pm modi

IIT के छात्रों से पीएम मोदी बोले- सहूलियत के लिए शॉर्टकट न अपनाएं

91 0

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Modi) ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) कानपुर के 54वें दीक्षांत समारोह में युवा पीढ़ी को जीवन का बहुमुल्य पाठ पढ़ाते हुये मंगलवार को कहा कि वे जीवन में सहूलियत का चयन न करें, बल्कि हमेशा चुनौतियों का सामना करने को तत्पर रहें। उन्होंने यह भी कहा कि जीवन में बहुत सारे लोग ऐसे होंगे जो सहूलियत के लिए शॉर्टकट की सलाह देंगे, पर मेरी सलाह यही होगी कि आप चुनौती को जरूर चुनें।

प्रधानमंत्री मोदी (pm modi) ने बतौर मुख्य अतिथि समारोह को संबोधित करते हुये कहा कि आज से शुरू हुई यात्रा में आपको सहूलियत के लिए शॉर्टकट भी बहुत लोग बताएंगे। लेकिन मेरी सलाह यही होगी कि आप कंफर्ट मत चुनना, चैलेंज जरूर चुनना। क्योंकि, आप चाहें या न चाहें, जीवन में चुनौतियां आनी ही हैं। जो लोग उनसे भागते हैं वो उनका शिकार बन जाते हैं।

प्रधानमंत्री ने इससे पहले दीक्षांत समारोह में ब्लॉकचेन-आधारित डिजिटल डिग्री लॉन्च की। ये डिजिटल डिग्री विश्व स्तर पर सत्यापित की जा सकती हैं और इसके साथ फर्जीवाड़ा संभव नहीं है। समारोह के दौरान प्रधानमंत्री ने 1,723 छात्रों को ऑनलाइन डिग्री प्रदान की।

प्रधानमंत्री ने इस दौरान केंद्र सरकार द्वारा उठाये गये कदमों की भी जानकारी साझा की। उन्होंने युवाओं को प्रौद्योगिकी के साथ-साथ मानवीय संवेदनाओं, कल्पनाओं और जिज्ञासा को भी कायम रखने की सलाह दी। कोडिंग करते रहो, लेकिन लोगों के साथ संपर्क भी बनाये रखें।

उन्होंने कहा कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) विकसित करें, लेकिन ह्यूमन इंटेलिजेंस से संपर्क न खोयें। उन्होंने कहा कि आपका प्रशिक्षण, कौशल और आज का ज्ञान निश्चित रूप से आपको अपनी जगह बनाने में मदद करेगा। आपने यहां जो व्यक्तित्व विकसित किया है, वह आपको समग्र रूप से समाज की सेवा करने और अपने राष्ट्र को सशक्त बनाने की शक्ति देगा:

प्रधानमंत्री ने ‘आत्मनिर्भर भारत’ को एकमात्र ‘पूर्ण स्वतंत्रता’ बताते हुये कहा कि भारत को इसकी जरूरत है। उन्होंने कहा कि ऐसा होने पर राष्ट्र को दूसरों पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि यदि हम आत्मनिर्भर नहीं होंगे, तो हमारा देश अपने लक्ष्य कैसे पूरे करेगा, अपनी भाग्य तक कैसे पहुंचेगा?

उन्होंने कहा कि आपने जब आईआईटी कानपुर में प्रवेश लिया था और अब जब आप यहां से निकल रहे हैं, तब और अब में, आप अपने में बहुत बड़ा परिवर्तन महसूस कर रहे होंगे। यहां आने से पहले एक अज्ञात का डर होगा, एक अज्ञात का प्रश्न होगा। अब अज्ञात का डर नहीं है, अब पूरी दुनिया को अन्वेषण करना करने का हौसला है। अब अज्ञात की क्वेरी नहीं है, अब सर्वश्रेष्ठ के लिए क्वेस्ट है, पूरी दुनिया पर छा जाने का सपना है।

