कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है भाई दूज, जानें इसका महत्त्व

99 0

लखनऊ डेस्क। भाई दूज पर्व कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है|  भाई दूज दीपावली के दो दिन बाद आने वाला एक ऐसा उत्सव है, जो भाई के प्रति बहन के अगाध प्रेम और स्नेह को अभिव्यक्त करता है ।

ये भी पढ़ें :-Diwali Recipe : लक्ष्मी-गणेश जी को भोग लगाने के लिए इस तरीके बनाएं मखाना खीर 

आपको बता दें कार्तिक माह के शुक्ल द्वितीया को यमुना अपने द्वार पर भाई यमराज को खड़ा देखकर हर्ष-विभोर हो जाती हैं| प्रसन्नचित्त होकर भाई का स्वागत सत्कार कर भोजन करवाती हैं| बहन यमुना के प्रेम, समर्पण और स्नेह से प्रसन्न होकर यमदेव ने वर मांगने को कहा, तब बहन यमुना ने भाई यमराज से कहा कि आप प्रतिवर्ष इस दिन मेरे यहां भोजन करने आएं तथा इस दिन जो बहन अपने भाई को टीका कर भोजन खिलाए उसे आपका भय न रहे|

ये भी पढ़ें :-Diwali 2019: जानें क्यों मनाई जाती है दिवाली, क्या है इसकी मान्यता 

जानकारी के मुताबिक कार्तिक शुक्ल द्वितीया को पूर्व काल में यमुना ने यमदेव को अपने घर पर सत्कारपूर्वक भोजन कराया था|  जिससे उस दिन नारकी जीवों को यातना से छुटकारा मिला और वे तृप्त हुए|  पाप मुक्त होकर वे सभी सांसारिक बंधनों से मुक्त हो गए | उन सब ने मिलकर एक महान उत्सव मनाया जो यमलोक के राज्य को सुख पहुंचाने वाला था| इसी वजह से यह तिथि तीनों लोकों में यम द्वितीया के नाम से विख्यात हुई|

loading...
Loading...

Related Post

हनुमान चालीसा का पाठ

चुनाव आयोग की रोक के बाद ‘बजरंगबली’ की शरण में पहुचे योगी, किया हनुमान चालीसा का पाठ

Posted by - April 16, 2019 0
लखनऊ। चुनाव आयोग के चुनाव प्रचार पर रोक लगाने के बाद उत्तर प्रदेश से सीएम योगी के चुनाव प्रचार करने…

इरफान खान, सोनाली बेंद्रे, ऋषी कपूर के बाद अब कैंसर से जूझ रहे राकेश रोशन

Posted by - January 8, 2019 0
मुंबई। बीते साल जहां अभिनेता इरफान खान, अभिनेत्री सोनाली बेंद्रे, ऋषी कपूर जैसे सितारे बीमारी की चपेट में आए वहीँ अब…

सावधान: अगर आपके भी पैरों में होता है रात में दर्द, बन सकता है इन गंभीर बीमारियों की वजह

Posted by - July 18, 2019 0
लखनऊ डेस्क। आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में व्यक्ति अपना ख्याल नही रख पता है। जिसकी वजह से पीठ, कमर…