एक लोकतांत्रिक देश में विभिन्न विचारों को स्वीकार करना और समझना बेहद जरूरी- सचिन पायलट

142 0

राजस्थान के पूर्व उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट का कहना है कि विभिन्न विचारों को स्वीकार करने, सुनने और समझने के लोकतांत्रिक मानदंडों के बाद भारत एक वैश्विक शक्ति बन सकता है। सचिन पायलट का कहना है कि देश के लिए सबसे अच्छा क्या है, इस पर आम सहमति बनाते हुए हमें आगे बढ़ने की जरूरत है। सचिन पायलट ने कहा- एक लोकतांत्रिक देश में, एक अलग राय की भूमिका एक प्रमुख राय की तरह महत्वपूर्ण है।

उन्होंने कहा- भारत के लिए जो सबसे अच्छा हो सके, उसके लिए आम सहमति बनाने और आगे बढ़ने के लिए यह जरूरी है। सचिन पायलट ने आगे कहा कि भारत सबसे युवा देशों में से एक है और हम राजनेताओं के रूप में इस पीढ़ी के लिए बहुत कुछ कर रहे हैं।

पायलट राजस्थान के पूर्व डिप्टी सीएम रह चुके हैं। वे कहते हैं, एक देश और एक समाज के रूप में हमें जो करना है वह पूरी दुनिया के लिए एक आदर्श और एक प्रकाशस्तंभ बनना चाहिए, इससे भारत को हमारे देश के लिए एक वैश्विक दर्जा हासिल करने में मदद मिलेगी और हमें एक वैश्विक शक्ति के रूप में उभरने में मदद मिलेगी।

उन्होंने कहा, पिछले आधे दशक से, विचारों को स्वीकार नहीं किया जा रहा है। इसलिए, 75 साल पहले 1947 में जाने की जरूरत है, यह जानने के लिए कि कितनी विचारधाराओं, कितनी रियासतों, इतने विविध विचारों के बावजूद हम एकजुट रहे। आखिरकार, हम एक राष्ट्र के रूप में एक साथ आए।

कानपुर में मुस्लिम युवक की पिटाई मामले में अल्पसंख्यक आयोग सख्त, कमिश्नर से मांगी रिपोर्ट

पायलट ने कहा, चुनाव आएंगे और जाएंगे, पार्टियां आएंगी और जाएंगी, सरकारें आएंगी और जाएंगी लेकिन राष्ट्र हमेशा रहेगा और इस राष्ट्र को मजबूत होने की जरूरत है। एक मजबूत राष्ट्र के निर्माण के लिए, हर आवाज सुनी जानी चाहिए, कोई बात नहीं हम चाहे कितने हाशिए पर हों।उन्होंने आगे कहा, भारत सबसे युवा देशों में से एक है और हम राजनेताओं के रूप में इस पीढ़ी के लिए बहुत कुछ कर रहे हैं। हमें यह मूल्यांकन करने की आवश्यकता है कि हम युवा पीढ़ी को कितने आर्थिक अवसर प्रदान कर सकते हैं।

Related Post

एमपी: केंद्रीय मंत्री बनते ही सिंधिया ने मप्र को दी बड़ी सौगात

Posted by - July 11, 2021 0
भाजपा के राज्यसभा सांसद और मप्र के कद्दावर नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया को हाल ही में केंद्रीय मंत्री बनाया गया है।…