झड़ते बालों की समस्या से है परेशान? अपनाए ये 5 आयुर्वेदिक नुस्खे

388 0

हेल्थ डेस्क.   लगभग हर उम्र के लोगों को बाल झड़ने की समस्या का सामना करना पड़ता है. खराब जीवनशैली, खान-पान, प्रदूषण और केमिकल युक्त हेयर प्रोडक्ट के कारण भी आजकल लोगों को इस समस्या का सामना करना पड़ रहा है. पुरुष हो या महिलाए दोनों में बाल झड़ने की समस्या देखने को मिलती है. ऐसे में अगर आप भी इस समस्या का शिकार हैं, तो हम आपको इसके कुछ प्राकृतिक और आयुर्वेदिक उपचार बता रहे हैं जिनको अपनाने से आपके बाल फिर से घने और मजबूत बन जाएँगे.

इस दिन होगा साल का अंतिम चंद्र ग्रहण, जानें मानव जीवन पर इसका प्रभाव

बाल झड़ने से बचाने के लिए 5 आयुर्वेदिक नुस्खे:

भृंगराज

यह बालों के विकास के लिए सबसे लोकप्रिय जड़ी बूटियों में से एक है. भृंगराज को आमतौर पर “झूठी डेज़ी” के रूप में जाना जाता है. यह पौधों के सूरजमुखी परिवार के अंतर्गत आता है. इससे निकाला गया तेल बालों के विकास को बढ़ावा देता है. यह ड्राई स्कैल्प और डैंड्रफ को भी रोकता है. इसका उपयोग तेल के रूप में किया जाता है.

आंवला

आंवला विटामिन सी से समृद्ध है. ये पोषक तत्व बालों को बढ़ाने में मदद करता है साथ ही बालों में चमक भी लाता है. विटामिन सी लोहे को अवशोषित करने में मदद करता है जिससे कि आपके बालों की जड़ें मजबूत और स्वस्थ रहती हैं. आंवला उम्र से पहले होने वाले सफ़ेद बालों को उगने से रोकता है. रात को आंवले का पॉवडर पानी में भिगो कर रख दें, फिर सुबह इसका पानी निथार दें. अब इस पॉवडर में 1-2 कागज़ी नींबू निचोड़ कर डालें. फिर इस पेस्ट से बालों की मसाज करें.

 नींबू और नारियल तेल

नींबू और नारियल बाल झड़ने की दवा है. बालों के झ़ड़ने या टूटने पर सिर में नींबू के रस में दो गुना नारियल का तेल मिलाकर अंगुलियों की अग्रिम पोरों से धीरे-धीरे बालों की मालिश करने से बाल झ़ड़ने बाल झड़ने बन्द हो जायेंगे. ये घरेलू नुस्ख़ा बालों को झड़ने से रोकने में मदद करता है. या तो नींबू के रस में बड़ व बरगद की जटा पीसकर पेस्ट बनाए. अब इससे बालों को धोएं, फिर नारियल का तेल लगाएं, ऐसा करने से भी बाल झड़ने बंद होने लगते हैं.

प्याज का रस

प्याज में जीवाणुरोधी गुण होते हैं जिससे बालों की बैक्टीरिया सम्बन्धी समस्या को खत्म करने में मदद मिलती है. इसमें सल्फर की मात्रा बहुत ज़्यादा होती है जिससे रक्त परिसंचरण में सुधार होता है और बालों को झड़ने से रोकने में मदद मिलती है. बालो के रोम के उपचार के लिए भी सल्फर को जाना जाता है. प्याज के रस में सल्फर की मात्रा होने से ये टिशु में मौजूद कोलाजेन के उत्पादन को बढ़ावा देते है.

ब्राह्मी

ब्राह्मी को ‘वाटरहाइसॉप’ के नाम से भी जाना जाता है. यह हर्बल दवा एंटीऑक्सिडेंट में अत्यधिक समृद्ध है जो बालों को समय से पहले बूढ़ा होने से रोकता है. यह बालों के रोम को भी मजबूत करता है और बालों के विकास को बढ़ावा देता है. यह तनाव को भी कम करता है, जो बालों के झड़ने का एक प्रमुख कारण है.

Loading...
loading...

Related Post

US: जो बाइडेन एक कदम आगे, प्रदर्शनों के बीच ह‍िंसा की आशंका

Posted by - November 5, 2020 0
अंतर्राष्ट्रीय डेस्क.   अमेरिका के राष्ट्रपति चुनावों पर इस वक़्त पूरी दुनिया की नजर है. अमेरिकी चुनावों में नतीजा अभी तक…