QS World Ranking

QS World University Rankings: 12 भारतीय संस्थानों ने टॉप 100 में बनाई जगह

342 0

लंदन। नवीनतम क्यूएस रैंकिंग में 12 भारतीय विश्वविद्यालयों और उच्च शिक्षा संस्थानों ने शीर्ष 100 स्थान हासिल किया है. कुल मिलाकर शीर्ष 100 स्थानों में 35 भारतीय के कार्यक्रमों को शामिल किया गया है।

QS World University Rankings

QS वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग (qs world rankings) में विषय के आधार पर 12 भारतीय संस्थानों ने शीर्ष 100 पदों में अपनी जगह बनाई है। तीन भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों ने टॉप 100 इंजीनियरिंग संस्थानों में प्रवेश किया है।  इनमें IIT बॉम्बे ने इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी श्रेणी में टॉप पॉजिशन हासिल की है। IIT बॉम्बे ने 49वां स्थान प्राप्त किया है, IIT दिल्ली 54वें स्थान पर है और IIT मद्रास उसी श्रेणी में 94वें स्थान पर है. वहीं एमआईटी यूएसए शीर्ष स्थान पर बना हुआ है।

नेपाल पुलिस की गोली से एक भारतीय की मौत

क्यूएस के वैश्विक विश्वविद्यालय के तुलनात्मक प्रदर्शन के 2021 के संस्करण में 51 शैक्षणिक विषयों में 52 भारतीय उच्च शिक्षा संस्थानों में 253 कार्यक्रमों के प्रदर्शन के बारे में स्वतंत्र आंकड़े दिए गए हैं. क्यूएस ने यह भी निष्कर्ष निकाला है।

क्यूएस ने दर्ज किया है कि भारत वैश्विक पर्यावरण विज्ञान अनुसंधान में सबसे आगे है। इल्सवियर में क्यूएस रिसर्च से प्राप्त डेटा से संकेत मिलता है कि भारत इस क्षेत्र में अपने रिसर्च फुटप्रिंट के संदर्भ में पांचवें रैंक पर है। वह केवल जर्मनी, चीन, युनाइटेड किंगडम और संयुक्त राज्य अमेरिका के पीछे है।

एल्सवियर विषयवार क्यूएस वल्र्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग्स में योगदान देता है। इन योगदानों को दर्शाते हुए छह भारतीय विश्वविद्यालयों को क्यूएस की पर्यावरण विज्ञान रैंकिंग में दिखाया गया है, जिसमें आईआईटी-बंबई और आईआईटी-खड़गपुर (151-200) ने शीर्ष 200 स्थान प्राप्त किया है और आईआईटी गुवाहाटी ने इस वर्ष (401-250 बैंड) में पहली बार स्थान बनाया। इस विषय में आईआईटी-खड़गपुर प्रदर्शन में पिछले एक साल में 201-250 बैंड से बेहतर हुआ है।

क्यूएस में प्रोफेशनल सर्विसेस के वरिष्ठ उपाध्यक्ष बेन सॉटर ने कहा, भारत के सामने जो सबसे बड़ी चुनौतियां हैं, उनमें से एक चुनौती शैक्षिक है- तेजी से बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए उच्च गुणवत्तावाली उच्च शिक्षा प्रदान करना। पिछले साल एनईपी ने भी यह स्वीकार किया और इसके लिए 2035 तक 50 प्रतिशत का सकल नामांकन अनुपात के महत्वाकांक्षी लक्ष्य को पूरा करना होगा। इसलिए यह चिंता का एक कारण भी होना चाहिए कि पिछले वर्ष की तुलना में हमारी 51 विषय रैंकिंग में भारतीय कार्यक्रमों की संख्या वास्तव में कम हो गई है- 235 से घटकर 233 तक।

हालांकि यह मामूली कमी है, लेकिन यह इस तथ्य का द्योतक है कि गुणवत्ता का त्याग नहीं करते हुए प्रावधान का विस्तार एक अत्यधिक चुनौतीपूर्ण कार्य है। हालांकि, क्यूएस यह भी ध्यान देता है कि भारत के निजी तौर पर संचालित भावी संस्थानों के कई कार्यक्रमों ने इस साल प्रगति की है, जिसमें सकारात्मक भूमिका का प्रदर्शन किया गया है, जिसमें अच्छी तरह से विनियमित निजी प्रावधान भारत के उच्च शिक्षा क्षेत्र को बढ़ाने में हो सकते हैं।

Related Post

आस्ट्रेलिया ने कोविशील्ड वैक्सीन को दी मान्यता, पर्यटकों-छात्रों को करना होगा इंतज़ार

Posted by - October 1, 2021 0
कैनबरा। आस्ट्रेलिया ने सीरम इंस्टीट्यूट आफ इंडिया द्वारा निर्मित कोविशील्ड वैक्सीन को मान्यता दे दी है। मीडिया को दिए एक बयान…
Priyanka Gandhi प्रियंका गांधी

प्रियंका गांधी वाड्रा ने भेजा लखनऊ के जरूरतमंदों के लिए राशन

Posted by - April 13, 2020 0
लखनऊ। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने लखनऊ के जरूरतमंद लोगों के राशन भिजवाया है। मंगलवार को बाबा साहेब भीमराव…