उन्होंने कहा कि कानपुर भारत के उन कुछ चुनिंदा शहरों में से है, जो इतना विविध है। सत्ती चौरा घाट से लेकर मदारी पासी तक, नाना साहब से लेकर बटुकेश्वर दत्त तक, जब हम इस शहर की सैर करते हैं तो ऐसा लगता है जैसे हम स्वतंत्रता संग्राम के बलिदानों के गौरव की, उस गौरवशाली अतीत की सैर कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि 1930 के उस दौर में जो 20-25 साल के नौजवान थे, 1947 तक उनकी यात्रा और 1947 में आजादी की सिद्धि, उनके जीवन का गोल्डन फेज थी। आज आप भी एक तरह से उस जैसे ही स्वर्ण युग में कदम रख रहे हैं। जैसे यह राष्ट्र के जीवन का अमृतकाल है, वैसे ही यह आपके जीवन का भी अमृतकाल है।

उन्होंने कहा कि ये दौर, यह 21वीं सदी, पूरी तरह प्रौद्योगिकी संचालित है। इस दशक में भी प्रौद्योगिकी अलग-अलग क्षेत्रों में अपना दबदबा और बढ़ाने वाली है। बिना प्रौद्योगिकी के जीवन अब एक तरह से अधूरा ही होगा। ये जीवन और प्रौद्योगिकी की स्पर्धा का युग है और मुझे विश्वास है कि इसमें आप जरूर आगे निकलेंगे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि जो सोच और रवैया आज आपका है, वही रवैया देश का भी है। पहले अगर सोच काम चलाने की होती थी, तो आज सोच कुछ कर गुजरने की, काम करके नतीजे लाने की है। पहले अगर समस्याओं से पीछा छुड़ाने की कोशिश होती थी, तो आज समस्याओं के समाधान के लिए संकल्प लिए जाते हैं।

उन्होंने कहा कि जब देश की आजादी को 25 साल हुए, तब तक हमें भी अपने पैरों पर खड़ा होने के लिए बहुत कुछ कर लेना चाहिए था। तब से लेकर अब तक बहुत देर हो चुकी है, देश बहुत समय गंवा चुका है। बीच में 2 पीढ़ियां चली गईं इसलिए हमें 2 पल भी नहीं गंवाना है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि मेरी बातों में आपको अधीरता नजर आ रही होगी लेकिन मैं चाहता हूं कि आप भी इसी तरह आत्मनिर्भर भारत के लिए अधीर बनें। आत्मनिर्भर भारत, पूर्ण आजादी का मूल स्वरूप ही है, जहां हम किसी पर भी निर्भर नहीं रहेंगे।

उन्होंने कहा कि आजादी के इस 75वें साल में हमारे पास 75 से अधिक यूनीकॉर्न हैं, 50,000 से अधिक स्टार्ट-अप हैं। इनमें से 10,000 तो केवल पिछले 6 महीनों में आए हैं। आज भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा स्टार्टअप हब बनकर उभरा है। कितने स्टार्ट-अप तो हमारी आईआईटी के युवाओं ने ही शुरू किए हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि कौन भारतीय नहीं चाहेगा कि भारत की कंपनियां ग्लोबल बनें, भारत के उत्पाद वैश्विक बनें। जो आईआईटी को जानता है, यहां के टैलेंट को जानता है, यहां के प्रोफेसर्स की मेहनत को जानता है, वो ये विश्वास करता है ये आईआईटी के नौजवान जरूर करेंगे।

Related Post

Student

शिक्षक की हत्या का पुलिस ने किया खुलासा, कक्षा 12 का प्रेमी छात्र गिरफ्तार

Posted by - July 4, 2022 0
अयोध्या: अयोध्या (Ayodhya) के बहुचर्चित महिला शिक्षक हत्याकांड का पुलिस ने आज खुलासा कर दिया है। खुलासा काफी चौंकाने वाला…
cm yogi

सीएम योगी ने आलाधिकारियों संग की बैठक, दागी पुलिस अफसरों को बर्खास्त करने के दिये निर्देश

Posted by - October 1, 2021 0
लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश पुलिस की कार्यशैली को लेकर बेहद गंभीर हैं। शुक्रवार को उन्होंने फिर से इसे लेकर…
cremation ghat

लखनऊ के श्मशानों में कम पड़ रही जगह, दफनाएं गए बच्चों के शवों के ऊपर जलाया जा रहे दूसरे शव

Posted by - April 19, 2021 0
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के लखनऊ में कोरोना संक्रमण की वजह से हालात बेहद भयावह हैं। अचानक श्मशान घाट पर बड़ी…