Priya Prakash Srivastava

यूपीपीएससी परीक्षा में झांसी की बेटी प्रिया प्रकाश श्रीवास्तव का एपीओ पद पर चयन

1869 0

झांसी। झांसी की बेटी प्रिया प्रकाश श्रीवास्तव (Priya Prakash Srivastava) उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (यूपीपीएससी) की वर्ष 2020 की परीक्षा में सहायक अभियोजन अधिकारी (एपीओ) के पद पर चयनित हुई हैं।  प्रिया प्रकाश श्रीवास्तव (Priya Prakash Srivastava)  ने इस परीक्षा में 10 वीं रैंकिंग हासिल कर झांसी जिले का नाम रोशन किया है।  प्रिया प्रकाश ने अपनी सफलता का श्रेय परीक्षा के लिए की गयी कड़ी मेहनत के साथ परिवार को दिया है।

मोहल्ला नयी बस्ती निवासी सुश्री प्रिया ने यूपीपीएससी2020 की परीक्षा में दो दिन पहले सफलता हासिल की है। इस पर कहा कि परीक्षा के लिए जितनी मेहनत की थी उससे यह तो पता था कि सफलता मिलेगी, लेकिन यह इतनी शानदार होगी इसका अंदाजा नहीं था। उन्होंने अपनी सफलता का श्रेय अपने माता माया देवी-पिता स्व.अधिवक्ता ओमप्रकाश श्रीवास्तव व भाई शुभम के सहयोग को दिया।

अजय देवगन की फिल्म ‘मैदान’ 15 अक्टूबर होगी रिलीज

 

सुश्री प्रिया ने अपने संघर्ष के दिनों को याद करते हुए बताया कि 2013 में पिता ओमप्रकाश श्रीवास्तव का साया सिर से उठ जाने के बाद उनके संघर्ष के दिन शुरु हो गए थे। इस दौरान उन्होंने 2013 से 2018 तक अपने पिता की विरासत को आगे बढ़ाते हुए झांसी कोर्ट में ही वकालत की। इस दौरान उन्होंने दुनिया और लोगों के व्यवहार को बहुत पास से देखा। दुखों का उनके साथ गहरा नाता रहा,लेकिन उन्होंने हौसला नहीं छोड़ा। यह भगवान शंकर की कृपा और उनके माता पिता का आर्शीवाद का फल था। जब कभी वह बहुत दुखी हुआ करती थी तो भगवान भोलेनाथ के पास बैठकर रो लिया करती थी। आज जब सफलता उनके कदमों में है तो सबकुछ बहुत आसान सा लग रहा है।

 

एपीओ के पद पर चयनित प्रिया ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा शिशु मंदिर से शुरु की और बाद में इण्टरमीडिएट तक भानीदेवी गोयल सरस्वती बालिका विद्या मंदिर से अपनी शिक्षा पूरी की। उसके बाद विपिन बिहारी डिग्री कॉलेज में 2012 में उन्होंने विज्ञान संकाय से स्नातक की शिक्षा पूरी की। एलएलबी की शिक्षा के लिए उन्हें बुन्देलखण्ड महाविद्यालय जाना पड़ा। वहां से 2015 में यह शिक्षा भी पूरी हुई। बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय में बाबू जगजीवनराम से उन्होंने 2017 में एलएलएम की डिग्री हासिल कर प्रयागराज में दो वर्ष तक तैयारी की। जहां सफलता के रुप में उन्हें यूपीपीएससी के माध्यम से 17 पदों में से टॉप टेन में स्थान मिला।

 

संकल्प की धनी और हाजिर जबाब प्रिया को अपने लक्ष्य की तैयारी के दौरान प्रयागराज में एक नया नाम भी मिला। जिद की पक्की प्रिया के ज्ञान को देखते हुए लोग उन्हें झांसी की रानी के नाम से भी बुलाते थे। ऐसा कोई भी प्रश्न कभी नहीं होता था जिसका उत्तर प्रिया के पास न होता हो। प्रिया कहा कि यह तो अभी शुरुआत है। भगवान शंकर की कृपा से जल्द ही इससे बडे पद पर वह पदस्थ होगी। तभी उनके संघर्ष का सच्चा फल उन्हें उनकी नजरों मिलेगा। इसके लिए संघर्ष अभी जारी रहेगा।

Related Post

Governor's question of honor

राज्यपाल के सम्मान का सवाल

Posted by - February 24, 2021 0
सियाराम पांडेय ‘शांत’ देश सबका है। राष्ट्रपति और राज्यपाल सबका होता है। संविधान सबका है। सर्वोच्च न्यायालय और न्यायालय सबके…
लोकभवन में अटल की प्रतिमा का अनावरण

लखनऊ: पीएम मोदी ने लोकभवन में किया अटल की प्रतिमा का अनावरण

Posted by - December 25, 2019 0
लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बुधवार को लोक भवन में पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेई की 95वीं जयंती पर…

जम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, पाक आतंकी जिंदा पकड़ा गया, एक ढ़ेर

Posted by - September 28, 2021 0
श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में भारतीय सेना को आंतकियों के खिलाफ कार्रवाई में बड़ी कामयाबी मिली है। सेना ने उरी में मैराथन ऑपरेशन…
कोविड-19

‘कोविड-19’ के खिलाफ वैश्विक जंग की कमान पीएम मोदी के हाथों में : जेपी नड्डा

Posted by - April 9, 2020 0
नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने गुरुवार को कहा कि ‘कोविड-19’ के खिलाफ वैश्विक जंग…