बेटी का 'फर्ज'

पिता की मौत के बाद भावना ने अंतिम संस्कार कर निभाया बेटी का ‘फर्ज’

1329 0

कासगंज। बेटा और बेटी में कोई अंतर नहीं होता है। इस बात को कासगंज की एक बेटी ने सच साबित कर दिखा है। कासगंज की बेटी ने अपने पिता की मौत हो जाने के बाद गंगाघाट जाकर अंतिम संस्कार अपने हाथों से संपन्न किया।

केरल : दिहाड़ी मजदूर रातों रात बना करोड़पति, 12 करोड़ की लगी लॉटरी 

एसजेएस इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य आरके पाठक का बीमारी के चलते अपोलो अस्पताल में निधन हो गया

भावना ने पुत्र का फर्ज निभाकर बेटा और बेटी के अंतर को मिटा दिया है। नगर के एसजेएस इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य आरके पाठक का बीमारी के चलते अपोलो अस्पताल में निधन हो गया। प्रधानाचार्य आरके पाठक के केवल एक ही बेटी भावना पाठक हैं। जिसकी पिछले माह ही 17 जनवरी को बदायूं से शादी हुई है।

कार्तिक बोले-शाहरुख से मेरी कोई तुलना नहीं, लेकिन ऐसी तारीफ सम्मान की बात

पिता के बीमार होने पर भावना चिकित्सालय में रही। रात को उनका शव कासगंज लाया गया। बुधवार को शवयात्रा के बाद कछला गंगाघाट जाकर भावना ने पिता की चिता को मुखाग्रि दी। यह देखकर सभी लोग बेटी के हौंसले को सलाम करते नजर आ रहे थे।

पिता के निधन पर उनका अंतिम संस्कार स्वयं किया और मोक्ष की कामना की

कछला गंगाघाट पर लोगों के बीच यही चर्चा थी कि बेटा और बेटी में कोई अंतर नहीं होना चाहिए। भावना ने कहा कि उनके पिता ने उन्हें हमेशा लाड़ प्यार से पाला था। उनके मन में हमेशा माता-पिता की सेवा करने की भावना थी। आज पिता के निधन पर उनका अंतिम संस्कार स्वयं किया और मोक्ष की कामना की।

Related Post

Neetu David

नीतू डेविड भारतीय महिला क्रिकेट टीम की चयन समिति बनीं नई चीफ सेलेक्टर

Posted by - September 26, 2020 0
नई दिल्ली। बीसीसीआई ने शनिवार को भारतीय महिला क्रिकेट टीम की सेलेक्शन कमेटी का ऐलान कर दिया है। बता दें…
CM Dhami

उत्तराखंड के युवा का हक मारने वाले किसी भी दोषी को छोड़ा नहीं जाएगा: सीएम धामी

Posted by - January 13, 2023 0
देहरादून। युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने वाले की अब खैर नहीं होगी। प्रदेश की धामी सरकार ने नकल…