संजना

सहारनपुर की बिटिया संजना के जुनून की गर्मी ने चुनौतियों के पहाड़ पिघला दिए

507 0

लखनऊ। आज भले ही हमारा देश व प्रदेश आधुनिक युग में प्रवेश कर चुका है, लेकिन पश्चिमी उत्तर प्रदेश में आज भी बेटियों का घर से निकलना बड़ी चुनौती है।

संजना की कामयाबी का सफर शुरू हुआ तो रूढ़िवाद की बेड़ियां भी टूट गईं

ऐसे में पश्चिमी यूपी के सहारपुर जिले की किसी लड़की का बॉडी बिल्डिंग के मंच पर पहुंचकर बड़ा मुकाम हासिल करना कतई आसान न था, लेकिन छोटे से शहर की इस बिटिया संजना ने यह कर दिखाया है। भले ही समाज ने राह में रोड़े भी बिछाए और ताने भी मारे, लेकिन संजना के जुनून की गर्मी ने चुनौतियों के पहाड़ भी पिघला दिए। संजना की कामयाबी का सफर शुरू हुआ तो रूढ़िवाद की बेड़ियां भी टूट गईं और उनके प्रति बनी समाज की नकारात्मक धारणा भी है।

पीएम मोदी जन औषधि दिवस पर बोले- कोरोना की अफवाहों से बचें, नमस्ते की आदत डालें

मिस इंडिया फिटनेस मॉडल से लेकर मिस एशिया का खिताब संजना ने अपने नाम किया

मिस इंडिया फिटनेस मॉडल से लेकर मिस एशिया का खिताब संजना ने अपने नाम किया है। देश की अव्वल महिला बॉडी बिल्डर बन गईं हैं। उनकी कामयाबी की दास्तां अन्य के लिए प्रेरणा है। उत्तर प्रदेश की बात करें तो लड़कियों का बॉडी बिल्डिंग जैसे क्षेत्र में आना आज भी कोई आसान बात नहीं है। पता करें तो पाएंगे कि उप्र में गिनती की ही युवतियां इस विधा में सामने आईं।

महिला दिवस : आधी आबादी के जिम्मे केरल में सीएम की सुरक्षा, रेल संचालन और थाने

सहारनपुर के नवीन नगर निवासी संजना (संजू) का नाम इनमें सबसे ऊपर है। बकौल संजना, आम धारणा है कि बॉडी बिल्डिंग लड़कों का काम है, इसे लड़कियां नहीं कर सकतीं। मैंने इस चुनौती को स्वीकारा और साबित भी किया। शुरू में समाज के रुख से परिवार के लोग प्रभावित हुए, लेकिन घर वालों ने भरोसा कायम रखा।

25 वर्षीय संजना वर्तमान में सफल कस्टम ऑफिसर

संजना बताती हैं कि लड़कियों को समाज और परिवार का सहयोग नहीं मिलता, इसलिए वे इस क्षेत्र में आगे नहीं निकल पातीं। जबकि बॉडी बिल्डिंग में अपार संभावनाएं हैं। उन्होंने अपनी कामयाबी का श्रेय माता-पिता और ट्रेनर्स को दिया। खेल कहें या शौक, संजना ने केवल बॉडी बिल्डिंग में ही मंजिल नहीं पाई वरन करियर के रूप में उन्होंने कस्टम जैसे क्षेत्र को चुना। 25 वर्षीय संजना वर्तमान में सफल कस्टम ऑफिसर हैं।

2017, 2018, 2019 में लगातार तीन बार बॉडी बिल्डिंग की मिस इंडिया प्रतियोगिता का खिताब अपने नाम किया

सहारनपुर में जन्मीं संजना को पापा राजकुमार और मम्मी ऊषा रानी ने सदैव प्रेरित किया। 158 सेमी. ऊंचाई और 53 किग्रा भारवर्ग में बॉडी बिल्डिंग करने वाली संजना ने 2018 में मिस एशिया प्रतियोगिता में गोल्ड जीतकर खुद को देश में सबसे ऊंचे पायदान पर स्थापित किया। 2018 मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता में ब्रांज और 2017, 2018, 2019 में लगातार तीन बार बॉडी बिल्डिंग की मिस इंडिया प्रतियोगिता का खिताब अपने नाम किया। सिलसिला शुरू हुआ 2014 में जब उन्होंने मिस नार्थ इंडिया प्रतियोगिता में गोल्ड जीता। 2018 में मिस यूपी गोल्ड, मिस इंडिया फिटनेस मॉडल में गोल्ड, मिस एशिया गोल्ड, मिस वर्ल्ड ब्रांज, वर्ल्ड चैंपियनशिप में बेस्ट मिक्स पेयर चतुर्थ स्थान, 2019 में सीनियर नेशनल चैंपियनशिप गोल्ड, फेडरेशन कप 2020 में गोल्ड मेडल उन्होंने अपने नाम किए।

Related Post