election symbol

यूपी पंचायत चुनाव में इस बार उम्मीदवारों को मिलेंगे ये चिन्ह

7174 0

लखनऊ । यूपी पंचायत चुनाव (panchayat elections 2021) के लिए राज्य निर्वाचन आयोग की तरफ से चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों के लिए आवंटित होने वाले अलग-अलग चुनाव चिन्ह तय करने का काम भी अंतिम चरण में है।आयोग की तरफ से अलग-अलग पदों के लिए अलग-अलग चुनाव चिन्ह फाइनल कर दिए गए हैं।

उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव (panchayat elections 2021) को लेकर हर स्तर पर तैयारियां तेज हैं। एक तरफ जहां पंचायती राज विभाग के स्तर पर आरक्षण को अंतिम रूप दिया जा रहा है। वहीं राज्य निर्वाचन आयोग की तरफ से चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों के लिए आवंटित होने वाले अलग-अलग चुनाव चिन्ह यानी प्रतीक चिन्ह तय करने का काम भी अंतिम चरण में है। हालांकि , आयोग की तरफ से अलग-अलग पदों के लिए अलग-अलग चुनाव चिन्ह फाइनल कर दिए गए हैं। सभी जिलों में भेजकर अलग-अलग पदों पर चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों को चुनाव प्रक्रिया के दौरान आवंटित किए जाने को लेकर निर्देश दिए गए हैं।

निर्धारित कर दिए गए हैं चुनाव चिन्ह

राज्य निर्वाचन आयोग के अपर निर्वाचन आयुक्त वेद प्रकाश वर्मा के मुताबिक ग्राम पंचायत सदस्य ग्राम प्रधान क्षेत्र पंचायत सदस्य जिला पंचायत सदस्यों के चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों के लिए अलग-अलग पद के अनुसार चुनाव चिन्ह यानी प्रतीक चिन्ह निर्धारित कर दिए गए है।  नामांकन करने वाले उम्मीदवारों को चुनाव प्रक्रिया के दौरान चुनाव चिन्ह आवंटित करने का काम किया जाएगा।

ग्राम पंचायत सदस्य के लिए ये हैं चुनाव चिन्ह

राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा निर्धारित किए गए चुनाव चिन्ह के तहत ग्राम पंचायत सदस्य पद पर चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों के लिए इस प्रकार के हैं चिन्ह निर्धारित किए गए हैं। इनमें आम, ओखली, अंगूर, केला, गुलाब का फूल, घड़ा, डमरु, तंबू, नल, पेंसिल, फरसा, बंदूक, बैडमिंटन का बल्ला, ब्रश, ब्लैक बोर्ड, रिक्शा, शंख, सुराही, तलवार, फायर ब्रिगेड, नारियल, पतंग, पानी का जहाज, प्रेस, फ्रॉक भगोना, रेल का इंजन, लड़का-लड़की, लेटर बॉक्स, शहनाई, सरौता, सिलाई मशीन, स्टूल स्लेट, हंसिया और हारमोनियम शामिल है।

ग्राम प्रधान के लिए ये हैं चुनाव चिन्ह

ग्राम प्रधान पद के लिए जो चुनाव चिन्ह निर्धारित किए गए हैं उनमें अनाज ओसाता हुआ किसान, इमली, कन्नी, कार, किताब, कैमरा, कैरम बोर्ड, कोट, खड़ाऊं, गले का हार, घंटी, चारपाई, चूड़ियां, छत का पंखा, टेबल लैंप, टोकरी, डेस्, ड्रम, तांगा, तोप, त्रिशूल, दरवाजा, धनुष, धान का पौधा, पत्तियां, पहिया, पालकी, पुल, फावड़ा, फुटबॉल, फूल और घास, बल्लेबाज, बस, बांसुरी और बाल्टी है. इसके अलावा बिजली का खंबा, बिजली का बल्ब, बेंच, बैलगाड़ी, भवन, भुट्टा, मोटरसाइकिल, मोमबत्ती, रिंच, लिफाफा वायुयान और हथोड़ा शामिल है।

क्षेत्र पंचायत सदस्य के लिए ये हैं चुनाव चिन्ह

क्षेत्र पंचायत सदस्य के लिए जो चुनाव चिन्ह निर्धारित किए गए हैं उनमें अनार, अलाव और आदमी, अंगूठी, आटा चक्की, ईंट, कड़ाही, कांच का गिलास, कुआं, केला का पेड़, गुल्ली-डंडा, गेंद और हाकी, चकला बेलन, चिड़िया का घोंसला, जीप, टॉर्च, टेबल फैन, टैंक और टोपी है.

जिला पंचायत सदस्य के लिए ये हैं चुनाव चिन्ह

जिला पंचायत सदस्य पद के लिए जो चुनाव चिन्ह उम्मीदवारों के लिए निर्धारित किए गए हैं उनमें आरी, उगता सूरज, कप और प्लेट, कलम दवात, कुल्हाड़ी, केतली, कैंची, क्रेन, खजूर का पेड़, गमला, गिटार, घुड़सवार, चश्मा, छड़ी, छाता, झोपड़ी, टाइपराइटर, टेलीफोन, टेलीविजन, ट्रैक्टर, ढोलक, तरकश,तराजू, ताला चाबी, थरमस, नाव, पिस्टल, फसल काटता किसान, फावड़ा बेलचा, बल्ला, मछली, रेडियो, रोड रोलर, लट्टू, लाउडस्पीकर, वृक्ष, शेर, सितारा, सिर पर कलश लिए स्त्री, सीटी, सैनिक, स्कूटर, हाथ ठेला, हल, हेलीकॉप्टर, कटहल, मेज, मोबाइल फोन, लहसुन, सपेरा, सीमेंट की बोरी, सूटकेस व हैंगर शामिल हैं।

Related Post

अब्दुल्ला आजम खान

पिता के चुनाव प्रचार रोक पर बेटे अब्दुल्ला का बड़ा बयान, मुस्लिम होने की वजह से लगाया बैन

Posted by - April 16, 2019 0
रामपुर। सपा पार्टी नेता आजम खान पर विवादित बयान के चलते 72 घंटों का बैन लगने के बाद अब उनके…