कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है भाई दूज, जानें इसका महत्त्व

191 0

लखनऊ डेस्क। भाई दूज पर्व कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है|  भाई दूज दीपावली के दो दिन बाद आने वाला एक ऐसा उत्सव है, जो भाई के प्रति बहन के अगाध प्रेम और स्नेह को अभिव्यक्त करता है ।

ये भी पढ़ें :-Diwali Recipe : लक्ष्मी-गणेश जी को भोग लगाने के लिए इस तरीके बनाएं मखाना खीर 

आपको बता दें कार्तिक माह के शुक्ल द्वितीया को यमुना अपने द्वार पर भाई यमराज को खड़ा देखकर हर्ष-विभोर हो जाती हैं| प्रसन्नचित्त होकर भाई का स्वागत सत्कार कर भोजन करवाती हैं| बहन यमुना के प्रेम, समर्पण और स्नेह से प्रसन्न होकर यमदेव ने वर मांगने को कहा, तब बहन यमुना ने भाई यमराज से कहा कि आप प्रतिवर्ष इस दिन मेरे यहां भोजन करने आएं तथा इस दिन जो बहन अपने भाई को टीका कर भोजन खिलाए उसे आपका भय न रहे|

ये भी पढ़ें :-Diwali 2019: जानें क्यों मनाई जाती है दिवाली, क्या है इसकी मान्यता 

जानकारी के मुताबिक कार्तिक शुक्ल द्वितीया को पूर्व काल में यमुना ने यमदेव को अपने घर पर सत्कारपूर्वक भोजन कराया था|  जिससे उस दिन नारकी जीवों को यातना से छुटकारा मिला और वे तृप्त हुए|  पाप मुक्त होकर वे सभी सांसारिक बंधनों से मुक्त हो गए | उन सब ने मिलकर एक महान उत्सव मनाया जो यमलोक के राज्य को सुख पहुंचाने वाला था| इसी वजह से यह तिथि तीनों लोकों में यम द्वितीया के नाम से विख्यात हुई|

Loading...
loading...

Related Post

सिडनी टेस्ट में कंगारुओं को धूल चटाने के बाद कुलदीप ने बोली ये बात

Posted by - January 5, 2019 0
सिडनी। ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर अपने पहले टेस्ट में प्रभावित करने वाले भारतीय स्पिनर कुलदीप यादव ने कहा कि उन्हें टेस्ट गेंदबाज…
भारत गौरव अलंकरण

ब्रिटिश पार्लियामेंट में निर्भया की मां आशा देवी को मिलेगा भारत गौरव अलंकरण

Posted by - March 20, 2020 0
नई दिल्ली। निर्भया के गुनहगारों को लंबे संघर्ष के बाद फांसी के तख्ते तक पहुंचाकर न्याय हासिल करने वाली निर्भया…