पीके जेडीयू से बर्खास्त

जेडीयू से बर्खास्त होने के बाद पीके ने नीतीश कुमार से कहा- भगवान आपका भला करें

430 0

पटना। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड ने प्रशांत किशोर के साथ ही जेडीयू ने पवन वर्मा को भी बर्खास्त कर दिया है। बता दें कि प्रशांत किशोर ने बीते मंगलवार को ट्वीट करते हुए पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को झूठा बता दिया था। जेडीयू ने अपने बयान में कहा कि प्रशांत किशोर और पवन वर्मा दोनों नेताओं ने पार्टी का अनुशासन तोड़ा है।

पीके बाले नीतीश कुमार आपका भगवान आपका भला करें

जेडीयू से बर्खास्त किए जाने के बाद प्रशांत किशोर ने नीतीश कुमार का शुक्रिया अदा किया और कहा कि भगवान आपका भला करे। प्रशांत किशोर ने ट्वीट किया कि धन्यवाद नीतीश कुमार। बिहार के मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बने रहने के लिए आपको मेरी शुभकामनाएं। भगवान आपका भला करें।

https://twitter.com/PrashantKishor/status/1222471146928345089

प्रशांत किशोर ने नीतीश कुमार को झूठा बताया

बता दें कि बीते मंगलवार को नीतीश कुमार ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि अमित शाह के कहने पर उन्होंने प्रशांत किशोर को जेडीयू में शामिल किया। इस बयान पर प्रशांत किशोर भड़क गए और उन्होंने नीतीश कुमार को झूठा बता दिया। प्रशांत किशोर ने ट्वीट करते हुए कहा कि नीतीश कुमार, मुझे जेडीयू में क्यों और कैसे शामिल किया गया? इस पर झूठ बोलना दिखाता है आप गिर गए हैं। मुझे अपने जैसा बनाने की ये आपकी एक नाकाम कोशिश है। उन्होंने कहा कि अगर आप सच बोल रहे हैं तो कौन यकीन करेगा कि आप में इतनी हिम्मत है कि आप उसकी बात नहीं सुनें जिसे अमित शाह ने आपकी पार्टी में शामिल करवाया?

पवन वर्मा ने सीएए पर नीतीश कुमार को रुख साफ करने को कहा था

इसके अलावा जेडीयू के राष्ट्रीय महासचिव पवन वर्मा को भी पार्टी से निष्कासित कर दिया है। पिछले दिनों पवन वर्मा ने सीएए और एनआरसी को लेकर नीतीश कुमार को चिट्ठी लिखी थी और इन मुद्दों पर अपना रुख साफ करने के लिए कहा था। पवन वर्मा ने दिल्ली के विधानसभा चुनावों में बीजेपी के साथ जेडीयू के गठबंधन को लेकर भी सवाल खड़े किए थे। पवन वर्मा का कहना है कि जब नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के मुद्दे पर बीजेपी की पुरानी सहयोगी अकाली दल दिल्ली में उनके साथ चुनाव लड़ने से इनकार कर सकती है तो आखिर जेडीयू क्यों बीजेपी के साथ मिलकर चुनाव लड़ रही है।

जेडीयू का बयान: प्रशांत किशोर ने कई विवादास्पद बयान दिए जो पार्टी के निर्णय के खिलाफ

जेडीयू ने बयान जारी करते हुए कहा कि प्रशांत किशोर ने कई विवादास्पद बयान दिए जो पार्टी के निर्णय के खिलाफ हैं। इसके साथ ही प्रशांत किशोर ने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के खिलाफ अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल किया है। वहीं पवन वर्मा को लेकर जेडीयू ने कहा कि उन्हें जितना सम्मान मिलना चाहिए था उससे अधिक सम्मान नीतीश कुमार ने दिया। पार्टी अध्यक्ष को चिट्ठी लिखकर उसकी बातों को सार्वजनिक करना दिखाता है कि उन्हें पार्टी का अनुशासन मंजूर नहीं है। जेडीयू ने कहा कि प्रशांत किशोर और पवन वर्मा के आचरण से साफ है कि वह पार्टी के अनुशासन की बंधन में नहीं रहना चाहते हैं और मु्क्त होना चाहते हैं। इसलिए दोनों नेताओं को तत्काल प्रभाव से प्राथमिक सदस्यता समेत दूसरी सभी जिम्मेदारियों से मुक्त किया जाता है।

Related Post

स्टार प्रचारकों की लिस्ट विवेक ओबेरॉय भी शामिल

बीजेपी ने गुजरात में जारी की 40 स्टार प्रचारकों की सूची, विवेक ओबेरॉय का भी नाम शामिल

Posted by - April 5, 2019 0
नई दिल्ली। भाजपा ने लोकसभा चुनाव 2019 के तहत गुजरात के लिए आज अपने स्टार प्रचारकों की सूची जारी की…
death by corona

महाराष्ट्र सरकार का ऐलान, जनवरी-फरवरी में आ सकती है कोरोना की दूसरी लहर

Posted by - November 13, 2020 0
राष्ट्रीय डेस्क.  महाराष्ट्र के स्‍वास्‍थ्‍य विभाग ने साल 2021 की शुरुआत में कोरोना वायरस की दूसरी लहर आने की आशंका…