राज्य और जिले की सीमाओं को करें सील

राज्य और जिले की सीमाओं को करें सील : केंद्रीय गृह मंत्रालय

136 0

नई दिल्ली।केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को राज्य और जिलों की सीमाओं को सील करने का निर्देश दिया है। कहा कि वह प्रवासी कामगारों-मजदूरों सहित गरीबों और जरूरतमंद लोगों के रहने और खाने की पर्याप्त व्यवस्था युद्धस्तर पर की जाए ।  इसके साथ ही मंत्रालय ने राज्यों को निर्देश दिया है कि जिन लोगों ने लॉकडाउन का उल्लंघन कर इस अवधि के दौरान यात्रा की है। उन्‍हें सरकारी क्‍वारंटाइन केंद्रों में न्यूनतम 14 दिन के लिए रखा जाएगा। क्‍वारंटाइन के दौरान इन व्यक्तियों की निगरानी करने के लिए राज्यों को विस्तृत निर्देश जारी किए गए हैं।

कैबिनेट सचिव राजीव गौबा और गृह सचिव अजय भल्ला ने रविवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राज्यों के मुख्य सचिवों के साथ स्थिति की समीक्षा

कैबिनेट सचिव राजीव गौबा और गृह सचिव अजय भल्ला ने रविवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राज्यों के मुख्य सचिवों के साथ स्थिति की समीक्षा की। इस दौरान केंद्रीय अधिकारियों ने पाया सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा दिशा-निर्देशों पर प्रभावकारी ढंग से अमल करने और आवश्यक आपूर्ति भी निरंतर सुनिश्चित किए जाने पर संतोष जताया है।

कोरोना के खिलाफ जंग के लिए वरुण धवन ने दान किया 55 लाख रुपया

राजधानी दिल्ली समेत देश के कुछ हिस्सों में कामगारों-मजदूरों की आवाजाही के मद्देनजर राज्यों को निर्देश दिया

राजधानी दिल्ली समेत देश के कुछ हिस्सों में कामगारों-मजदूरों की आवाजाही के मद्देनजर राज्यों को निर्देश दिया गया कि वह जिलों और राज्यों की सीमाओं को प्रभावकारी ढंग से सील करें। साथ ही राज्यों को यह सुनिश्चित करने का निर्देश भी दिया गया कि शहरों या राजमार्गों पर लोगों की आवाजाही नही होनी चाहिए। केवल माल की आवाजाही की ही अनुमति दी जानी चाहिए। शीर्ष अधिकारियों ने इन निर्देशों पर अमल के लिए जिलाधिकारियों और पुलिस अधीक्षकों की व्यक्तिगत रूप से जवाबदेह तय करने को कहा है।

राज्य आपदा राहत कोष में राज्यों के पास पर्याप्त धनराशि उपलब्ध 

राज्यों को सलाह दी गई कि वह प्रवासी श्रमिकों सहित गरीबों और जरूरतमंद लोगों के भोजन एवं आश्रय की पर्याप्त व्यवस्था उनके कार्यस्‍थलों पर ही की जाए। केंद्र ने इस उद्देश्य के लिए राज्य आपदा राहत कोष (एसडीआरएफ) का इस्तेमाल करने के लिए गत शनिवार को ही आदेश जारी किए हैं । इस मद में राज्यों के पास पर्याप्त धनराशि उपलब्ध है।

राज्यों से यह भी कहा गया है कि वे लॉकडाउन की अवधि के दौरान बिना किसी कटौती के श्रमिकों के कार्यस्थल पर उनके पारिश्रमिक या वेतन का समय पर भुगतान सुनिश्चित करें। इस अवधि के लिए श्रमिकों से घर का किराया या हाउस रेंट देने की मांग नहीं की जानी चाहिए। उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए जो मजदूरों या विद्यार्थियों को परिसर खाली करने के लिए कह रहे हैं।

Loading...
loading...

Related Post

ऑनलाइन डेटिंग ऐप लॉन्च

लॉकडाउन के बीच युवाओं के लिए ऑनलाइन डेटिंग ऐप लॉन्च, जानें फीचर्स

Posted by - May 17, 2020 0
नई दिल्ली। लॉकडाउन के दौरान इंटरनेट पर युवाओं के लिए एक अच्छा पार्टनर, अच्छा दोस्त ढूंढने और अकेलापन बांटने के…
एशियन कुश्ती चैंपियनशिप

एशियन कुश्ती चैंपियनशिप : साक्षी ने सिल्वर, तो विनेश का कांस्य पदक पर किया कब्जा

Posted by - February 22, 2020 0
नई दिल्ली। साक्षी मलिक ने आसान ड्रॉ का फायदा उठाते हुए रजत पदक हासिल किया है। जबकि विनेश फोगाट फिर…