इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल होंगे ईडी के अधिकारी राजेश्वर सिंह! विपक्षी नेताओं की जांच में रहे थे आगे

50 0

यूपी में विधानसभा चुनाव को लेकर सरगर्मी बढ़ी हुई है, इसी बीच प्रवर्तन निदेशालय के वरिष्ठ अधिकारी राजेश्वर सिंह भाजपा में शामिल हो सकते हैं। एनकाउंंटर स्पेशलिस्ट राजेश्वर सिंह कांग्रेस नेताओं के खिलाफ कोयला घोटाला, 2जी स्पैक्ट्रम, कॉमनवेल्थ गेम्स घोटाला मामले की जांच की थी। उन्होंने एयरसेल-मैक्सिस सौदे की भी जांच की थी जिसमें 750 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त की थी, इसमें कीर्ति चिदंबरम को आरोपी बनाया गया था।

राजेश्वर की बहन आभा सिंह ने बताया कि उनके भाई ने वॉलेंटियरी रिटायरमेंट ले लिया है, अब वह देश सेवा करेंगे, देश को उनकी जरूरत है। सूत्रों के मुताबिक वह प्रयागराज शहर उत्तरी की सीट से भाजपा के टिकट पर दावेदारी कर सकते हैं हालांकि इस सीट पर हर्षवर्धन का टिकट काटना आसान काम नहीं होगा।

दरअसल यूपी में अगले साल विधानसभा चुनाव हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि राजेश्वर सिंह राजनीति में दांव आजमा सकते हैं। सूत्रों के मुताबिक उनके बीजेपी में जाने की चर्चा है। बताया जा रहा है कि वह इलाहाबाद उत्तर विधानसभा सीट से चुनाव लड़ सकते हैं। सुलतानपुर जिले से ताल्लुक रखने वाले राजेश्वर सिंह 1994 बैच के पीपीएस (प्रांतीय पुलिस सेवा) अधिकारी हैं। 2009 में वह डेप्युटेशन पर ईडी में भेजे गए थे।

काबुल एयरपोर्ट के पास मौजूद 150 लोगों को जबरन उठा ले गए तालिबानी, ज्यादातर भारतीय नागरिक

2014 में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद उन्हें ईडी में समायोजित कर लिया गया था।लंबी छुट्टी के बाद अभी राजेश्वर सिंह ईडी के लखनऊ ऑफिस में तैनात हैं। उनकी पत्नी लक्ष्मी सिंह की गिनती भी तेज आईपीएस अधिकारियों में होती है। अभी वह लखनऊ रेंज की आईजी हैं। 2018 में राजेश्वर सिंह के खिलाफ सरकार ने एक जांच भी शुरू की थी। हालांकि इस जांच में कुछ भी निकलकर नहीं आया।

Divyansh Singh

मिट्टी का तन, मस्ती का मन; छड़ भर जीवन, मेरा परिचय।

Related Post

पीएफ घोटाला: सरकार के रवैये पर प्रियंका और माया ने उठाए सवाल

Posted by - November 5, 2019 0
लखनऊ। पीएफ घोटाले पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा और बसपा सुप्रीमों मायावती ने योगी सरकार पर निशाना साधा है…
नेट बैंकिंग के जरिये विदेश में धन ट्रांसफर करता था सलीम

नेट बैंकिंग के जरिये विदेश में धन ट्रांसफर करता था सलीम

Posted by - March 2, 2021 0
यूपी एसटीएफ द्वारा अयोध्या से गिरफ्तार किये गये नेपाली नागरिक सलीम ने खुलासा किया है कि उसके साथ के कई अन्य नेपालियों ने फर्जी दस्तावेजों के जरिये बैंक खाता खोलवाकर रुपये लेन-देन कर रहे हैं। ऐसे लोगों ने यूपी के विभिन्न शहरों में यहां की आईडी तक बनवा रखी है। सलीम से पूछताछ के बाद एसटीएफ उसके ऐसे कई नेपाली नागरिकों की तलाश कर रही है। सलीम को सोमवार को गिरफ्तार किया गया था। वह वाट्सएप कॉल के जरिए पाकिस्तान, सऊदी अरब और सूडान के नागरिकों से भी बात भी करता था। उसके पास से फर्जी आधार कार्ड और नेपाली दस्तावेज बरामद हुए थे। शाहजहांपुर में 3 स्कूली छात्राएं लापता यूपी एसटीएफ के एक अधिकारी ने बताया कि सलीम की गिरफ्तारी के बाद उसके गहन पूछताछ की गयी। पूछताछ में बताया कि उसके साथ नेपाल से आये कई और साथियों ने यूपी के विभिन्न जिलों में फर्जी दस्तावेज तैयार कर विभिन्न बैंकों में खाते खुलवा रखे हैं जिनके जरिये वे लोग रुपये का ट्रांजेक्शन करते हैं। वे लोग नेट बैंकिग के जरिये विदेशों में धन ट्रांसफर कर रहे हैं। सलीम ने ऐसे अपने कई साथियों के नाम पते भी बताए हैं। सलीम से पूछताछ के बाद एसटीएफ ऐसे लोगों के बारे में पता लगाने में जुटी है। नेपाल के बांके जिले के लक्षनपुर, नेपालगंज का रहने वाले मो. सलीम खान को यूपी एसटीएफ ने कल गिरफ्तार किया था। दरअसल, एसटीएफ को काफी समय से सूचना मिल  रही थी कि एक संदिग्ध व्यक्ति अयोध्या व उसके आस पास के जिलों में अलग-अलग स्थान पर फर्जी दस्तावेजों के आधार पर अपनी पहचान को छिपाकर रह रहा है। इस सूचना पर एसटीएफ की एक टीम छानबीन में लगायी गयी थी। जांच में पता चला कि ये व्यक्ति नेपाली नागरिक सलीम खान है। उसने अपनी जन्म तिथि व अन्य पहचान छिपाकर फर्जी दस्तावेज से अपना आधार बनवाया है जिसका नम्बर 381360937629 है। उसी आधार पर उसने भारतीय मोबाइल सिम कार्ड लिया है और वर्ष-2016 में श्रावस्ती में इलाहाबाद व इण्डियन बैंक की हेमपुर ब्रांच में खाता संख्या खुलवाया है। यूपी पंचायत चुनाव में इस बार उम्मीदवारों को मिलेंगे ये चिन्ह…
पी चिदंबरम

चिदंबरम बोले- पीएम मोदी अर्थव्यवस्था पर मौन और उनके मंत्री को जनता को दे रहे हैं झांसा

Posted by - December 5, 2019 0
नई दिल्ली। आईएनएक्स मीडिया केस में सुप्रीम कोर्ट से जमानत पाने के बाद पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम गुरुवार को…