जानें भाई दूज मनाने का तरीका और क्या है इसका महत्त्व

275 0

लखनऊ डेस्क। कार्तिक शुक्ल पक्ष में द्वितीया तिथि जब अपराह्न के समय आये तो उस दिन भाई दूज मनाई जाती है। अगर कार्तिक शुक्ल पक्ष में जब मध्याह्न के समय प्रतिपदा तिथि शुरू हो तो भाई दूज मनाना चाहिए। हालांकि यह मत तर्क संगत नहीं बताया जाता है।

ये भी पढ़ें :-Diwali 2019: जानें क्यों मनाई जाती है दिवाली, क्या है इसकी मान्यता 

आपको बता दें यदि दोनों दिन अपराह्न के समय द्वितीया तिथि लग जाती है तो भाई दूज अगले दिन मनाने का विधान है। इसके अलावा यदि दोनों दिन अपराह्न के समय द्वितीया तिथि नहीं आती है तो भी भाई दूज अगले दिन मनाई जानी चाहिए।

ये भी पढ़ें :-कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है भाई दूज, जानें इसका महत्त्व 

जानकारी के मुताबिक सूर्य पुत्री यमी अर्थात् यमुना ने अपने भाई यम को कार्तिक शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को अपने घर निमन्त्रित कर अपने हाथों से बना स्वादिष्ट भोजन कराया। जिससे यमराज बहुत प्रसन्न हुए और उन्होंने अपनी बहन यमुना से एक वरदान मांगने को कहा।

Loading...
loading...

Related Post

बॉलीवुड की रामायण में ये साबित होंगे बेहतर पात्र

रामानंद सागर के शो की सीता बोलीं- बॉलीवुड की रामायण में ये साबित होंगे बेहतर पात्र

Posted by - April 4, 2020 0
मुंबई। कोरोनावायरस के खात्मे के लिए पीएम मोदी ने देश में 21 दिनों का लॉकडाउन लागू किया है। इस दौरान…
सौरव गांगुली

सौरव गांगुली का 2024 तक बढ़ सकता है कार्यकाल, सुप्रीम कोर्ट की मंजूरी के लिए भेजा

Posted by - December 1, 2019 0
मुंबई। सौरव गांगुली की अगुवाई में पहली बार रविवार को बीसीसीआई की वार्षिक आम बैठक (एजीएम) हुई। बीसीसीआई का चेयरमैन…