दिल्ली में सबसे ज्यादा हुए सड़क हादसे, एनसीआरबी के आकंड़ों से हुआ खुलासा

29 0

नई दिल्ली। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरों की ताजा रिपोर्ट के आकंड़ों के मुताबिक, सड़क हादसों में मौत होने के मामले में दिल्ली देश में सबसे ऊपर है। वहीं सुसाइड की दर में भी 25 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। रिपोर्ट के मुताबिक, आग लगने और ट्रेनों से कटकर मरने की घटनाओं में भी दिल्ली काफी आगे है।

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरों ने पिछले साल देश के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में दुर्घटना और सुसाइड की वजह से हुई मौतों का ब्योरा जारी किया है। इस रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली देश के उन चंद राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में शामिल है। यहां पिछले साल किसी किसान या खेतिहर मजदूर ने खुदकुशी नहीं की। हालांकि रोड एक्सीडेंट के मामले में दिल्ली देश के 53 बड़े शहरों में सबसे ऊपर है।

दूसरे नंबर पर रही चेन्नई

इन हादसों में 1151 लोगों की मौत हुई है, जो शहरों में सड़क हादसों में हुई मौतों के 10 फीसदी के बराबर है। जबकि 872 लोगों की मौत के साथ चेन्नई दूसरे नंबर पर है। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो की रिपोर्ट के अनुसार रोड एक्सीडेंट में ओवर स्पीडिंग की वजह से 54.8 फीसदी हादसे हुए हैं। तो वहीं 27.6 फीसदी हादसे खतरनाक तरीके औऱ लापरवाही से गाड़ी चलाने की वजह से हुए है। इसके अलावा शराब पीकर गाड़ी चालने की वजह से 4 फीसदी हादसे पेश आए हैं।

दिल्ली में कुल 3142 लोगों ने की सुसाइड

दिल्ली में पिछले साल कुल 3142 लोगों ने सुसाइड किया। जो कि 2019 के मुकाबले 24.8 फीसदी अधिक है। इसके अलावा महानगरों में करीब 34 प्रतिशत मामलों में घरेलू कारणों के चलते लोगों ने जान दी। इसके अलावा करीब 18 प्रतिशत लोगों ने बीमारी के कारण सुसाइड किया है। यही नहीं देश में 53 शहरों में कुल 999 लोगों की मौत ट्रेन की चपेट में आने से हुई है। इनमें से 52.7 फीसदी हादसे अकेले दिल्ली में हुए हैं। दिल्ली में पिछले साल हुई 128 घटनाओं में 102 लोगों की मौत हुई, वहीं 182 लोग घायल हुए।

2020 में दुर्घटना से मौत के मामले में घटे

देश में साल 2020 के दौरान दुर्घटना में मौत के 3,74,397 मामले दर्ज किए गए हैं। इनमें से 35 फीसदी मौतें सड़क दुर्घटना में हुई हैं। एनसीआरबी के आकंड़ों के मुताबिक, साल 2020 के दौरान 2019 की तुलना में दुर्घटना में मौत के मामलों की संख्या कम रही जोकि 2019 में 4,21,104 दर्ज की गई थी। दुर्घटना में मौत की दर साल 2020 के दौरान प्रति लाख आबादी पर 27.7 रही, जोकि पिछले साल 31.4 की तुलना में कम रही है।

2020 में सड़क दुर्घटना के 3,54,796 मामले दर्ज

एनसीआरबी के मुताबिक, साल 2020 के दौरान देश में सड़क दुर्घटना के 3,54,796 मामले दर्ज किए गए, जिनमें 1,33,201 लोगों की मौत हुई और 3,35,201 लोग घायल हुए। इसके अनुसार 60 फीसदी से अधिक सड़क हादसों का कारण तेज गति से वाहन चलाना रहा और इन हादसों में 75,333 लोगों की मौत हुई जबकि 2,09,736 लोग घायल हुए। एनसीआरबी के मुताबिक, सड़क दुर्घटनाओं के शिकार लोगों में से 43.6 प्रतिशत दोपहिया वाहनों पर सवार थे, इसके बाद कार, ट्रक या लॉरी और बसों के साथ हुए हादसे के कारण 13.2 प्रतिशत, 12.8 प्रतिशत और 3.1 प्रतिशत मौतें हुईं।

Related Post

मनोहर पर्रिकर

रक्षा अध्ययन संस्थान अब पूर्व रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर के नाम पर

Posted by - February 18, 2020 0
नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने पूर्व रक्षा मंत्री दिवंगत मनोहर पर्रिकर की ‘प्रतिबद्धता और विरासत’ के सम्मान में सरकारी थिंक…
P Chidambaram

कोरोनावायरस से बचाव के लिए केंद्र सरकार का उपाय संतोषजनक : पी चिदंबरम

Posted by - March 15, 2020 0
नई दिल्ली। पूर्व गृहमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने कोरोना वायरस से बचाव के लिये केंद्र सरकार…
अमित शाह

मोदी सरकार में आतंकियों की रूह भारत की सीमाओं में घुसने से हैं कांपती : अमित शाह

Posted by - November 21, 2019 0
लोहरदगा। झारखंड विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने गुरुवार को कांग्रेस पर बड़ा आरोप…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *