बाबू सिंह कुशवाहा

बाबू सिंह कुशवाहा जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चुने गए

217 0

लखनऊ।  जन अधिकार पार्टी के दो दिवसीय राष्ट्रीय अधिवेशन का समापन पूर्व कैबिनेट मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा ने किया। शनिवार को इसी प्रांगण में जन अधिकार पार्टी का राष्ट्रीय अधिवेशन शुरू हुआ था जिसमें राष्ट्रीय मुद्दों पर विचार विमर्श, प्रस्ताव प्रस्तुति तथा पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के निर्वाचन की प्रक्रिया चल रही थी।

आज भी इंसान को इंसान कहलाने के लिए करना पड़ता है संघर्ष : बाबू सिंह कुशवाहा 

अधिवेशन के दूसरे दिन बाल अधिकार, महिला- युवा सशक्तिकरण, किसानों की समस्याएं, बेरोजगारी, समान शिक्षा व्यवस्था, समाज के निचले तबकों की समस्याएं, दलितों, पिछड़ो और वंचितों को समाज में उचित स्थान आदि को लेकर प्रस्ताव पारित किए गए। दूसरे दिन भी हजारों की संख्या में पार्टी कार्यकर्ता मौजूद रहें और तालियों के माध्यम से पार्टी की नीतियों को आगे बढ़ाने का ऐलान करते रहें।

निर्वाचन प्रक्रिया पूरी होने के बाद चुनाव अधिकारियों ने बाबू सिंह कुशवाहा को जन अधिकार पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित किया। राष्ट्रीय अध्यक्ष की घोषणा होते हुए पुष्प वर्षा और गीत संगीत से नवनिर्वाचित अध्यक्ष का स्वागत किया । पूर्व मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा ने हजारों कार्यकर्ताओं का धन्यवाद करते हुए कहा कि पार्टी ने आज जो जिम्मेदारी मुझे सौंपी है उसको मैं पूरी तन्मयता के साथ पूरा करूंगा। नवनिर्वाचित अध्यक्ष ने पार्टी की नीतियों पर बोलते हुए कहा कि दलितों, पिछड़ों और वंचितों की लड़ाई पूरे मन से मिल कर लड़नी हैं।

बाबू सिंह कुशवाहा ने कहा कि पुश्तैनी कार्य करने वालों को उनका पैतृक काम करने दिया जाए। पूरे देश में समाज शिक्षा व्यवस्था की जाए। किसानों को सिंचाई और उन्नतशील बीज मुहैया करवाए जाए और नौजवानों के लिए पर्याप्त मात्रा में रोजगार उपलब्ध करवाए जाए। मिडडे मील की व्यवस्था सुधारने के लिए कई गांव या ब्लाक स्तर पर भोजन बनवाया जाए जिससे अध्यापक केवल पढ़ाई पर अपना ध्यान केन्द्रित कर सके। उन्होंने कहा कि नौकरी के लिए परीक्षा फार्म की फीस ना ली जाए और जब वे परीक्षा देने जाए तो प्रवेशपत्र देख कर उनसे आनेजाने का किराया ना लिया जाए।

आरक्षण की बात करते हुए नवनिर्वाचित अध्यक्ष ने कहा कि जितनी जिसकी हिस्सेदारी उतनी उसकी भागीदारी सुनिश्चित करने का काम जन अधिकार पार्टी करेगी। पार्टी सरकार के सामने आज यहाँ पारित हुए प्रस्तावों को रखेगी और यदि हमारी मांगे पूरी नहीं हुई तो बहुजन समाज ऐसी सरकार को बदलने का काम करने से पीछे नहीं हटेगा। दो दिवसीय अधिवेशन में पूरे देश से महिलाओं और युवाओं ने बड़ी संख्या में भाग लिया।

Loading...
loading...

Related Post

स्वराज सेनानी सम्मेलन

स्वराज सेनानी सम्मेलन में दिखा एकल अभियान के सेवाव्रतियों का अद्भुत संगम

Posted by - February 18, 2020 0
लखनऊ। राजधानी लखनऊ में आयोजित तीन दिवसीय स्वराज सेनानी सम्मेलन सम्पन्न हो गया। सम्मेलन में 20 हजार गांवों से सभी…

महाराष्ट्र के माननीय राज्यपाल ने प्रथम पूर्वोत्तर अनसंग हीरोज रेड कार्पेट सामाजिक पुरस्कार 2019 का किया उद्घाटन

Posted by - November 18, 2019 0
शुक्रवार 15 नवंबर, 2018 को महाराष्ट्र के माननीय राज्यपाल श्री भगत सिंह कोश्यारी की उपस्थिति में मुंबई में आयोजित प्रथम…