cm yogi

विदेशी नकल से नहीं हासिल होगा आत्मनिर्भरता का लक्ष्य : सीएम योगी

125 0

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi) ने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकतार्ओं से कहा कि वह जनता के बीच जाएं। उन्हें शासन की योजनाओं की खूबियां बताएं। योजनाओं पर वह उनसे विस्तार से चर्चा करें।

ऐसा करके ही वह जनता को अपना बना सकते हैं और जनता भी उन्हें अपना समझेगी। इस क्रम में उन्होंने उन योजनाओं की चर्चा की जो युवाओं के विकास और रोजगार के लिए उपयोगी साबित हो रही हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री मुद्रा योजना, प्रधानमंत्री स्टार्टअप योजना, एक जिला एक उत्पाद व कन्या सुमंगला योजना आदि की खूबियों को विस्तार से बताया।

मुख्यमंत्री रविवार शाम अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद, गोरक्षप्रांत के 61वें त्रिदिवसीय प्रांतीय अधिवेशन के समापन सत्र को संबोधित कर रहे थे। योगिराज बाबा गंभीरनाथ प्रेक्षागृह में आयोजित अधिवेशन में सीएम योगी ने नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति की चर्चा करते हुए कहा कि विद्यार्थी परिषद के कार्यकतार्ओं का यह दायित्व है कि वह विद्यार्थियों से नीति के मसौदे पर चर्चा करें और उन्हें बताएं कि किस तरह से यह नीति उनके लिए सर्वांगीण विकास की राह खोलेगी। यह भी बताएं कि यह राष्ट्रीय शिक्षा नीति ही भरत को एक बार फिर विश्वगुरु बनाएगी। उन्होंने कहा कि सुशासन के लिए युवाओं का साथ बहुत जरूरी है। युवाओं को अपनी यह जिम्मेदारी समझनी होगी। चुनौतियों में अवसर तलाश कर आगे बढ होगा। इस क्रम में मुख्यमंत्री ने कोरोना काल की चर्चा करते हुए कहा कि जब पूरी दुनिया और यहां तक कि अमेरिका जैसे सशक्त देश ने बीमारी के आगे समर्पण कर दिया था, तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश ने बड़े-बड़े साधन सम्पन्न देशों को आपदा प्रबंधन का पाठ पढ़ाया। ऐसा चुनौतियों को अवसर में बदलने से ही संभव हो पाया।

सीएम योगी ने दृष्टिबाधित बच्चों में स्पेशल टैबलेट का किया वितरण

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोई भी देश विदेशी नकल से आत्मनिर्भरता का लक्ष्य हासिल नहीं कर सकता है। इसके लिए अपनी सभ्यता और संस्कृति में ही विकल्प खोजना होगा। यही कार्य प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में देश में हो रहा है और भारत आत्मनिर्भरता की ओर तेजी से आगे बढ़ रहा है। आत्मनिर्भरता को लेकर मुख्यमंत्री ने एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) योजना की विस्तार से चर्चा की।

काकोरी क्रांति के महानायक पं. राम प्रसाद बिस्मिल के बलिदान दिवस पर उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए मुख्यमंत्री ने विद्यार्थी परिषद के कार्यकतार्ओं को उनसे राष्ट्र के प्रति समर्पित होने के लिए प्रेरित किया। इस क्रम में उन्होंने क्रांति के अन्य नायकों ठाकुर रोशन सिंह, अशफाकउल्ला खां, राजेंद्र लाहिड़ी और चंद्रशेखर आजाद को भी याद किया। मुख्यमंत्री ने आजादी की पहली लड़ाई के दौरान पूर्वांचल में क्रांति का बिगुल फूंकने वाले मंगल पांडेय और बंधु सिंह की चर्चा कर कार्यकतार्ओं में जोश भरा।

मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में पूर्वोत्तर के राज्यों के लोगों को समाज की मुख्य धारा से जोड़ने में विद्यार्थी परिषद की भूमिका की सराहना की। कहा कि उनका प्रयास रंग लाया है। आज पूर्वोत्तर के कई राज्यों में भाजपा या भाजपा समर्थित सरकार है। कभी देश में रहते हुए भी विदेशी माना जाने वाल पूर्वोत्तर आज एक भारत श्रेष्ठ भारत की परिकल्पना को साकार कर रहा है। अधिवेशन के समापन सत्र में भूमिका रखी परिषद के राष्ट्रीय कार्यपरिषद के विशेष आमंत्रित सदस्य डा. राजशरण शाही ने तथा संचालन किया गोरक्षप्रांत की अध्यक्ष प्रो. सुषमा पांडेय ने। प्रांत मंत्री सौरभ गौड़ ने अंगवस्त्र व स्मृतिचिह्न देकर मुख्यमंत्री का स्वागत किया। इस अवसर पर परिषद के गोरक्षप्रांत के सोलह जनपदों से आए कार्यकतार्ओं ने प्रतिभाग किया।

Related Post

जम्मू में पंचायतों ने विदेशी दूतों के सदस्यों से मुलाकात की

Posted by - February 19, 2021 0
केंद्रशासित प्रदेश जम्मू कश्मीर के दौरे पर आये कई देशों के दूतों ने यहां बृहस्पतिवार को पंचायतों और शहरी स्थानीय…

राजधानी दिल्‍ली में ब्लैकआउट की आशंका, केजरीवाल ने पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी

Posted by - October 9, 2021 0
नई दिल्ली। कोयले की कमी के चलते राजधानी दिल्ली समेत कई राज्यों में अभूतपूर्व बिजली संकट दस्तक दे रहा है।…
kashi vishwanath

विश्वनाथ मंदिर का पुरातात्विक सर्वेक्षण होगा, फास्ट ट्रैक कोर्ट का फैसला

Posted by - April 8, 2021 0
वाराणसी। काशी विश्वनाथ मंदिर (Vishwanath Temple) और उसी परिक्षेत्र में स्थित ज्ञानवापी मस्जिद मामले में सिविल जज सीनियर डिविजन फास्ट…