Uma Mishra

कूड़ा बीनने वाले बच्चों के बीच शिक्षा की लौ जला रहीं हैं उमा मिश्रा

1165 0

कानपुर। कानपुर जिले के जवाहर नगर निवासी उमा मिश्रा (Uma Mishra) कूड़ा बीनने वाले बच्चों व असहाय महिलाओं के लिए आशा की किरण बन गयी हैं ।  समाजसेवा को जीवन का लक्ष्य बनाकर उमा कूड़ा बीनने वाले और भीख मांगने वाले बच्चों को पढ़ाती हैं।

उमा मिश्रा (Uma Mishra) गरीब बच्चों का विभिन्न स्कूलों में एडमिशन कराती हैं। गीता पार्क के पीछे एक गूदड़ बस्ती है, जो स्मैकिया बस्ती के नाम से बदनाम है। वहां के बच्चे भी जुआ खेलते हैं। इस इलाके में चोरी छिपे वेश्यावृत्ति का काम हो रहा था। इस इलाके में शिक्षा और सम्मान की लौ उमा ने जलाई। बच्चों को गंदगी के दलदल से बाहर निकाला। तब बच्चों ने ही इलाके में चोरी छुपे हो रही वेश्यावृत्ति की जानकारी दी।

सर्दियों में ऐसे बनाएं मूंग दाल हलवा, नोट करें रेस्पी

इस पर उमा वेश्यावृत्ति में लिप्त महिलाओं से मिलीं और उन्हें आत्मनिर्भर बनाने का कठिन लक्ष्य तय किया जिसमें वह सफल हुईं। इन महिलाओं को सिलाई-कढ़ाई-बुनाई में पारंगत किया। दो साल पहले श्री बालाजी फाउंडेशन की स्थापना की, जिसका आफिस मंधना में है। फंड के नाम पर किसी से दान नहीं लेती हैं। अपने पास से ही पैसा खर्च कर समाज के कार्य में लगाती हैं।

Loading...
loading...

Related Post

राष्ट्रीय युवा महोत्सव-2020 : अब फिट इंडिया दिवस के रूप में मनेगा खेल दिवस- किरेन रिजिजू

Posted by - January 12, 2020 0
लखनऊ। केंद्रीय खेल व युवा कल्याण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) किरेन रिजिजू ने रविवार को कहा कि अब से हर…
राज्य विद्युत उपभोक्ता परिषद

गारंटी अवधि में खराब एलईडी बल्ब बदले जाएं: राज्य विद्युत उपभोक्ता परिषद

Posted by - December 13, 2019 0
लखनऊ। राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस 14 दिसंबर की पूर्व संध्या पर उप्र राज्य विद्युत उपभोक्ता परिषद के अध्यक्ष व राज्य…

महानता और संस्कृति में महिलाओं का होता है विशेष स्थान, जानें इनसे जुड़ी रोचक बातें

Posted by - May 31, 2019 0
डेस्क। किसी भी देश की महानता और संस्कृति में महिलाओं का विशेष स्थान होता है और हमारे तो वेदों में…