Child labour

बाल श्रम के खिलाफ विश्व दिवस, नया हेल्पलाइन नंबर लॉन्च

116 0

नई दिल्ली: देश में सख्त कानून होने के बावजूद, बाल श्रम एक दुर्भाग्यपूर्ण प्रथा है जो अभी भी हमारे समाज में मौजूद है। जैसा कि हम आज विश्व बाल श्रम निषेध दिवस (World Child labour prohibition day) मना रहे हैं,  महाराष्ट्र (Maharashtra) ने इस प्रथा को रोकने के लिए एक और कदम उठाया है। महाराष्ट्र के श्रम मंत्री हसन मुश्रीफ ने जनता से बाल श्रम और संबंधित मामलों के बारे में 1098 डायल करके सूचित करने की अपील की है। हमें बाल श्रम (Child labour) को समाप्त करने के लिए सभी के समर्थन की आवश्यकता है। लोग 1098 हेल्पलाइन डायल करें और हमें सूचित करें

उन्होंने बताया कि मुशरिफ ने कहा कि मुखबिर का नाम गुप्त रखा जाएगा। अगर 14 साल से कम उम्र के बच्चे स्कूल जाने के बजाय काम करते हुए पाए जाते हैं, तो लोगों को हेल्पलाइन का उपयोग करके हमें सूचित करना चाहिए। सरकार ऐसे बच्चों को मुफ्त शिक्षा देगी। बाल श्रम दुनिया भर में एक गंभीर मुद्दा है। 2015 में, विश्व के नेताओं ने 2025 तक सभी प्रकार के बाल श्रम को समाप्त करने पर काम करने के लिए सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) को अपनाया था। जबकि हम निर्धारित तिथि के करीब पहुंच रहे हैं, नियोजित प्रयासों में हमारी सफलता अपेक्षा से धीमी प्रतीत होती है।

जून 2021 में, यूनिसेफ और अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) ने लोगों को दो दशकों में बाल श्रमिकों की संख्या में पहली वृद्धि के बारे में चेतावनी दी थी। 2016 और 2019 के बीच संयुक्त राष्ट्र सतत विकास लक्ष्यों को अपनाने के चार वर्षों के दौरान आंकड़े खराब हो गए। ILO और UNICEF द्वारा जारी वैश्विक अनुमानों के अनुसार, 2020 की शुरुआत में 97 मिलियन लड़कों और 63 मिलियन लड़कियों सहित 160 मिलियन से अधिक बच्चों को बाल श्रम करने के लिए मजबूर किया गया था। इसका मतलब है कि दस में से प्रत्येक 1 बच्चा इस प्रथा का हिस्सा था।

DND, दिल्ली-नोएडा डायरेक्ट फ्लाईवे के पास मिला हथगोला

इनमें से लगभग 79 मिलियन बच्चों को किसी न किसी प्रकार के खतरनाक कार्य करने के लिए बाध्य किया गया था। चौंकाने वाली बात यह है कि उप-सहारा अफ्रीका में 86 मिलियन बच्चे बाल श्रम में लगे हुए हैं।

प्रेम सम्बंध में रोड़ा बने प्रेमिका के भाई को उतारा मौत के घाट, प्रेमी गिरफ्तार

Related Post

सोशल मीडिया ने रानू मंडल को बनाया स्टार

सोशल मीडिया ने रानू मंडल को बनाया स्टार, मां-बेटी को मिलवाने में बना मददगार

Posted by - August 14, 2019 0
नई दिल्ली। पार्श्वगायिका लता मंगेशकर की आवाज से तुलना होने के बाद रानू मंडल अब किसी पहचान की मोहताज नहीं…