अखिलेश यादव- किसानों-मजदूरों और छात्रों के साथ छल करने वाली भाजपा के दिन पूरे, सत्ता से विदाई तय।

132 0

यूपी में विधानसभा चुनाव की सरगर्मी लगातार बढ़ती जा रही है, समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा- यूपी से भाजपा की विदाई तय है। सैफई में पत्रकारों से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा- योगी का कार्यकाल लगभग पूरा हो चुका है लेकिन उनका एक भी वादा अभी तक पूरा नहीं हो सका है।

अखिलेश ने कहा- योगी आदित्यनाथ को बताना चाहिए कि उन्होंने किसानों की आय दोगुनी करने के लिए क्या किया, बेरोजगारों के और मजदूरों के लिए क्या किया। पंचायत चुनाव में भाजपा की करारी हार पर उन्होंने कहा- जनता परिवर्तन चाहती है इसलिए उसने इन चुनावों में भाजपा प्रत्याशियों को वोट नहीं किया।

अखिलेश की माने तो भाजपा गलत आंकड़ो के साथ किसानों के साथ छल कर रही है, बढ़ती महंगाई ने किसानों की कमर तोड़ दी है। अखिलेश यादव ने कहा कि जनता भाजपा से यह जानना चाहती है कि पिछले संकल्प पत्र में उन्होंने जो वायदे किए थे उनको पूरा क्यों नहीं किया। उन्होंने कहा कि भाजपा को यह बताना होगा कि किसानों की आय दोगुनी करने के लिए क्या किया. किसानों, बेरोजगारों, शिक्षित युवाओं, नौकरी पेशा लोगों के लिए क्या किया।

पूरे पांच साल समाज का हर वर्ग प्रताड़ित रहा. पेट्रोल डीजल महंगा हुआ है. भाजपा को बढ़ती हुई महंगाई पर जवाब देना चाहिए। पंचायत चुनाव पर चर्चा करते हुए उन्होने कहा कि पंचायत चुनाव में जनता ने भाजपा को पूरी तरह से नकार दिया है। भाजपा के सदस्य नहीं जीते जो हर किसी को पता है। इसके बावजूद भी ऐसा देखा जा रहा है जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव के लिए भाजपा चुनाव नहीं लड़ रही है. बल्कि जिलों के एसएसपी और डीएम खुद ही चुनाव लड़ रहे हैं।

अखिलेश यादव ने कहा कि किसानों की जैसी दुर्गति भाजपा सरकार के साढ़े चार सालों में हुई है वैसी पिछले पचास सालों में भी नहीं हुई थी। गेहूं खरीद की तारीख बढ़ाकर किसानों को धोखा देने का स्वांग रचा गया है। किसान को न फसल का दाम मिला है और नहीं मुआवजा मिला है, ऊपर से मंहगाई की मार ने उसकी कमर तोड़ दी है। गलत आंकड़े पेशकर भाजपा किसानों का हित चिंतक बनने का नाटक कर रही है पर अब सबको उसकी सच्चाई का पता चल गया है। प्रदेश और किसानों का भाजपा बहुत नुकसान कर चुकी है। भविष्य अंधकार में दिख रहा है. अब जनता को समाजवादियों से ही उम्मीद है।

Divyansh Singh

मिट्टी का तन, मस्ती का मन; छड़ भर जीवन, मेरा परिचय।

Related Post