कोविंद को दिल्ली की तिहाड़…
corona cases in india

यूपी में कोरोना के 103 नये मामले, तीन और की मौत लखनऊ में 17 मिले संक्रमित,

Posted by - February 14, 2021 0
लखनऊ। उत्तर प्रदेश में अब सोमवार के साथ ही मंगलवार को भी फ्रंट लाइन वर्कर्स का वैक्सीनशन होगा। अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल ने रविवार को बताया कि अब तक 8.9 लाख स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंट लाइन कर्मियों को कोविड वैक्सीनेशन लगाने का काम किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य कर्मियों के बाद फ्रंट लाइन कर्मियों को टीके लगाये जा रहे हैं। इसी क्रम में 15 और 16 फरवरी को वैक्सीन के लिए चिन्हित लोगों को दो दिन पहले ही सूचित करने के निर्देश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा दिये गये हैं, जिससे कि संबंधित कर्मी समय से पहुंचकर वैक्सीन की डोज लगवा सके। इसी बीच प्रदेश में रविवार को कोरोना के 103 नये मामले सामने आये हैं, जबकि तीन और की मौत हो गयी है। इसी तरह राजधानी लखनऊ में भी 17 और पीड़ित मिले हैं और एक मरीज की मौत हो गयी है। मौजूदा समय में प्रदेश में संक्रमण अब स्थिति लगभग पूरी तरह से नियंत्रण में है। जहां एक तरफ रोज होने वाली मौतों की संख्या में भरी कमी हुई है, वहीँ दूसरी तरफ एक्टिव केसेस का नंबर भी कम हो रहा है। वैसे प्रदेश में अब तक कुल 6,02,190 संक्रमित मिल चुके हैं। इसके साथ ही मरने वालों का आंकड़ा भी अब बढ़ कर 8,702 हो गया है। रविवार को मरने वालों में लखनऊ के अलावा मेरठ और लखीमपुर खीरी के 1-1 मरीज शामिल हैं। अपर मुख्य सचिव ने लोक भवन में प्रेस प्रतिनिधियों को बात करते हुए बताया कि प्रदेश में कोविड से रिकवरी का प्रतिशत अब 98 फीसदी से ज्यादा हो गया है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में 156 और अब तक 5,90,448 लोग कोविड-19 से ठीक होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं। प्रदेश में सर्विलांस टीम के माध्यम से 1,85,179 क्षेत्रों में 5,11,270 टीम दिवस के माध्यम से 3,14,57,411 घरों के 15,27,66,050 जनसंख्या का सर्वेक्षण किया गया है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में शनिवार को एक दिन में कुल 1,21,440 सैम्पल की जांच की गयी। प्रदेश में अब तक कुल 2,95,61,480 सैम्पल की जांच की गयी है। सहगल ने बताया कि प्रदेश में सर्विलांस का नया प्रयोग कर हर परिवार तक पहुंच कर उनका हालचाल लेते हुए कोविड संक्रमण की जानकारी ली जा रही है। उन्होंने बताया कि अब तक 2.95 करोड़ से ज्यादा कोविड के टेस्ट और 15.27 करोड़ से ज्यादा व्यक्तियों से संपर्क कर कोविड संक्रमण की जानकारी ली गयी है। प्रदेश में कोरोना का संक्रमण कम हुआ है। मुख्यमंत्री के निर्देशन में प्रदेश सरकार के कोविड संक्रमण के प्रभावी नियंत्रण की कार्ययोजना कारगर सिद्ध हो रही है। प्रदेश में सर्विलांस, कांट्रैक्ट कांटेक्ट व एग्रेसिव टेस्टिंग से कोविड नियंत्रण में सफलता मिली है।