pulse

जनवरी से फरवरी के बीच दाल के रेट में आया उछाल,बिक्री पर पड़ा असर

474 0

लखनऊ। जिले के बाजारों में दाल के दाम में उछाल देखने को मिल रहा है। करीब 20 दिन पहले दाल के रेट में गिरावट देखने को मिली थी। इसके बाद दाल के रेट में एक बार फिर बढ़ोतरी देखने को मिल रही है, जिससे रोजमर्रा के भोजन में शामिल करने वाले दाल को लेकर लोगों को चिंता सताने लगी है।

पेट्रोल-डीजल की कीमत में बढ़ोतरी लंबे अंतराल तक नहीं रहेगी-संजय जोशी

अरहर दाल की कीमतों में फिर तेजी आई है। 15 दिन में थाेक बाजार में दाम 81 रुपए से बढ़कर 96 रुपए किलो तक जा पहुंचे हैं। कीमतें बढ़ने का कारण बिक्री पर भी असर देखने को मिल रहा है। एक तरफ जहां  दिन प्रतिदिन खाद्य सामग्री के रेट बढ़ते देखने को मिल रहा हैं, वही दाल की बात करें तो बीते दिनों की अपेक्षा दाल के रेट में उछाल से लोगों के लिए चिंता का विषय बना हुआ है।

वही इसको लेकर सरकार तमाम कोशिश भी कर रही है, जिससे दाल में बढ़ती रेट पर अंकुश लगाया जा सके। लखनऊ के डालीगंज बाजार में छोटे दुकानदार के बिक्री पर भी असर देखने को मिल रहा है, वही बड़े दुकानदारों का कहना है कि उनके बिक्री पर कोई फर्क नहीं पड़ा है, वहीं दुकानदारों ने बताया कि पहले की अपेक्षा दाल के रेट में उछाल आया है।

जनवरी से फरवरी के बीच दाल के रेट में आया उछाल:-

अरहर पुखराल- 84रु किलो से रु100 किलो

छिलका अरहर दाल – रु 54 किलो से रु 72 किलो

मसूर दाल – रु56 किलो से रु63 किलो

उड़द दाल – रु160 किलो से रु150 किलो

काली मसूर दाल- रु62 किलो से रु56 किलो

मलका दाल- रु53 किलो से रु63 किलो

चना दाल- रु53 किलो से रु63 किलो

हरा उड़द दाल रु170 किलो रु162 किलो

सिंघल कंपनी ने बताया कि दाल के रेट में पहले क्या अपेक्षा तेजी आई है, लेकिन थोक खरीदारों पर इसका कोई खास असर देखने को नहीं मिल रहा है। वहीं बताया कि जो बीते दिनों बिक्री का स्तर था ,वही बिक्री आज भी बरकरार है।

तिवारी ब्रदर्स कंपनी के महेश तिवारी ने बताया कि दाल के रेट में पहले की अपेक्षा उछाल देखने को मिल रहा है। वहीं इससे ग्राहकों पर भी फर्क देखने को मिल रहा है।

उन्होंने बताया कि जहां एक तरफ बाजार में नए दाल भी आ गए हैं, लेकिन इसके बावजूद भी नया और पुराना दाल एक ही भाव में बिक रहा हैं, जिसकी वजह से ग्राहकों की कमी देखने को मिल रही है।

Related Post