Sharad Pawar

राष्ट्रपति पद के लिए शरद पवार को कांग्रेस क्यों बनाना चाह रही संयुक्त विपक्षी उम्मीदवार?

157 0

नई दिल्ली: कई दिग्गज राजनीतिक नेताओं के राष्ट्रपति चुनाव (Presidential election 2022) के लिए दौड़ में होने की अफवाह है, जो अगले महीने होने वाले हैं। इन अफवाहों के बीच, रिपोर्ट्स बताती हैं कि एनसीपी प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) विपक्ष द्वारा संयुक्त राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार होंगे। कांग्रेस (Congress) आगामी राष्ट्रपति चुनाव के लिए संयुक्त विपक्षी उम्मीदवार पर जोर दे रही है। पार्टी ने जहां भी सरकार में है, अपने सहयोगियों को शरद पवार (Sharad Pawar) को अपने समर्थन से अवगत करा दिया है।

कई कांग्रेस सदस्य, जैसे पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी और वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, पूर्व में शरद पवार के पास पहुंचे, संभवतः आगामी राष्ट्रपति चुनावों के लिए राकांपा अध्यक्ष के नामांकन पर चर्चा कर रहे थे। अगर शरद पवार रिंग में उतरते हैं तो कांग्रेस पूर्ण समर्थन में है, जबकि ममता बनर्जी ने 15 जून को विपक्षी दलों की बैठक बुलाई है। उसी दिन, पवार समान विचारधारा वाले दलों के नेताओं से मुलाकात करेंगे। हालांकि, एक अध्यक्ष के रूप में उनके लिए सुझावों पर पवार की राय अलग है।

मौजूदा वैश्विक मंदी में भारत के लिए उम्मीद की किरण: Zerodha CEO

कांग्रेस के एक आधिकारिक बयान में पढ़ा गया था, “कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शरद पवार, ममता बनर्जी और कुछ अन्य विपक्षी नेताओं के साथ आगामी राष्ट्रपति चुनाव के मुद्दे पर चर्चा की थी।” इस बीच, शरद पवार ने कहा है कि वह जुलाई में होने वाले आगामी राष्ट्रपति चुनाव की दौड़ में शामिल नहीं होंगे। विपक्षी दलों के लिए भ्रम की स्थिति पैदा करते हुए, पवार ने सोमवार को राकांपा नेताओं के साथ बैठक के दौरान राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार होने की खबरों को खारिज कर दिया।

पेट से जुड़ी हर समस्या को दूर करेगा वज्रासन

Related Post

भारत बायोटेक को झटका, ब्राजील ने रद्द की कोवैक्सीन की डील, राष्ट्रपति पर भ्रष्टाचार का आरोप

Posted by - June 30, 2021 0
कोरोना संकट के बीच भारतीय वैक्सीन निर्माता कंपनी भारत बायोटेक को झटका लगा है, ब्राजील ने 32.4 करोड़ की डील…
CM YOGI

अब बिना टेंडर सरकारी अस्पताल खरीद सकेंगे दवाइयां और उपकरण

Posted by - April 17, 2021 0
लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना महामारी की आपात परिस्थितियों को देखते हुए बड़ा फैसला किया है। सरकारी अस्पतालों (Government…