आंचल गंगवाल बनी फाइटर पायलट

चाय वाले की बेटी आंचल गंगवाल बनी फाइटर पायलट, सपनों को मिली उड़ान

510 0

नीमच। कहते हैं प्रतिभा संसाधनों की मोहताज नहीं होता है। इसी बात को मध्य प्रदेश में नीमच शहर के सुरेश गंगवाल की बेटी आंचल ने सच साबित कर दिखाया है। अब वह फाइटर पायलट बन गयी है। बीते दिनों आंचल ने हैदराबाद में एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया के हाथों दीक्षांत परेड में ये उपलब्धि हासिल की है। बता दें कि आंचल के पिता सुरेश गंगवाल की नीमच सिटी रोड पर रोडवेज बस स्टैंड पर चाय की दुकान चलाते हैं।

आंचल ने हैदराबाद में एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया के हाथों दीक्षांत परेड में ये उपलब्धि हासिल की

सुरेश गंगवाल ने चाय बेचकर बेटी आंचल के सपनों को उड़ान दी। आंचल के परिवार में पिता सुरेश गंगवाल, मां बबिता, भाई चंद्रेश (इंदौर में इलेक्ट्रिकल इंजीनियर) व बहन दिव्यानी (वॉलीबॉल खिलाड़ी) हैं। गंगवाल परिवार मूल रूप से जिले के जावद विकासखंड के गांव तारापुर-उम्मेदपुरा के रहने वाले हैं।

ओटीटी प्लेटफार्म पर फिल्में घर पर कंफर्टेबल और सुरक्षित रहकर देख सकते हैं- वैलेंटिना क्रेडो

नीमच की शान आंचल गंगवाल ने आखिर कल अपने सपनों की उड़ान को हकीकत में परिवर्तित कर दिया है। आंचल के आदर्श उनके पिता हैं। उनकी मेहनत को उनके प्रयास को प्रणाम करती है। आंचल शुरू से ही प्रतिभावान छात्रा रही है। उसने अभी तक जो सोचा वह पाया है।

आंचल को वायुसेना में जाने की प्रेरणा 2013 में  उत्तराखंड में आई भीषण त्रासदी से मिली

आंचल इससे पूर्व में लेबर इंस्पेक्टर के रूप में सेवारत थी। आंचल को वायुसेना में जाने की प्रेरणा 2013 की एक घटना से मिली। आंचल ने बताया कि 2013 में उत्तराखंड में बाढ़ आई थी। उत्तराखंड में भीषण त्रासदी के वक्त मन में देश की सेवा का एयर फोर्स में जाकर करने की सोची। आंचल को यह सफलता छठीं बार की परीक्षा में मिली है। 7 जून को परिणाम के आते ही जो खुशी उसके परिवार को मिली उसे कोई बयां नहीं कर सकता है। तब आंचल को हर जगह सम्मानित किया गया।

जून 2018 से जून 2020 तक का सफर

एयर फोर्स कॉमन एडमिशन टेस्ट में मप्र से एकमात्र युवती चुनी गई। 30 जून 2018 से हैदराबाद एयर फोर्स एकेडमी पर प्रशिक्षण की शुरुआत हुई। 20 जून 2020 को प्रशिक्षण के बाद दीक्षांत परेड हुई। यद्यपि उनके परिवार की इच्छा उनके आंखों के सामने बिटिया को सम्मानित होते हुए देखने की कोरोना की बंदिशों के कारण नहीं हो सकी।

Loading...
loading...

Related Post

सेना को रोजगार देने वाली संस्था नहीं,अपने दिमाग से गलतफहमी निकाल दें-बिपिन रावत

Posted by - December 14, 2018 0
पुणे।जो लोग सेना में भर्ती होने को रोज़गार का एक साधन मात्र समझते हैं उनके लिए सेना प्रमुख बिपिन रावत…
भड़कीं निर्भया की मां

इंदिरा जयसिंह की सलाह पर भड़कीं निर्भया की मां, बोलीं- भगवान कहे तब भी नहीं करूंगी माफ

Posted by - January 18, 2020 0
नई दिल्ली। एक ओर जहां निर्भया के माता-पिता और पूरा देश सात साल से उसके गुनहगारों को फांसी पर लटकता…
दिल्ली हिंसा

दिल्ली हिंसा : सोनिया गांधी ने गृहमंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

Posted by - February 26, 2020 0
नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने दिल्ली में हुई हिंसा के लिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को जिम्मेदार…

भाजपा ने जारी किया वादों से भरा घोषणा पत्र,छात्राओं को स्कूटी,हर साल 10 लाख रोजगार का भी वादा

Posted by - November 17, 2018 0
भोपाल।भाजपा ने मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए दो घोषणा पत्र जारी किए हैं-‘समृद्ध मध्यप्रदेश दृष्टि पत्र’ और दूसरा ‘नारी शक्ति…