Cannabis

क्या भांग खाने से मिलता है फायदा? ये बीमारी होगी दूर

31 0

लखनऊ: भारत (India) देश में भांग नशे के लिए काफी चर्चित है। इसका शब्द सुनते ही सबसे पहली बात जो दिमाग में आती है वह है नशा। देश में इसका उपयोग ज्यादातर महाशिवरात्रि (Mahashivratri) और होली (Holi) के त्योहार में किया जाता है। इन त्यौहार में भांग (Cannabis) का उपयोग ठंडाई (Thandai) से लेकर बर्फी, पेड़ा आदि में भी किया जाता है। इसके अलावा कई लोग इसका उपयोग आये दिन नशे के रूप में करते रहे हैं। लेकिन आपको हम यहां भांग के कुछ औषधीय गुणों को भी बताएंगे।

बढ़ती उम्र के साथ बालों से है परेशान, तो देखें उपाए

दुष्प्रभावों या जोखिमों के अलावा, भांग या भांग, औषधीय उद्देश्य के लिए और आयुर्वेद चिकित्सक की सलाह पर उपयोग किए जाने पर बहुत सारे लाभ भी प्रदान करता है। भांग का पौधा हिमालय में खोजा गया था और वेदों में भी इसका उल्लेख है। भांग आंतों की अवशोषण क्षमता को बढ़ाता है। आयुर्वेद में पारंपरिक रूप से पाचन संबंधी मुद्दों, सिरदर्द, दर्द और चिंता के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है।

नींद की समस्या में उपाय

आयुर्वेद विशेषज्ञ कहते हैं, “खसखस आदि के साथ बेहतर नींद के लिए भांग का इस्तेमाल आमतौर पर अच्छी नींद लाने के लिए किया जाता था, खासकर उन लोगों के लिए जो थके हुए, चिंतित या किसी कारण से डरे हुए हैं कि वे ठीक से सो नहीं पा रहे हैं।”

दर्दनाक बवासीर को प्रबंधित करने में मदद करता है

डॉ गांधी कहते हैं कि भांग बवासीर में बहुत प्रभावी है और इसे बाहरी रूप से लगाया जा सकता है और साथ ही राहत के लिए आंतरिक रूप से सेवन किया जा सकता है। “आयुर्वेद में पाइल्स एक बहुत ही जटिल समस्या है, इसमें समा पित्त नाम की चीज बढ़ जाती है जो फिर से आपके आंत के कार्य से संबंधित होती है। इसे बाहरी रूप से भी लगाया जाता है क्योंकि यह दर्द निवारक है। जिन लोगों को बहुत दर्द होता है, वे इसके आवेदन से लाभान्वित होते हैं।

Related Post

सिप्रमी

सिप्ला ने ‘कोविड-19’  के उपचार के लिए बाजार में उतारी ‘ सिप्रमी’

Posted by - June 22, 2020 0
मुम्बई। भारतीय दवा निर्माता कंपनी सिप्ला ने ‘कोविड-19’ के संक्रमितों के उपचार के लिए सिप्रमी के ब्रांड नाम से जेनेरिक…