cylendar oxygen

कोरोना का कहर : अस्पतालों में बढ़ी ऑक्सीजन की डिमांड

99 0
लखनऊ । उत्तर प्रदेश में कोरोना की स्थिति भयावह हो गई है। ऐसे में लेवल-टू, लेवल-थ्री कोविड अस्पतालों की संख्या बढ़ गई है। ऐसे में कोविड-नॉन कोविड अस्पतालों में ऑक्सीजन (oxygen cylinder increased in uttar pradesh) की खपत दो गुना से ज्यादा हो गई है। खासकर, राजधानी में संकट के चलते दूसरे जनपदों से ऑक्सीजन मंगवाई गई है।
उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस तेजी से पैर पसारता जा रहा है। इसी के चलते अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी देखने को मिल रही है। ड्रग इंस्पेक्टर बृजेश कुमार के मुताबिक लखनऊ में पांच प्लांट हैं। इनमें 5004 जंबो सिलेंडर रिफिलिंग की क्षमता है. वहीं 4500 सिलेंडरों की इनमें रिफिलिंग हो पा रही है। इसके विपरीत 5500 सिलेंडरों की खपत रोजाना पहुंच गई है।

ड्रग कंट्रोलर एक जैन के मुताबिक राज्य में वायरस बढ़ गया है। ऐसे में गंभीर मरीजों की तदाद काफी हो गई है। लिहाजा फरवरी में जहां राज्यभर में ऑक्सीजन की डिमांड 70 मीट्रिक टन थी। यह 41 ऑक्सीजन प्लांटों से की जाती थी। वहीं अप्रैल में ऑक्सीजन की खपत 160 मीट्रिक टन तक पहुंच गई है। कोविड-नॉन कोविड, बेड न मिलने से घर पर भी लोग ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं।

लखनऊ में खपत ज्यादा

ड्रग इंस्पेक्टर बृजेश कुमार के मुताबिक लखनऊ में पांच प्लांट हैं. इनमें 5004 जंबो सिलेंडर रिफिलिंग की क्षमता है। वहीं 4500 सिलेंडरों की इनमें रिफिलिंग हो पा रही है। विपरीत इसके 5500 सिलेंडर की खपत रोजाना पहुंच गई है। सामान्य दिनों में 2000 सिलेंडरों की रोजाना खपत थी। वहीं अब 5500 खपत होने से बाराबंकी समेत अन्य जनपदों से ऑक्सीजन मंगवाई जा रही है।

160 का छोटा और 450 रुपये का बड़ा सिलेंडर

महीने भर पहले तक 1.5 क्यूबिक मीटर का ऑक्सीजन का छोटा सिलेंडर 80 रुपये में मिलता था, लेकिन अब यह 150 रुपये से 160 रुपये तक मिल रहा है। वहीं सात क्यूबिक मीटर का बड़ा ऑक्सीजन सिलेंडर जो 200 रुपये तक था अब 450 रुपये तक मिल रहा है। होम आइसोलेशन में इलाज करवा रहे कोरोना रोगियों को छोटे ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए छह हजार रुपये तक सुरक्षा राशि देनी पड़ रही है। वहीं बड़े सिलेंडर की सुरक्षा राशि 10 हजार रुपये है।

निजी अस्पतालों ने भी दोगुनी की ऑक्सीजन फीस

निजी अस्पतालों में अभी तक सामान्य वार्ड में भर्ती मरीज से 24 घंटे ऑक्सीजन सपोर्ट का 1600 रुपये लिया जा रहा था, लेकिन अब इसे बढ़ाकर 3200 रुपये तक कर दिया गया है। वहीं आइसीयू में 24 घंटे ऑक्सीजन सपोर्ट का 2400 रुपये से बढ़ाकर 4800 रुपये तक वसूला जा रहा है।

Related Post

पुलिस को नहीं मिल पा रहा धनंजय का कोई सुराग

पुलिस को नहीं मिल पा रहा धनंजय का कोई सुराग

Posted by - April 5, 2021 0
पूर्व प्रमुख अजीत सिंह हत्याकांड में आरोपित पूर्व सांसद धनंजय सिंह की तलाश में लखनऊ पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है लेकिन अभी तक उसका कोई सुराग नहीं लग पाया है। छापेमारी करने जा रही पुलिस टीम बैरंग वापस लौट रही हैं। शनिवार को जौनपुर में उसके कालीकुत्ती स्थित आवास व अन्य स्थानों पर छापेमारी की गयी  थी लेकिन उसके न मिलने पर पुलिस टीम को खाली हाथ वापस लौटना पड़ा था। इसके अलावा पुलिस टीमों ने राजधानी में धनंजय के करीबी लोगों के ठिकानों पर भी छापेमारी की है लेकिन उसका कुछ पता नहीं चल सका है। मालूम हो कि सूबे की राजधानी लखनऊ में गत छह जनवरी को मऊ के पूर्व ब्लाक प्रमुख अजीत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। मुठभेड़ में मारे जा चुके अजीत सिंह हत्याकांड के शूटरों में एक कन्हैया विश्वकर्मा उर्फ गिरधारी उर्फ डाक्टर के बयान के आधार पर लखनऊ पुलिस ने धनंजय सिंह को साजिशकर्ता के तौर पर आरोपित किया था। पुलिस को चकमा देकर धनंजय सिंह ने पिछले महीने पुराने केस में एमपीएमएलए कोर्ट प्रयागराज में आत्मसमर्पण कर दिया था। नैनी सेंट्रल जेल से उसे फतेहगढ़ सेंट्रल जेल स्थानांतरित कर दिया गया था। महाराष्ट्र में कोरोना से हालात बेकाबू, सरकार का नाइट कर्फ्यू, वीकेंड लॉकडाउन का ऐलान जब तक लखनऊ पुलिस उसे अजीत हत्याकाण्ड में वारन्ट लेती तब तक गत 31 मार्च को एमपीएमएलए कोर्ट से जमानत मंजूर हो जाने पर वह गुपचुप तरीके से जेल से रिहा हो गया था। इसे लेकर लखनऊ पुलिस की खूब किरकिरी हुई। इसके बाद से लखनऊ पुलिस अजीत हत्याकाण्ड में उसे आरोपी मानकर लगातार  छापेमारी कर रही है लेकिन उसका कुछ पता नहीं चल पा रहा है। इसी कड़ी में धनंजय सिंह की तलाश में शनिवार को जौनपुर गयी लखनऊ पुलिस की टीम ने स्थानीय पुलिस को साथ लेकर उसके कालीकुत्ती स्थित आवास पर दबिश दी थी। वह घर पर नहीं मिला। इसके बाद पुलिस ने उसकी तलाश में जमैथा निवासी करीबी आशुतोष सिंह के दीवानी कचहरी रोड स्थित आवास पर भी छापेमारी की थी। पूर्व सांसद के गृह गांव सिकरारा थाना क्षेत्र के बनसफा गांव में भी दबिश दी गयी। मालूम हो कि शनिवार को धनजंय सिंह की पत्नी श्रीकला रेड्डी ने जिला पंचायत सदस्य पद के लिए नामांकन पत्र दाखिल किया था।