Sukhjinder Singh Randhawa

पंजाब के जेल मंत्री ने मुख्तार अंसारी के परिवार से की गुपचुप बात, वीडियो वायरल

116 0
लखनऊ। पंजाब के जेल मंत्री सुखजिंदर रंधावा (Punjab Jail Minister) का लखनऊ के एक पांच सितारा होटल में खातिरदारी का वीडियो वायरल हो रहा है। सूत्रों की मानें तो जेल मंत्री के मेहमान नवाजी का जिम्मा मुख्तार अंसारी के एक रिश्तेदार और लखनऊ में उसका काम देख रहे डालीबाग निवासी एक रईसजादे के पास था।

पंजाब के जेल मंत्री सुखजिंदर रंधावा (Punjab Jail Minister) का लखनऊ के एक पांच सितारा होटल में खातिरदारी का एक वीडियो वायरल हो रहा है। हालांकि, ऩ्यूज गंज इस वायरल वीडियो की पुष्टि नहीं करता है। लेकिन, पुख्ता सूत्रों की मानें तो जेल मंत्री के मेहमान नवाजी का जिम्मा बीएसएनल से जुड़े मुख्तार अंसारी के एक रिश्तेदार व लखनऊ में उसका काम देख रहे डालीबाग निवासी एक रईसजादे के पास था। इस मौके पर जेल मंत्री के साथ उनके दो आईएएस अफसर और अन्य सरकारी अधिकारी भी मौजूद रहे। बताया जा रहा है कि यह लोग गोपनीय तरीके से कई जगहों पर गए और लोगों से मुलाकात भी की।

मुख्तार अंसारी के परिवार से मिले जेल मंत्री

जेल मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा (Punjab Jail Minister) का गुपचुप दौरा चर्चा का विषय बना हुआ है। दावा किया जा रहा है कि लखनऊ आकर उन्होंने मुख्तार अंसारी के परिवार से मुलाकात की। मुख्तार अंसारी पिछले 2 साल से पंजाब की जेल में बंद हैं। उन्हें उत्तर प्रदेश लाने के लिए योगी सरकार पूरी कोशिश कर रही है। कैप्टन अमरिंदर सिंह सरकार पर मुख्तार को जान-बूझकर बचाने का आरोप लग रहा है।

मुख्तार का गुर्गा चला रहा था जेल मंत्री की गाड़ी

गुरुवार को चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट पहुंचने पर मुख्तार की एक टीम ने जेल मंत्री को रिसीव किया जिस गाड़ी में जेल मंत्री बैठे थे, वह मुख्तार अंसारी से संबंधित थी। आरोप है कि सुखजिंदर की गाड़ी चला रहा शख्स अब्बास नाम का था, जो मुख्तार अंसारी गैंग का सदस्य है। सोशल मीडिया में मंत्री के लखनऊ दौरे का वीडियो और तस्वीरें वायरल हो रही हैं। मंत्री को लेने के लिए फॉर्च्यूनर यूपी 32 जीजेड 8356 और एक मर्सिडीज ईसीरीन यूपी 32 जेएस 5900 गई थी। बता दें कि रंधावा मर्सिडीज में बैठ कर आए थे।

Loading...
loading...

Related Post

एटीएस को सौदागार सदर की पत्नी की तलाश

एटीएस को सौदागार सदर की पत्नी की तलाश

Posted by - March 30, 2021 0
जाली नोटों का अवैध कारोबार करने वाले तस्करों ने लॉकाडाउन के बाद सूबे में एक बार फिर अपनी जड़ें मजबूत करनी शुरू कर दी है। इसका खुलासा आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) द्वारा पांच दिन पूर्व नोएडा से गिरफ्तार किये गये जाली नोटों के सौदागर सदर अली ने पूछताछ में किया है एटीएस को सदर की फरार पत्नी की सरगर्मी से तलाश है उस पर पच्चीस हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया है इसके साथ ही एटीएस सदर के अन्य साथियों की भी तलाश की जा रही है। पुलिस अधीक्षक राजेश सिंह की ब्रेन हैमरेज से हुई मौत एटीएस के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक सदर अली की पत्नी मुमताज की तलाश में टीमें लगायी गयी हैं। गिरफ्तार किये गये सदर अली ने अपना नेटवर्क बरेली, कानपुर नगर व लखनऊ समेत अन्य शहरों में फैला रखा था। वह यूपी के कई तस्करों को पाकिस्तान से आने वाले जाली नोटों की सप्लाई करता था। बीते कुछ माह में भी नकली नोटों की सप्लाई किए जाने के तथ्य सामने आए हैं। सदर के जरिये इस गिरोह से जुड़े सप्लायरों की तलाश की जा रही है। पूर्व में पकड़े गए कई तस्करों के बारे में भी पड़ताल शुरू की गई है। गिरफ्तार किये गये तस्कर सदर से पूछताछ में खुलासा हुआ है कि यूपी में बांदा से जुड़े कई गिरोह पश्चिम बंगाल से जाली नोट लाकर उनकी सप्लाई लखनऊ समेत अन्य शहरों, एनसीआर व दिल्ली तक कर रहे हैं। पूर्व में इस गिरोह के कई सदस्य पूर्व में पकड़े भी जा चुके हैं। उनसे भी पूछताछ में सामने आया था कि जाली नोट पाकिस्तान से बंगलादेश व नेपाल के जरिये यहां सप्लाई किए जा रहे हैं।गौरतलब है कि जाली नोटों की तस्करी में वांछित चल रहे मालदा (पश्चिम बंगाल) निवासी 25 हजार रुपये के इनामी सदर अली को 24 मार्च को एटीएस ने नोएडा के महामाया फ्लाई ओवर के पास गरिफ्तार किया था। रेलवे ट्रैक पर मिला महिला का शव…