CSIR-CIMAP

सीएसआईआर-सीमैप में किसान मेले का आयोजन 15 जनवरी से

1143 0

लखनऊ। सीएसआईआर-केन्द्रीय औषधीय एवं संस्थान (CSIR-CIMAP ) लखनऊ स्थित कैंपस में प्रति वर्ष 31 जनवरी को एक दिवसीय किसान मेले का आयोजन करता आ रहा है। बीते वर्ष किसान मेले देश के 25 राज्यों के लगभग 7000 किसानों ने भाग लिया था। परंतु इस वर्ष कोविड—19 महामारी के चलते यह किसान मेला 15 जनवरी से 5 फरवरी (17,24, व 26 जनवरी को छोड़कर) के मध्य किया जा रहा है।

यह जानकारी मंगलवार को सीएसआईआर-केन्द्रीय औषधीय एवं संस्थान (CSIR-CIMAP ) लखनऊ के निदेशक डॉ. प्रबोध कुमार त्रिवेदी ने  पत्रकार वार्ता में दी। उन्होंने बताया कि इस दौरान सरकार के तरफ से जारी कोविड-19 महामारी के दिशा-निर्देशों का पालन हो सके । पूर्व पंजीकरण के माध्यम से प्रतिदिन केवल 100 प्रतिभागियों को ही आमंत्रित किया जाएगा। ताकि जनसमूह एकत्रित न हो। साथ ही प्रतिभागियों के मध्य उचित दूरी बनी रहे। इस किसान मेले के आयोजन करने का मुख्य उद्देश्य संस्थान द्वारा औषधीय और सगंध पौधों की नवीन प्रजातियों को किसानों को उपलब्ध कराना है। तथा नवीन कृषि तकनीकियों की जानकारी मुहैया कराना है । अब तक इस किसान मेले में देश के विभिन्न राज्यों से लगभग 1200 प्रतिभागियों ने पूर्व पंजीकरण करा चुके हैं।

वैज्ञानिकों द्वारा किसानों को उन्नत खेती किस्मों, प्रसंस्करण व विपणन की विस्तृत जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी। साथ ही बायोचार, ट्राइकोडर्मा और मेंथा तथा जिरेनियम की खेती की नवीनतम कृषि तकनीकियों को किसानों से साझा किया जाएगा।
किसानों को उच्च गुणवत्तायुक्त मेंथा की नई प्रजाति सिम-उन्नति की पौध सामग्री उपलब्ध कराई जा रही है ताकि किसानों को अधिक उत्पादन मिल सके तथा उदयोगों को उच्च गुणवत्ता का कच्चा माल मिल सके साथ ही किसानों को उचित लाभ मिल सके ।

प्रियंका चोपड़ा कर रहीं हैं मां बनने की प्लानिंग, बोलीं- मुझे क्रिकेट टीम जितने बच्चे चाहिए?

किसान मेले में इस बार लगभग 600 कुंतल मेंथा की विभिन्न प्रजातियों की पौध सामग्री किसानों को मुहैया कराई जाएगी। इस किसान मेला में देश के बड़े-बड़े औषधीय व सगंध पौधों के खरीददार भी भाग ले रहे हैं। जो कि किसान मेले के दौरान किसान गोष्ठी में सीधे किसान से चर्चा कर सकेंगे। इस किसान मेले में किसानों को फूलों से निर्मित अगरबत्ती तथा कोन बनाने की तकनीकि को भी बताया जाएगा तथा औषधीय एवं सगंध पौधों को आसवन तथा विधियों का भी प्रदर्शन किया जाएगा।

इस कार्यक्रम में औषधीय एवं सगंध पौधों पर उत्पादन से बाजार तक” परिचर्चा गोष्ठी का भी आयोजन रोजाना किया जाएगा जिसमें वैज्ञानिकों, कृषको तथा खरीददारों के बीच सीधा संवाद किया जाएगा साथ ही साथ प्रकाशनों व हर्बल उत्पादों की बिक्री की जाएगी। किसान मेला का मुख्य कार्यक्रम 31 जनवरी को आयोजित किया जाएगा। जिसमे मुख्य अतिथि सीएसआईआर के महानिदेशक डॉ शेखर सी. मांडे नई दिल्ली होंगे। विशिष्ठ अतिथि उत्तर प्रदेश सरकार के कानून मंत्री बृजेश पाठक होंगे। जी.एन. सिंह, भारत के पूर्व ड्रग कंट्रोलर जनरल एवं मुख्य मंत्री उत्तर प्रदेश के तकनीकी सलाहकार विशेष अतिथि होंगे। 5 फरवरी को समापन समारोह में स्वाती सिंह, राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), महिला कल्याण, बाल विकास व पुष्टाहार, उत्तर प्रदेश सरकार मुख्य अतिथि तथा डा. सुमन प्रीत सिंह खनजा, पूर्व निदेशक सीएसआईआर-सीमैप एवं अध्यक्ष, फ्लोरा फौना (साइन्स फाउडेशन) गेस्ट ऑफ ऑनर होंगे।

Related Post

मोहन भागवत

राम मंदिर मामले में सुप्रीम कोर्ट ने दिया विधि सम्मत फैसला: मोहन भागवत

Posted by - November 9, 2019 0
नई दिल्ली। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघचालक मोहन भागवत ने कहा कि हम सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का…

टोक्यो ओलंपिक में भारत भेजेगा अपना अब तक का सबसे बड़ा खिलाड़ियों का दल

Posted by - July 14, 2021 0
भारत 119 खिलाड़ियों सहित टोक्यो ओलंपिक के लिए 228 सदस्यीय दल भेजेगा। भारतीय ओलंपिक संघ (IOA) के अध्यक्ष नरिंदर बत्रा…
आज़म खान

आजम खान पत्नी और बेटे के साथ दो मार्च तक न्यायिक हिरासत में जेल भेजे गए

Posted by - February 26, 2020 0
लखनऊ। समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खां के साथ पत्नी राज्यसभा सांसद तजीन फातिमा और पूर्व विधायक बेटा अब्दुल्ला को…