अखिलेश यादव

अखिलेश यादव बोले- हम CAA के खिलाफ, नहीं भरेंगे NPR का फॉर्म

187 0

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि हमारे सूबे के मुखिया योगी जी खुद की जानकारी का मजाक बनवा रहे हैं। अभी उनकी किताब लॉन्च हुई, उसमें लिखा है कि सैफ्रॉन सोशलिस्ट। उन्होंने कहा कि आप ऐसा लिखकर क्या कहना चाहते हैं ? सैफ्रॉन सोशलिस्ट कहना संविधान की प्रस्तावना के खिलाफ है। ऐसा करके मुख्यमंत्री संविधान की अवमानना कर रहे हैं।

बीजेपी के लोग जैसी भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं ऐसी भाषा गलत है?

यह बात श्री यादव ने शनिवार को राजधानी लखनऊ में आयोजित एक मीडिया हाउस के कार्यक्रम में कही। उन्होंने कहा कि बीजेपी के लोग जैसी भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं ऐसी भाषा गलत है? योगी कभी कहते हैं कि बदला लेंगे, कभी कहते हैं कि ठोंक देंगे और किसे ठोक देंगे ? हर कोई एक दूसरे ठोंक रहा है।

इस होली पर पवन सिंह का ये गाना धूम मचाने को तैयार, यूट्यूब चैनल पर रिलीज

 उत्तर प्रदेश का कितना विकास हुआ ये बताओ? एमओयू तो किसी के भी साथ कर सकते हैं

अखिलेश यादव ने कहा कि हम काम पर बात करना चाहते हैं, बात इस पर होनी चाहिए कि सबसे पहले हाईवे कौन बना सकता है? प्रदेश में इतनी बड़ी बिजनेस कॉन्फ्रेंस हुई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आए, राष्ट्रपति रामनाथ कोबिंद आए लेकिन कितना विकास हुआ ये बताओ? एमओयू तो किसी के भी साथ कर सकते हैं।

अखिलेश यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी के लोग एनपीआर में फॉर्म ही नहीं भरेंगे

बीजेपी वाले सपा सरकार के काम को अपना बता रहे हैं। समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस वे से समाजवादी हटा दिया और उसे पूर्वांचल एक्सप्रेस वे कर दिया। हम समाजवादी पार्टी के लोग समझाते हैं लेकिन बीजेपी वाले बहकाते हैं। अखिलेश यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी के लोग एनपीआर में फॉर्म ही नहीं भरेंगे। मैं नागरिकता कानून के पक्ष में नहीं हैं। हम ऐसे काम के पक्ष में नहीं जो समाज को बांटता हो। हमारी पार्टी आंदोलन कर रही है। देश में सबकी गिनती होनी चाहिए, आबादी के हिसाब के गिनती हो। जिस दिन जाति आधारित जनगणना हो जाएगी, हिंदू-मुस्लिम हो जाएगा।

यह कार्यक्रम 22 तारीख को है, इसलिए मैं आया हूं क्योंकि हमें साल 2022 में सरकार बनानी है

अखिलेश यादव ने कहा कि यह कार्यक्रम 22 तारीख को है, इसलिए मैं आया हूं क्योंकि हमें साल 2022 में सरकार बनानी है। मैं दिल्ली की जनता को बधाई देता हूं कि उन्होंने नफरत और जहर फैलाने पर वोट नहीं दिया। विकास और दिल्ली को आगे ले जाने पर काम किया। मैं कहता था कि काम बोलता है दिल्ली में काम बोला है। और अब उत्तर प्रदेश में भी काम बोलेगा।

Loading...
loading...

Related Post

ओडिशा विधानसभा और संसद में महिलाओं को 33 प्रतिशत आरक्षण देने का प्रस्ताव पारित

Posted by - November 21, 2018 0
भुवनेश्वर। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक द्वारा महिलाओं को 33 प्रतिशत आरक्षण देने का प्रस्ताव ओडिशा विधानसभा ने राज्यों की विधानसभाओं और…

ई-कैबिनेट के ज़रिये ‘मिनिमम गवर्नमेण्ट, मैक्सिमम गवर्नेन्स’ 

Posted by - February 3, 2021 0
उत्तर प्रदेश सरकार का बजट सत्र शुरू होने से पहले योगी मंत्रिमंडल को ई कैबिनेट का प्रशिक्षण दिया गया। मुख्यमंत्री ने अपने सरकारी आवास…