World Senior Citizen's Day

विश्व वरिष्ठ नागरिक दिवस पर, 84 वर्ष की उम्र में एक शख्स ने दी कोरोना को मात

442 0

ललितपुर। वरिष्ठ नागरिकों को कोरोना संक्रमण से बचने की सलाह विश्व स्वास्थ संगठन द्वारा पहले ही दी जा चुकी है। प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने की वजह से बच्चे और बुजुर्ग इसकी चपेट में जल्दी आ सकते है। इसलिए बुजुर्गों और बच्चों को ज्यादा एहतियात बरतने की जरुरत है।

वहीं,जनपद में एक ऐसे शख्स हैं, जिन्होंने 84 साल की उम्र में कोरोना को हिम्मत और अनुशासन से हरा दिया। इतना ही नहीं कोरोना से जीतने के बाद फिर से वह समाजसेवा में जुट गए।

घर बैठे महिलाएं बनना चाहती है आत्मनिर्भर, तो शुरू करें यह ऑनलाइन मेकअप कारोबार  

डा.निर्मल जैन जनपद के वरिष्ठ आर्थपेडीक सर्जन (हड्डी रोग विशेषज्ञ) 84 वर्ष की उम्र में कोरोना को हरा कर एक मिसाल कायम की है। कुछ समय पहले उनके दोनों बेटों व बहुओं को संक्रमण होने की पुष्टि पर उनकी भी कोरोना की जांच हुई थी।

जनपद में उनका निजी क्लीनिक है संभवत: मरीजों को देखते हुए संक्रमण की चपेट में आ गये थे और 10 जुलाई को यह रिपोर्ट पोसिटिव आई। उनका इलाज महारानी लक्ष्मी बाई मेडिकल कॉलेज में हुआ था। 28 जुलाई को रिपोर्ट नेगेटिव आने के पश्चात् उन्हें एक हफ्ता होम आइसोलेशन के लिए रिफर कर दिया था।

डा.निर्मल बताते हैं जब उन्हें मालूम चला की उन्हें संक्रमण है तो वह घबराए नहीं ना ही उन्होंने अपना संयम टूटने दिया। इलाज की अवधि में डॉक्टर के निदेर्शों का सख्ती से पालन किया और नियमित योगासन, गरम पानी पिया और संक्रमण पर जीत हासिल की।

वह बताते है सांस को रोकने वाले आसन को नियमित ही करना चाहिए। इलाज के दौरान ठीक होने में यह योगासन बहुत मददगार होता है। वह बताते हैं प्राणायाम व सूर्य नमस्कार इस दौरान बहुत ही कारगर सिद्ध योगासन है। वह बताते हैं पूर्व में उनकी स्पाइनल और बाईपास सर्जरी हो चुकी हैं और कोविड के इलाज के दौरान भी उनकी हार्ट की दवाइयां चलती रहीं।

ट्रस्ट के महासचिव ने बताया राममंदिर निर्माण में नही होगा लोहे का इस्तेमाल

बताते हैं बाहर वह सिर्फ जरुरत पड़ने पर ही निकलते हैं और भीड़ वाली जगह जाने से बचते हैं। साथ ही मास्क का भी प्रयोग करते हैं। साथ ही ठंडे पानी व कोल्ड ड्रिंक अथवा आइसक्रीम का सेवन नहीं करते हैं। बताते हैं स्नातकोतर करने के बाद 1963 से ही वह जनपद में हड्डी रोग विशेषज्ञ के रूप में काम करने लगे थे और अभी संक्रमण से ठीक होने के बाद फिर से मरीजों को देखना शुरू कर दिया है। आने वाले मरीजों को भी वह संक्रमण के बारे में जागरूक करते रहते हैं।

विश्व वरिष्ठ नागरिक दिवस प्रत्येक वर्ष 21 अगस्त को मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का इतिहास 1988 से शुरू हुआ था। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन द्वारा इस दिवस की शुरूआत की गई थी। यह एक दिन बुजुर्गों के स्वास्थ्य संबंधी एवं उनके विभिन्न मुद्दों को समर्पित है।

Loading...
loading...

Related Post

'कलाम अन्नक्षेत्र' सामुदायिक भोजशाला

आईईटी,लखनऊ में ‘कलाम अन्नक्षेत्र’ सामुदायिक भोजशाला भरेगी गरीबों का पेट

Posted by - April 2, 2020 0
लखनऊ। वर्तमान में कोरोना महामारी से उत्पन्न हुए संकट से निपटने के लिए डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय ने…